32.1 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021
अन्य
    5,623,189FansLike
    85,427,963FollowersFollow
    2,500,513FollowersFollow
    1,224,456FollowersFollow
    89,521,452FollowersFollow
    533,496SubscribersSubscribe

    विडम्बनाः इधर अपनों से नहीं मिला कंधा, उधर मुस्लिमों ने उठाई हिंदू महिला की अर्थी

    एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क। इस वैश्विक कोविड-19 संक्रमण बीमारी ने व्यवस्था के साथ सामाजिक ताना-बाना और मानवता को भी झकझोर कर रख दिया है। गोला में जहां एक प्रवासी मजदूर के शव को कंधा तक नसीब नहीं हुआ, वहीं रामगढ़ में मुस्लिम समाज के लोगों ने एक महिला की अर्थी उठा पूरे हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार को अंजाम देकर मिसाल कायम की।

    खबर है कि गोला प्रखंड में बरलंगा थानार्गत नावाडीह कादलाटांड़ में एक मार्मिक दृश्य सामने आया। जब एक प्रवासी जितेंद्र के शव को चार कंधे भी नसीब नहीं हुए। परिजनों ने ठेले पर शव को श्मशान घाट पहुंचाया।

    एक हजार से अधिक आबादी वाले गांव में एक प्रवासी मजदूर को कोरोना के भय से किसी ने कंधा देना मुनासिब ना समझा। विवश होकर मृतक के भाई और उनके दो मामा कुल तीन लोग ठेले पर शव को लाद कर श्मशान घाट पहुंचे।

    यहां तक प्रवासी मजदूर को मुखाग्नि भी नसीब नहीं हुआ। जेसीबी से गड्ढा खोदकर शव को दफना दिया गया। यह पूरी घटना इतनी हृदय विदारक थी कि लोगों की आंखें छलक आई।

    कहा जाता है कि नावाडीह गांव निवासी प्रवासी मजदूर जितेंद्र साहू ने शुक्रवार को समाज और परिजनों से उपेक्षित होकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। पोस्टमार्टम के बाद मृतक का बड़ा भाई उमेश्वर साव भाई का शव लेकर गांव पहुंचा, तो काफी रात हो चुकी थी।

    सुबह दस बजे तक उमेश्वर गांव के लोगों का इंतजार करता रहा। लेकिन शव को देखने तक कोई नहीं पहुंचा। वह अर्थी उठाने के लिए लोगों को पैसे भी देने को तैयार था। लेकिन जितेंद्र की अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए कोई नहीं आया।

    उधर, मुस्लिम समाज के लोगों ने हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल प्रस्तुत करते हुए एक हिन्दू महिला (55 वर्ष) का हिन्दू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया। जिसकी सर्वत्र प्रशंसा हो रही है।

    खबर है कि रामगढ़ नगर के दुसाध मुहल्ला निवासी सूबेदार नामक व्यक्ति की पत्नी का अचानक स्वर्गवास हो गया।लॉकडाउन होने के कारण सूबेदार का कोई रिश्तेदार अंतिम संस्कार के लिए शाम तक नहीं पहुंच सका।

    अंत में मुहल्ले के मुस्लिम युवकों ने मृतक महिला के अंतिम संस्कार करने का बेड़ा उठाया।

    युवकों ने शव यात्रा की पूरी तैयारी की। इसके बाद युवकों ने सूबेदार और उसके एक बेटे के साथ अपने कंधों में महिला की अर्थी को उठाकर दामोदर नदी पहुंचे। यहां उन्होंने हिन्दू रीति रिवाज के साथ महिला का अंतिम संस्कार किया।

    इस उल्लेखनीय काम में मो शाहनवाज, मो आदिल, मो आशिक, मो सन्नी, मो इमरान सहित अन्य युवकों ने सहयोग किया।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    EMN Video News _You tube
    Video thumbnail
    नगरनौसा में आज हुआ भेड़िया-धसान नामांकण, देखिए क्या कहते हैं चुनावी बांकुरें..
    06:26
    Video thumbnail
    नालंदा विश्वविद्यालय में भ्रष्ट्राचार को लेकर धरना-प्रदर्शन, बोले कांग्रेस नेता...
    02:10
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव-2021ः नगरनौसा में नामांकन के दौरान बहाई जा रही शराब की गंगा
    02:53
    Video thumbnail
    पिटाई के विरोध में धरना पर बैठे सरायकेला के पत्रकार
    03:03
    Video thumbnail
    देखिए वीडियोः इसलामपुर में खाद की किल्लत पर किसानों का बवाल, पुलिस को पीटा
    02:55
    Video thumbnail
    देखिए वायरल वीडियोः खाद की किल्लत से भड़के किसान, सड़क जामकर पुलिस को जमकर पीटा
    00:19
    Video thumbnail
    नालंदा पंचायत चुनाव 2021ः पुनः बनेगे थरथरी प्रखंड प्रमुख
    02:18
    Video thumbnail
    पंचायत चुनाव प्रक्रिया की भेड़ियाधसान भीड़ में पुलिस-प्रशासन भी नंगा
    04:00
    Video thumbnail
    नगरनौसाः वीडियो एलबम के गानों की शूटिंग देखने को उमड़ी भीड़
    04:19
    Video thumbnail
    बिहारः देखिए सनसनीखेज वीडियो- 'नाव पर सवार शिक्षा'- कैसे मिसाल बने नाविक शिक्षक
    07:10