कोयला तस्करी में संलिप्त नहीं दिखी पुलिस, न्यूज चैनल की खबर बकबास

0
365

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। झारखंड के सरायकेला पुलिस पर बंगाल के कोयला कारोबारी को अवैध रूप से कोयला ट्रक पार कराने का आरोप एक निजी चैनल ने लगाया है।

उस चैनल के खबरों की पड़ताल करने स्थानीय मीडिया कर्मी रविवार देर रात चौका थाना क्षेत्र के पेट्रोल पंप और वहां से होकर गुजरने वाली एनएच-33 पहुंचे। जहां ऐसा कोई भी मामला सामने नहीं आया।

वैसे रात करीब 11:00 बजे स्थानीय मीडिया कर्मियों ने चौका थाना प्रभारी से पूरे मामले का पक्ष जानना चाहा। जिस पर चौका थाना प्रभारी ने बताया कि ऐसी किसी प्रकार की जानकारी उनके संज्ञान में नहीं है।

उन्होंने बताया कि जिन 25 गाड़ियों का जिक्र कोयला तस्करी के लिए किया जा रहा है दरअसल वे गाड़ियां जिले के नक्सल प्रभावित इलाके में बन रहे रायजामा पिकेट के लिए बिल्डिंग मैटेरियल्स का सामान लेकर पहुंचे थे, जिन्हें वरीय अधिकारियों के निर्देश पर  वहां पहुंचा दिया गया।

बता दें कि जिस इलाके में पिकेट बन रहा है, वह  इलाका घोर नक्सल प्रभावित इलाका है। इसलिए पुलिस की सुरक्षा में इन सामानों को वहां पहुंचाने की व्यवस्था की गई थी।

इधर कोयला तस्करी का आरोप लगने के बाद जिले के एसपी ने मामले पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने इस खबर को दुर्भावना से ग्रसित खबर बताया। साथ ही निजी चैनल को शो कॉज किए जाने की भी बात कही।

जिले की कमान संभालने के बाद से लगातार एसपी मोहम्मद अर्शी जिले में संचालित हो रहे अवैध शराब से लेकर हर तरह की गतिविधियों पर सख्त कार्रवाई करते देखे जा रहे हैं।

ऐसे में इतने बड़े पैमाने पर कोयले के कारोबार की भनक उन्हें लगे और कार्रवाई न हो यह संभव नहीं।

वैसे निजी चैनल पर जिस तरह से खबरें प्रकाशित की गई, उससे ऐसा लग रहा था की पूरी खबर दुर्भावना से ग्रसित होकर चलाई जा रही है। हद तो ये है की पूरी खबर के दौरान निजी चैनल ने अपने स्थानीय रिपोर्टर से संपर्क नहीं किया।

इस पूरे मामले में निजी चैनल अपने रामगढ़ प्रतिनिधि के सूचना पर खबरें चलाते देखे गए। जिसमें साफ कहा जा रहा है कि रामगढ़ से बंगाल के रास्ते 25 ट्रक कोयला झारखंड में प्रवेश किया है जिसे चौका थाना पुलिस मैनेज करने में जुटी हुई है।

इतना ही नहीं रामगढ़ से रिपोर्टर यह दावा भी कर रहा है कि ट्रकों को पेट्रोल पंपों में छिपाकर रखा गया है। हालांकि पूरे मामले की तफ्तीश के दौरान खबर झूठा पाया गया।

अब देखना  दिलचस्प होगा कि जिले के एसपी पूरे मामले पर किस तरह से कार्रवाई करते हैं। हालांकि उन्होंने  किए जाने की बात कही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.