देखिए वीडियोः टाटा मोटर्स के रिटायर मैनेजर ने जज मानवेन्द्र मिश्रा को क्यों भेजा 2000 का मनीऑर्डर, जानकर रह जाएंगे हैरान

0
61

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। बिहार के नालंदा जिला किशर नयाय परिषद के प्रधान दंडाधिकारी सह अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मानवेंद्र मिश्रा की अदालत ने चोरी की एक मामले में आरोपी नाबालिग चोर का केस स्टडी कर उसे अपने पैसे देकर जहां मानवता की मिसाल पेश किया है।

वहीं, इस इस फैसले की गूंज नालंदा से सैकड़ों मील दूर जमशेदपुर में बैठे एक सेवानिवृत्त टाटा मोटर्स कर्मी का दिल इस कदर पसीज गया कि उन्होंने सीधे जज मानवेंद्र मिश्रा के नाम दो  हजार का मनीआर्डर भेज दिया, ताकि पैसा बच्चे को मिल सके।

वैसे सेवानिवृत्त टाटा मोटर्स अधिकारी केवी नागेश ने प्रायोगिक तौर पर दो हजार भेजने की बात कही।  वही पैसे मिलने के बाद उन्होंने आठ हजार रुपए बच्चे को और सहयोग करने का भरोसा दिलाया है।

श्री केवी नागेश ने बताया कि बच्चे के मामले में जज मानवेन्द्र मिश्रा के फैसले की जानकारी मीडिया के माध्यम से मिलने के बाद उन्होंने अपने पेंशन के पैसे से जज मानवेंद्र मिश्रा को दो हजार भेजे थे, ताकि उस बच्चे तक पैसा पहुंच जाए। 

उन्होंने कहा कि आज उन्हें ज्ञात हुआ है कि पैसे मुकाम तक पहुंच गए हैं। कल  8000 रुपए और भेजुंगा। एक मानव होने के नाते जो फर्ज होता है, वही कर रहा हूं। सबको करनी चाहिए। एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क की ऐसी खबरे बड़ी सराहनीय है।

उन्होंने बताया कि जज मानवेन्द्र मिश्रा ने उस बच्चे के मामले में जो फैसला सुनाया, उससे उन्हें काफी प्रेरणा मिली। वही उन्होंने आम लोगों से पीड़ित मानवता की सेवा के लिए आगे आने की अपील की। केवी नागेश जमशेदपुर के घोड़ाबांधा  स्थित अपना आंगन सोसाइटी में रहते हैं।

श्री केवी नागेश आन्ध्र प्रदेश के तिरुवंतपुरम के पास एक छोटा से कस्बा पींगोडी के मूल निवासी है और वे टाटा मोटर्स के प्रबंधक पद से रिटायर होने के बाद जमशेदपुर के घोड़ाबांधा में बस गए हैं। उन्होंने जज मानवेनद्र मिश्रा को भेज मनीऑर्डर की कॉपी और उनको लिखे पत्र भी दिखाए।

आज हमारे एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क के कोल्हान चीफ ने अपने सूत्रों के सहारे केवी नागेश जी को ढूंढ निकाला और उनसे बातचीत की। आईए आप भी सुनिए क्या कहते हैं टाटा मोटर्स के वरीय अधिकारी रहे श्री केवी नागेश…   ??

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.