हाई कोर्ट की दो टूक-  ‘माता-पिता-बहन को भी है अनुकंपा पर नौकरी पाने के हक’

आश्रितों की सूची में भाई को रखा गया है, लेकिन बहन को इससे अलग किया गया है। बहन को अलग रखने का कोई आधार भी नहीं बताया गया है। बहन का नाम नहीं रहना लिंगभेद का मामला भी बनता है और इसे कानून की नजर में उचित नहीं  माना जा सकता है और न संविधान की कसौटी पर……..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। झारखंड हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए मां-पिता और बहन को अनुकंपा पर नौकरी पाने का हकदार बताया है।

जस्टिस एचसी मिश्र और जस्टिस दीपक मिश्र की अदालत ने कहा कि कई कर्मचारियों की नौकरी के कुछ दिन बाद अविवाहित रहते हुए मौत हो जाती है। उस कर्मचारी पर उनके माता-पिता और बहन आश्रित रहते हैं।

यदि मां-पिता और बहन नौकरी की योग्यता रखते हैं तो उन्हें सिर्फ इस आधार पर नौकरी नहीं दी जा सकती कि उनके नाम कंपनी के आश्रितों की सूची में शामिल नहीं है।

अदालत ने मां, पिता और बहन को अनुकंपा की नौकरी पाने वाले आश्रितों की सूची से बाहर रखने को अन्यायपूर्ण एवं इस नियुक्ति योजना के उद्देश्य के विपरीत बताया है।

अदालत ने कहा कि सीसीएल की आश्रितों की सूची में पत्नी/पति, अविवाहित बेटी, बेटा और कानूनी रूप से गोद लिये गए पुत्र को रखा गया है। साथ ही नौकरी के लिए इस तरह का कोई प्रत्यक्ष आश्रित न हो तो भाई, विधवा बहन/ विधवा पुत्र वधु या मृतक के साथ रह रहे तथा उनकी कमाई पर ही पूरी तरह आश्रित दामाद के नाम पर विचार करने का प्रावधान है।

लेकिन इस सूची में वैसे माता-पिता, बहन के नाम पर विचार नहीं किया गया है, जो पूर्ण तरीके से अपने बेटे और भाई पर आश्रित हो। इसलिए इस सूची को उचित नहीं माना जा सकता है।

दरअसल, सीसीएल में कर्मचारी की मौत के बाद दो महिलाओं की ओर से अनुकंपा पर नौकरी के लिए आवेदन दिया गया था। एक कर्मचारी की मां थी और दूसरी बहन।

सीसीएल ने दोनों के आवेदन को यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया कि मृत कर्मचारियों की सूची में वे शामिल नहीं हैं। इसलिए अनुकंपा के आधार पर उन्हें नौकरी नहीं मिल सकती।

इसके बाद दोनों ने उच्च न्यायालय की एकल पीठ में याचिका दायर की। एकलपीठ ने सुनवाई के बाद सीसीएल के आदेश को सही बताया और याचिका खारिज कर दी।

फिर दोनों ने खंडपीठ में अपील याचिका दायर की। इस पर सुनवाई के बाद खंडपीठ ने फैसला सुनाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Latest News

झारखंड की सबसे बड़ी कपड़ा मिल बंद, रोजी-रोटी को यूं मोहताज हुए 5 हजार कामगार

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (एहसान राजा)। झारखंड की राजधानी रांची से सटे ओरमांझी प्रखंड में मोमेंटम झारखंड के तहत दो कंपनी लगी थी, जिसमें...

झारखंड के शिक्षा मंत्री की हालत नाजुक, सीवियर कोविड से हैं ग्रस्त, रिम्स में चल रहा ईलाज

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। राजेंद्र आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्थान (रिम्स) रांची में ईलाजरत शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो की स्थिति गंभीर बनी हुई है। डॉक्टरों ने...

ग्रामीणों ने यूं चुनाव सर्वे कर रहे यूपी के 5 संदिग्ध युवकों को बंधक बना पुलिस को सौंपा

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। बिहार के औरंगाबाद जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र भरथौली शरीफ गांव में कथित चुनावी सर्वे करने गए पांच युवकों को...

युवा जदयू के राष्ट्रीय सचिव को गोली मारी, हालत गंभीर, पटना रेफर, सहयोगी की मौत

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। बिहार के आरा जिला के नवादा थाना अंतर्गत जगदेव नगर इलाके में आज रविवार की शाम हथियारबंद अपराधियों ने एक...

डॉ. अजय कुमार ने फिर बदला चोला, कांग्रेस में हुई घर वापसी

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। झारखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने फिर से एक बार अपना चोला बदल लिया है और वह...

Popular News

…और नालंदा एसपी के जोर से यूं टूट कर जमीं पर गिरा राष्ट्रीय ध्वज !

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  बिहार के नालंदा जिला पुलिस मुख्यालय बिहार शरीफ में उस समय अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई, जब एसपी नीलेश कुमार...

सरायकेला डीसी के झूठ की वजह से हुई हेमंत सरकार की किरकिरी

सरायकेला (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। एक तरफ झारखंड के मुख्यमंत्री वैश्विक संकट के इस दौर में झारखंडियों और प्रवासी मजदूरों के मामले में मसीहा...

भ्रष्टाचार का अड्डा है नालंदा थाना, अब दरोगा की रिश्वत मांगते-लेते हुए वीडियो वायरल

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के थानों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। आम तौर पर कहा जाता...

पीत पत्रकारिताः सच देखने के पहले सुनिए News11 की झूठ

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क।  देश की पत्रकारिता को कलंकति करने के मामले में झारखंड से एक और नाम जुड़ गया है। निश्चित तौर पर...

किसान चैनलः बजट 45 करोड़ और ब्रांड एंबेसडर बने अमिताभ को मिले 6.31 करोड़!

किसानों के कल्याण के लिए हाल में शुरू हुए दूरदर्शन के किसान चैनल मामले में हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा...
Don`t copy text!