‘सीएम नीतीश कुमार के पिता स्व. कविराज रामलखन सिंह को स्वाधीनता सेनानी बताने में घोटाला की बू’

 
‘सीएम नीतीश कुमार के पिता स्व. कविराज रामलखन सिंह को स्वाधीनता सेनानी बताने में घोटाला की बू’

पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज़ नेटवर्क)। बिहार के सीएम नीतीश कुमार के पिता स्व. कविराज रामलखन सिंह के सम्मान में नगर परिषद् क्षेत्र बख्तियारपुर में स्थापित प्रतिमा स्थल पर प्रत्येक वर्ष 17 जनवरी को राजकीय समारोह आयोजित किया जाएगा।जिसपर कैबिनेट ने मंत्रिमंडल सचिवालय को इस प्रस्ताव पर अपनी सहमति दे दी है।

बिहार कैबिनेट के द्वारा सीएम के पिता को फ्रीडम फाइटर बताने पर पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ कुमार दास ने सख्त आपत्ति दर्ज कराते हुए इसे ' स्वाधीनता सेनानी घोटाला' बताते हुए इस संबंध में राज्यपाल को पत्र लिखकर हस्तक्षेप करने की मांग की है।

बिहार के राज्यपाल को लिखें पत्र में उन्होंने कहा है कि मुझे बिहार कैबिनेट के फैसले से आश्चर्य हुआ, फैसले से सैकड़ों स्वाधीनता सेनानियों का अपमान हुआ है। सीएम के पिता को स्वाधीनता सेनानी बताने के पीछे मुझे स्वाधीनता सेनानी घोटाला'की बू आ रही है।

पूर्व आईपीएस ने कहा कि वे स्वयं इतिहास का विद्यार्थी रहा हूं। बिहार मेरा जन्म स्थान और कार्यक्षेत्र रहा है। मुझे आजतक पता नहीं चला कि सीएम के पिता किस रूप में स्वतंत्रता सेनानी थे। उनकी जयंती राजकीय सम्मान के साथ मनाने के पीछे क्या मंशा है। मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि उनके पिता को जबरदस्ती स्वतंत्रता सेनानी बताया जा रहा है।

अमिताभ कुमार दास ने बिहार के राज्यपाल को पत्र लिखकर इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए बिहार सरकार से आजादी की लड़ाई में कविराज रामलखन सिंह के योगदान का पूर्ण विवरण मांगा जाएं।

बिहार कैबिनेट के फैसले में सीएम नीतीश कुमार के पिता कविराज रामलखन सिंह के अलावा शहीद नाथून प्रसाद यादव, शीलभद्र याजी, मोगल सिंह और डुमर प्रसाद सिंह के सम्मान में नगर परिषद क्षेत्र बख्तियारपुर में स्थापित प्रतिमा स्थल पर प्रत्येक वर्ष 17 जनवरी को राजकीय समारोह आयोजित होगा।