फिर सवालों के घेरे में सरायकेला पुलिस की कार्यशैली

सरायकेला (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। झारखंड के सरायकेला- खरसावां पुलिस की कार्यशैली एकबार फिर से सवालों के घेरे में नजर आ रही है। जहां बीते बुधवार को जिले के आरईटी थाना अंतर्गत बाबा कुटी के महंथ जयप्रकाश नारायण तिवारी को एक हिश्ट्रीशीटर अपराधी गोलू झा के साथ मारमीट करना महंगा पड़ गया है।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि आश्रम के दक्षिणी छोर पर स्थित मनोकामना मंदिर प्रांगण में पिछले कई दिनों से नशेड़ियों का जमावड़ा लग रहा था। बताया जाता है कि मंदिर प्रांगण में शरारती तत्वों द्वारा मांसाहार और शराब का भी सेवन किया जाता था।

इसकी जानकारी महंथ जयप्रकाश नारायण को मनोकामना मंदिर से सेवायत पशुपति सिंह द्वारा दिया गया। जिसके बाद बुधवार महंथ अचानक वहां पहुंचे तो पाया कि गोलू झा वहीं भोजन बना रहा था, इसपर महंथ ने गोलू झा को मंदिर प्रांगण में भोजन बनाने से मना करते हुए उसे फटकार लगायी गयी,  जिसपर गोलू झा ने प्रतिवाद में महंथ के साथ बदसलूकी शुरू कर दी।

वहीं खुद को अपमानित होता देख महंथ ने गोलू के साथ हाथापाई कर दिया। वहीं गोलू भी महंथ के साथ उलझ पड़ा।  इसी बीच गोलू के मित्र रमेश शर्मा जो मंदिर पूजा करने पहुंचा था, जिसने बीचबचाव करने का प्रयास किया, जिसपर महंथ भड़क गए और उसके साथ भी उलझ पड़े। बात बढ़ता देख मुहल्ले के और लोग भी जुट गए, दोनों तरफ से लाठी- डंडे निकल गए।

इसी बीच महंथ की गाड़ी पर गोलू झा औऱ रमेश द्वार पथराव शुरू कर दिया गया, जिससे महंथ की गाड़ी बुरी तरह से छतिग्रस्त हो गयी। इस बीच विवाद हिंसक रूप ले चुका था। रमेश शर्मा के अनुसार महंथ की ओर से स्थानीय युवक पीके, महंथ के बड़े पुत्र देव आनंद, छोटे पुत्र मारूत नंदन एवं परिवार की महिलाओं द्वारा मारमीट कर उसके भाई मनोज शर्मा और एक अन्य युवक के सर पर बांस से वार किया गया जिससे दोनों के सर पर गंभीर चोटे आयीं है।

वहीं रमेश ने बताया कि बीचबचाव करने पहुंची रमेश की पत्नी के साथ भी  महंथ ने मारपीट की जिससे उसकी पत्नी को भी चोट आयी है। वहीं महंथ ने बताया कि जब वे गोलू जो कि एक अपराधी है, उसे मंदिर प्रांगण में मांसाहार भोजन बनाने से मना करने पहुंचे थे उस वक्त उनके साथ कोई नहीं था, वे अकेले गए थे, लेकिन गोलू ने अपने साथी रसमेश के सहयोग से पहले उनपर जानलेवा हमला किया, इसी बीच उनकी कथित दूसरी पत्नी मधु देवी और स्थानीय निवासी कन्हैया सिंह द्वारा गोलू और रमेश एवं मनोज को यह कहते हुए ललकारा गया कि महंथ को मारो जितना खर्च होगा हम देंगे।

बता दें कि महंथ का अपनी कथित दूसरी पत्नी के साथ विवाद चल रहा है, जो मामला न्यायालय में लंबित है। बताया जाता है कि  गोलू उस मामले में मधु देवी से पैसे लेकर गवाह बना है। वहीं कन्हैया सिंह  के साथ भी आश्रम की जमीन को लेकर महंथ के साथ विवाद चल रहा है। औऱ महंथ से विवाद के कारण वह मधु देवी का समर्थक है। दोनों पर मौके का फायदा उठाकर रमेश औऱ गोलू को महंथ पर हमला करने के लिए प्रेरित करने का आरोप लगा है।

इस घटना के बाद दोनों पक्षों द्वार आरआईटी थाने में लिखित शिकायत दर्ज करायी गई,  जिसके बाद आरआईटी थाना पुलिस ने महंथ के बड़े बेटे देवानंद तिवारी और गोलू को गिरफ्तार कर आज न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। हालांकि गुरूवार देर रात तक आरआईटी थाना में हाई वोल्टेज ड्रामेबाजी चलती रही।

