31.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021
अन्य
    5,623,189FansLike
    85,427,963FollowersFollow
    2,500,513FollowersFollow
    1,224,456FollowersFollow
    89,521,452FollowersFollow
    533,496SubscribersSubscribe

    जरा देखिए सरकार,  घोर नक्सल क्षेत्र की रविता मुंडा को शहर में लग रहा है यूं डर !

    “नक्सलवाद झारखंड का सबसे अहम समस्या है। नक्सली समाज की मुख्यधारा में लौट सके। उसके लिए नक्सल प्रभावित क्षेत्र की महिलाएं अगर शहर का रुख कर रही है, तो निश्चित तौर पर उसे संरक्षण की जरूरत है। सरायकेला- खरसावां जिला पुलिस प्रशासन को ऐसे मामलों पर गंभीरता दिखानी चाहिए और सरकार की प्रतिष्ठा कायम रखनी चाहिए…

    आदित्यपुर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। झारखंड में जल-जंगल और जमीन की सरकार बनी है। फिर क्यों रविता दर-दर की ठोकरें खा रही है ?  रविता आदिवासी महिला है। मैट्रिक तक पढ़ी- लिखी रविता पूर्वी सिंहभूम जिले के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र गुड़ाबांधा की रहने वाली है।

    पति की मौत के बाद गांव छोड़कर रविता शहर ये सोच कर आयी थी, कि अपना जीवन बसर कर सके। रविता मैट्रिक के बाद आगे पढ़ना चाहती थी लेकिन परिवार वालों ने जबरन उसकी शादी करवा दी।

    लेकिन दुर्भाग्यवश शादी के तीन माह बाद ही उसके का देहांत हो गया। उसके बाद रविता ने शहर का रुख किया। हार्डकोर नक्सली रहे कानू मुंडा की रिश्तेदार रविता वापिस अपने गांव नहीं लौटना चाहती।

    रविता मुंडा आदित्यपुर थाना अंतर्गत बेल्डी बस्ती में एक किराए के मकान में रहती है। और अमेजन कंपनी में हाउसकीपिंग का काम कर रही थी।

    लेकिन अचानक पिछले दिनों रविता को दलित, हरिजन और आदिवासी कह कर कंपनी प्रबंधन ने काम से निकाल दिया। रविता फरियाद लेकर आदित्यपुर थाना पहुंची।

    पिछले महीने के 18 तारीख से रविता थाना का चक्कर काट रही है, लेकिन अब तक किसी तरह की कोई कार्यवाई नहीं होने के बाद रविता अब टूट चुकी है। वह अपने गांव वापस नहीं लौटना चाहती।

    बकौल, रविता गांव क्या मुंह लेकर जाऊंगी। शहर यह सोच कर आई थी, कि अपने पैरों पर खड़ी होंउंगी। उसके बाद ही गांव लौटूंगी। क्योंकि गांव के दौर को काफी करीब से जिया है। लेकिन शहर इतना गंदा होगा यह सपने में भी नहीं सोचा था।

    वैसे आदित्यपुर थाना पुलिस ने रविता की शिकायत पर अमेजन कंपनी के कर्मचारी और अधिकारी को  आदित्यपुर थाना ने तलब किया था। जहां 7 दिनों के भीतर मामला सुलझाने का निर्देश आदित्यपुर थाना पुलिस ने दिया था।

    बावजूद इसके कंपनी प्रबंधन द्वारा किसी तरह की कोई कार्यवाई नहीं की गई। जिससे रविता टूट चुकी है और इंसाफ के लिए अभी भी दर-दर की ठोकरें खा रही है।

    रविता मुंडा बेहद ही संवेदनशील महिला है। उसने बताया कि जिस वक्त पूरे देश में लॉकडाउन के कारण सब कुछ बंद पड़ा था उस वक्त वह कंपनी के कर्मचारियों से लेकर अधिकारियों तक कि हर जरूरतों को पूरा करती थी कैंटीन से खाना पहुंचाने से लेकर नाश्ता चाय पानी झाड़ू पोछा हर तरह का काम करती थी।

    इतना ही नहीं, हर दिन अपने घर से कंपनी पैदल ही जाती थी। उस वक्त वह अछूत नहीं थी, लेकिन अब वह अछूत हो गई। झारखंड सरकार को ऐसे मामलों पर गंभीर होने की जरूरत है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    EMN Video News _You tube
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55
    Video thumbnail
    देखिए वायरल वीडियोः खाद की किल्लत से भड़के किसान, सड़क जामकर पुलिस को जमकर पीटा
    00:19
    Video thumbnail
    नालंदा पंचायत चुनाव 2021ः पुनः बनेगे थरथरी प्रखंड प्रमुख
    02:18
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव प्रक्रिया की भेड़ियाधसान भीड़ में पुलिस-प्रशासन भी नंगा
    04:00
    Video thumbnail
    नगरनौसाः वीडियो एलबम के गानों की शूटिंग देखने को उमड़ी भीड़
    04:19
    Video thumbnail
    बिहारः देखिए सनसनीखेज वीडियो- 'नाव पर सवार शिक्षा'- कैसे मिसाल बने नाविक शिक्षक
    07:10