राजगीर की इस दर्शनीय धरोहर को मिटाने के बजाय संवर्धन और प्रबंधन की जरुरत

Share Button

       -: मुकेश भारतीय :- 

किसी भी सभ्यता और संस्कृति में बेहतर बदलाव के लिये यह जरुरी नहीं है कि उसका मूल ही नष्ट कर दिया जाये। नालंदा की पावन पर्टकीय नगरी राजगीर में टमटम यानि तांगा विशेष आकर्षण का केन्द्र है।

आधुनिकता की इस दौर में यह सवारी देश के बहुत कम क्षेत्रों में बचा है। उसमें राजगीर और उसके आसपास का ईलाका एक मिसाल है।

आज कल राजगीर में टमटम की जगह ई-रिक्शा के परिचालन की बात हो रही है। आखिर उसकी वजह क्या है? इसका ठोस जबाव किसी के पास नहीं है। शासन-प्रशासन के लोग भी उसी ऑफर पर अधिक ध्यान देतें हैं, जिसमें अधिक कमाई छुपी होती है। टमटम वाले हटेगें, ई-रिक्शा वाले आयेगें और उनकी काली कमाई के स्रोत में ईजाफा होगा।

इस मानसिकता से न तो विरासत के बिचौलिये मुक्त हो रहे हैं और न ही उसके सरकारी रखवाले। वे सब कुछ बदल देना चाहते हैं। उनकी नजर में हरी-भरी वादियों के बीच मनोरम खिलखिलाहट कोई मायने नहीं रखते। उन्हें कंक्रीट के जंगल के बीच सरसराती इलेक्ट्रॉनिक शैली अधिक भाती है।

टमटम वालों के बारे में कहा जाता है कि उनमें उदंड प्रवति देखी जाती है। सैलानियों के प्रति उनका व्यवहार ठीक नहीं होता है। वे भयादोहन करते हैं। उनके कारण यातायात व्यवस्था में भी समस्या पैदा होती है। वे यत्र-तत्र काफी बेतरतीव तरीके से अपना टांगा लगाते हैं।

अब सबाल उठता है कि इसके लिये टमटम कहां दोषी है। उसका क्या, कोई उसे जहां खड़ा कर देगा, वहीं रहेगा न। बदलते परिवेश में तांगा वाले का व्यवहार एक समस्या हो सकती है। लेकिन इसके लिये यह बिल्कुल जरुरी नहीं है कि सभ्यता और संस्कृति को ही खत्म कर दिया जाये।

मेरी समझ में टमटम संचालन से जुड़ी जितनी भी समस्याएं दिखती है, उसके लिये सीधे तौर पर पुलिस-प्रशासन दोषी है। सारी दिक्कतें उसकी निकम्मेपन से ही उत्पन्न हुई है।

टमटम रिक्शा चालक संघ का कहना है कि यहां पुरातन काल से लोग तांगा के सहारे अपनी आजीविका चला रहे हैं। इसे लुप्त करने के बजाय बढ़ावा देने की जरूरत है। ई-रिक्शा का परिचालन दबंग मानसिकता के लोगों की कुराफात है। इससे तांगा चालक परेशान और अपनी आजीविका के भविष्य को लेकर काफी चिंतित हैं।

पर्यटकों का भी मानना है कि टमटम की सवारी से राजगीर घूमने का आनंद दोगुणा हो जाता है। इसमें घुमने का आनंद के बखान सिर्फ पर्यटक ही नहीं, प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी यदा-कदा करते रहते हैं। यहां एक आम कहावत है कि जिसने टमटम नहीं चढ़ा, उसने राजगीर के सौंदर्य का क्या खाक आनंद लिया।

राजगीर खुदरा व्यवसायीक संघ के अध्यक्ष निरंजन कुमार कहते हैं कि यहां टमटम खुद एतिहासिक पर्यटकीय धरोहर है, सौन्दर्य है। इसे हर हाल में बढ़ावा देनी चाहिये। जहां तक टमटम परिचालन की कुव्यवस्था और उसके चालकों की मनमानी या उदंड व्यवहार की बात है तो इसके निदान की दिशा में ठोस कदम उठाये जानी चाहिये।

