JPSC को लेकर विधानसभा में भारी हंगामे के बीच 2936 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश, सदन सोमवार तक स्थगित

 
JPSC को लेकर विधानसभा में भारी हंगामे के बीच 2936 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश, सदन सोमवार तक स्थगित

रांची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। झारखंड विधानसभा में विपक्षी दलों के भारी हंगामे के बीच वित्त मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव ने चालू वित्तीय वर्ष के लिए 2,936 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश किया। इस बजट पर कटौती प्रस्ताव बाद में आएगी।

चालू वित्तीय वर्ष में यह दूसरा अनुपूरक बजट पेश किया गया। इस बीच भारी हंगामे के कारण सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए सदन स्थगित कर दी गयी।

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा विधायक भानु प्रताप शाही ने जेपीएससी (JPSC) मामले पर मुख्यमंत्री से बयान देने को कहा।

भानु प्रताप ने कहा कि भाजपा की केवल तीन मांग है, पीटी परीक्षा रद्द हो, जेपीएससी अध्यक्ष को बर्खासत किया जाए और अनियमितता की सीबीआई जांच करायी जाए।

इनका साथ माले विधायक विनोद सिंह ने भी दिया और कहा कि छात्र-युवा सड़क पर हैं। सदन चल रहा है इसलिए सरकार को जवाब देना चाहिए।

झामुमो विधायक सुदीप सोनू ने विधायक मनीष जायसवाल के सवाल पर को आगे बढ़ाते हुए कहा कि वे भी डीवीसी की मनमानी से परेशान हैं। इसलिए अगर विपक्ष एकमत और सहमत है तो हम डीवीसी पर लगाम लगाने का कदम उठा सकते हैं। मगर केवल हंगामा करने और मांग करने से कुछ नहीं होगा। पूरे सदन को एकमत होकर केंद्र सरकार से इस मामले में बात करनी चाहिए। सभी इसमें सरकार को साथ दें।

JPSC को लेकर विधानसभा में भारी हंगामे के बीच 2936 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश, सदन सोमवार तक स्थगित

JPSC पीटी परीक्षा रद्द करने को लेकर धरना पर बैठे भाजपा विधायक

उधर, विधानसभा परिसर में भाजपा विधायक जेपीएससी पीटी परीक्षा रद्द करने और जेपीएससी अध्यक्ष अमिताभ चौधरी को हटाने की मांग को लेकर धरना पर बैठ गए।

भाजपा विधायक अनंत ओझा ने कहा कि जिस प्रकार से हेमंत सोरेन सरकार प्रदेश के युवाओं को छल रही है। अभ्यार्थी की मांग सुनने के बजाए लाठी-डंडा चला रही है। यह युवाओं के भविष्य का सवाल है, इसलिए जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जाती है तब तक उनका विरोध सदन और सदन के बाहर जारी रहेगा।