वहीं स्थानीय लोगों ने सामाजिक स्तर पर भी मामले पर सुलह कराने का प्रयास किया। वैसे यहां आरआईटी और जिला पुलिस की कार्यशैली पर सवाल इसलिए उठ रही है,

बीते 6 मई को इसी जिले के इसी आरआटी थाना क्षेत्र के एमआईजी 248 निवासी पीके राय और 247 निवासी पप्पु दुबे के बीच खूनी झड़प हुयी थी, जिसमें एक पक्ष पीके राय का पूरा परिवार लहू-लुहान हुआ था।

यहां तक कि राय परिवार को आरआईटी पुलिस द्वार इलाज के लिए एंबुलेस भी मुहैया नहीं करायी गई थी। उस प्रकरण में आज तक आरआईटी औऱ जिला पुलिस द्वारा दोनों के से किसी पक्ष को गिरफ्तार नहीं किया गया। अब कारण चाहे जो रहा हो। फिर इस मामले में जिला पुसिस द्वारा किसके दबाव में महंथ के बड़े बेटे जिसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं रहा है, को जेल भेजने की नौबत आन पड़ी।

हालांकि पुलिस ने दूसरे पक्ष के पेशेवर अपराधी गोलू झा को भी गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेजा है, जिसके लिए जेल आना- जाना कोई बड़ी बात नहीं है। आखिर पुलिस ने पूरे मामले को तूल देने में शामिल कन्हैया सिंह, मधु देवी या रमेश शर्मा या उसके परिवार को अबतक क्यों आजाद छोड़ रखा है।

जबकि कन्हैया सिंह औऱ रमेश शर्मा गुरूवार को आरआईटी थाना परिसर में मौजूद था और पुलिस पर पैसे लेकर महंथ के परिवार को सह देने का आरोप लगा रहा था, जबकि महंथ का पूरा परिवार गुरूवार रातभर अपने बेटे के साथ आरआईटी थाने में मौजूद रहा।

यहां तक कि महंथ की बड़ी बेटी रानी पद्मावती ने जिले के एसपी से दोनों पक्षों के दोषियों पर कार्रवाई किए जाने की फरियाद लगाती रही। जहां रानी पद्मावती ने बताया कि एसपी ने उन्हें भरोसा दिलाया है, कि दोनों पक्षों के नामजद अभियुक्तों को गिरफ्तार करने के बाद ही जेल भेजा जाएगा। और पुलिस ऐसा किया भी। हिश्ट्रीशीटर गोलू झा को गिरफ्तार कर शुक्रवार तड़के देवआनंद और गोलू को न्यायिक हिरासत में भेज दिया। जबकि अन्य अभियुक्त अभी भी खुलेआन घूम रहे हैं।

वैसे सूत्र बताते हैं कि इस पूरे घटनाक्रम की पटकथा आदित्यपुर के रसूखदार सफेदपोषों द्वार लिखी गयी है। सूत्र बताते हैं, कि  महंथ पर सरकारी जमीन की खरीद बिक्री का आरोप लगाकर फंसाने की योजना पिछले कुछ महीनों से बनायी जा रही थी, जिसमें महंथ की कथित दूसरी पत्नी का सबसे बड़ी भूमिका बतायी जा रही है।

सूत्र बताते हैं, कि महंथ को कानूनी प्रक्रिया में उलझाकर आश्रम के जमीन पर कब्जा करने की योजना आश्रम के ही कुछ लोगों की है, जिसके लिए आश्रम के लोगों ने महंथ की दूसरी पत्नी औऱ महंथ के बीच जारी गतिरोध का फायदा उठाकर इस तरह के घटनाओं की पटकथा लिख रहे हैं।

वहीं सूत्र ये भी बताते हैं कि इस घटना के बाद बाबा कुटी में कुछ स्वार्थी लोग  जातिवाद को हवा देकर पूरे मामले को पैनिक बनाने में जुटे हैं। हालांकि वहां के स्थानीय लोग हर संभव प्रयास कर रहे हैं, कि मामला अधिक तूल न पकड़े और दोनों ही पक्ष आपस में सुलह कर लें। वैसे इसकी संभावना कम ही नजर आ रही है। क्योंकि दोनों ही पक्षों का रिमोट कंट्रोल अलग- अलग हाथों में है।

वहीं स्थानीय लोगों में बुधवारी की घटना के बाद भय की स्थिति है। जबकि लोग आरआईटी थाना पर मामले में निष्पक्ष रूप से इंसाफ नहीं करने का भी आरोप लगा रहे हैं। साथ ही इस घटना पर हुए कार्रवाई की तुलना एमआईजी की घटना से भी कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.