मुस्लिम शख्स की पिटाई-थूक चटाई का मामला तूल पकड़ा, सीएम ने दिए जाँच-कार्रवाई के आदेश

 
मुस्लिम शख्स की पिटाई-थूक चटाई का मामला तूल पकड़ा, सीएम ने दिए जाँच-कार्रवाई के आदेश

धनबाद (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। धनबाद में एक शख्स की पिटाई और उसे थूंक चटवाने का वीडियो वायरल होने के बाद कड़ाके की इस ठंड के मौसम में झारखंड की सियासत अचानक तल्ख हो गई है।

मुस्लिम शख्स की पिटाई-थूक चटाई का मामला तूल पकड़ा, सीएम ने दिए जाँच-कार्रवाई के आदेश

वहीं वीडियो वायरल होने के बाद धनबाद भाजपा अपनी ओछी हरकत बचाव की मुद्रा में है वहीं सीएम हेमंत सोरेन समेत पूरा विपक्ष हमलावर है। सीएम हेमंत सोरेन ने धनबाद के उपायुक्त को जांच का आदेश दिया है। वहीं विपक्ष भाजपा पर हमलावर है।

इस मामले में जांच कर कार्रवाई के लिए सीएम ने धनबाद के उपायुक्त को ट्वीट किया है। कहा है-अमन चैन से रहने वाले झारखण्डवासियों के इस राज्य में वैमनस्य की कोई जगह नहीं है।

सीएम की भाभी झारखंड मुक्ति मोर्चा की महामंत्री सीता सोरेन, कांग्रेस के फायरब्रांड विधायक इरफान अंसारी समेत भाजपा विरोध की राजनीति करने वाले तमाम नेता ताबड़तोड़ ट्वीट कर रहे हैं।

दरअसल, शुक्रवार को मौन प्रदर्शन के दौरान एक अल्पसंख्यक युवक की भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा पिटाई का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इससे जुड़े एक वायरल विडियो को सीएम के ट्विटर हैंडल से टैग करते हुए कुछ लोगों ने इसपर कारवाई की मांग की। जिसका संज्ञान लेते हुए सीएम ने शुक्रवार की शाम ही उपायुक्त को इंटरनेट मीडिया के माध्यम से पूरे मामले की जांच का आदेश दिया है।

मुस्लिम शख्स की पिटाई-थूक चटाई का मामला तूल पकड़ा, सीएम ने दिए जाँच-कार्रवाई के आदेश 1

खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के होशियारपुर सुरक्षा चूक को लेकर जिले के भाजपा कार्यकर्ता सांसद पीएन सिंह के नेतृत्व में शुक्रवार दोपहर मौन प्रदर्शन कर रहे थे। इसी बीच एक अर्द्धविक्षिप्त अल्पसंख्यक युवक वहां पहुंच कर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश का नाम लेकर भद्दी गालियां देने लगा।

जब भाजपा कार्यकर्ताओं ने उसे रोकने की कोशिश की तो वह उनको जान से मारने की धमकी देने लगा। काफी मान मन्नौवल के बाद भी जब वह नहीं माना तो भाजपा कार्यकर्ताओं के सब्र का पैमाना छलक उठा और उन्होंने उसकी पिटाई कर दी।

हालांकि वरीय नेताओं के बीच बचाव के बाद उस युवक को वहां से भगा दिया गया। तब जाकर मामला शांत हुआ। इसी बीच बीच चौराहे पर हुई इस वारदात के बावजूद न तो कोई पुलिसवाला वहां आया और न ही उनका कोई अधिकारी।