शिक्षक नियुक्ति अभियर्थियों की उम्रसीमा में बड़ी छूट, जानें नई प्रक्रिया

•           पहले चरण में रिक्त 26 हजार पदों के लिए नियुक्ति होगी।

•           71 हजार नये सृजित पदों पर शिक्षक पात्रता परीक्षा के बाद नियुक्ति ली जा  सकती है।

•           यह परीक्षा झारखंड कर्मचारी चयन आयोग द्वारा ली जायेगी।

•           नियुक्ति के लिए जिला स्तर पर आरक्षण रोस्टर क्लियर किया जायेगा।

 
झारखंड प्राथमिक शिक्षक नियुक्ति नियमावली

रांची (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। झारखंड प्राथमिक शिक्षक नियुक्ति नियमावली को शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो द्वारा स्वीकृति मिलने के बाद राज्य में शिक्षा विभाग लगभग एक लाख शिक्षकों की बहाली की तैयारी में है।

नई नियावली के तहत होने वाली इस नियुक्ति में अभ्यर्थियों को कुध छूट मिले हैं, जिसमें से उम्रसीमा की छूट अहम है।

नई नियमावली के अनुसार प्राथमिक व मध्य विद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति में अभ्यर्थियों को उम्रसीमा में बड़ी छूट दी जाएगी।

दरअसल, राज्य में इससे पहले शिक्षक पात्रता परीक्षा 2016 में हुई थी। इसमें लगभग 55 हजार अभ्यर्थी सफल हुए थे। वहीं राज्य में पिछली नियुक्ति भी वर्ष 2015-16 में हुई थी।

ऐसे में 2016 में सफल अभ्यर्थियों को एक भी नियुक्ति में शामिल होने का अवसर नहीं मिला है और इन पास हुए अभ्यर्थियों में कई अभ्यर्थी ऐसे हैं जिनकी नियुक्ति की उम्रसीमा समाप्त हो गए हैं। इसलिए इन अभ्यर्थियों की नियुक्ति में लगभग 6 साल की छूट दी जाएगी। ताकि ये अवसर से वंचित ना हो।

शिक्षा विभाग अगले साल तक शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर सकता है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि साल 2022 तक नियुक्ति हो सकती है।

अगर 2020 में नियुक्ती होती है तो अभ्यर्थियों को उम्रसीमा में 6 साल की छूट मिलेगी। मालूम हो नियुक्ति के लिए अलग-अलग कोटि के अभ्यर्थियों के लिए निर्धारित अधिकतम उम्र सीमा में ही छूट दी जाएगी।

बहरहाल, राज्य के प्राथमिक व मध्य विद्यालयों में शिक्षकों के लिए 26 हजार पद खाली हैं। इसके अलावा विभाग ने 71 हजार नए पदों के सृजन का भी फैसला लिया गया।
इस प्रस्ताव को शिक्षा मंत्री से मंजूरी मिलने के बाद पद सृजन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। इस तरह से इस बार लगभग 1 लाख पदों के लिए नियुक्ति होगी।