राजगीर खुदरा व्यवसायीक संघ के अध्यक्ष निरंजन कुमार

बकौल निरंजन कुमार, राजगीर में टमटम पड़ाव की कोई व्यवस्था नहीं दिखती। यहां मनमानी ढंग से लोग अपनी टमटमें जहां-तहां खड़ा कर डालते हैं। इससे आम लोगों को काफी परेशानी होती है। प्रशासन को चाहिये कि राजगीर के महत्वपूर्ण स्थानों, खासकर कुंड क्षेत्र, बस स्टैंड और विश्व शांति स्तूप के पास टमटम पड़ाव सुनिश्चित करे, जहां प्रशासन से जुड़े लोग हों और कड़ी नजर रखने के लिये सबों को आधुनिक नेटवर्क से जोड़ दिया जाये। हर टमटम पर उसका निबंधन संख्या दर्ज हो और उसके चालकों को प्रशासन द्वारा जारी परिचय पत्र गले में टांगने की बाध्यता हो। ताकि सैलानी लोग के साथ अगर कोई तांगा वाला सही व्यवहार नहीं करता है, उसका भयादोहन करता है तो उसकी आसानी से शिनाख्त किया जा सके।

उधर समाजसेवी धर्मराज प्रसाद बताते हैं कि राजगीर में करीब 600 टमटम चलाये जा रहे हैं। उसके चालकों में ढेर सारे छोटे-छोटे बच्चें भी शामिल हैं। यहां टमटम या उसमें जुते घोड़े-घोड़ियों की कभी कोई तकनीकी या मेडिकल जांच नहीं होती है। इस कारण सैलानियों के साथ आये दिन दुर्घटनाएं आम बात हो गई है।

समाजसेवी एवं व्यवसायी धर्मराज प्रसाद

बकौल धर्मराज, यहां टमटम पड़ाव की व्यवस्था है लेकिन, सब अतिक्रमण की शिकार है। इस ओर प्रशासन का कभी कोई ध्यान हीं नहीं जाता। सैलानियों के लिये राजगीर पर्यटन भ्रमण के लिये 160 रुपये तय है। लेकिन टमटम वाले मनमानी बरतते हैं। 300 से 600 रुपये तक वसूलते हैं। प्रशासन को यह भी चाहिये कि वे सभी प्रमुख स्थानों, रेस्टुरेंटों, होटलों, स्टेशनों आदि पर टमटम की भाड़ा दर तालिका लगा दे, इससे पर्यटकों का शोषण बंद हो जायेगा।

इस संबंध में राजगीर नगर पंचायत के लाईसेंस जमादार उपेंद्र सिंह का कहना है कि इधर 4-5 वर्षों से एक भी टमटम को लाइसेंस नही दिया गया है। उधर 7-8 साल पहले उन लोगों को लाइसंस मिलता था। इस संबंध में जब वे जब भी बात उठाते हैं या फिर टमटमों की जांच करते हैं, तो उल्टे टमटम वाले के संघ इल्जाम लगाने लगता है कि अवैध वसूली करते हैं। इसलिये चाह कर भी कुछ नहीं कर पाते। बड़े अधिकारी ही कुछ कर सकते हैं, जो करते नहीं दिखते।

Share Button

Related News:

झारखंड NDA में फूट, आजसू विधायकों ने की गवर्नर से भेंट
कामता पैक्स की जांच करेंगे हिलसा के CO
अंततः सीएम नीतीश ने ली आज जरासंध अखाड़ा की सुध
नालंदा से यूं हुई महादलित टोलों के लिये 'समग्र उत्थान कार्यक्रम' की शुरुआत
रांची की रौनक छोड़ने को तैयार नहीं हैं भगवान बिरसा जैविक उद्दान के अफसर
बाबा मखदुम की मजार पर लगने वालेे चिराग मेला की तैयारी जोरों पर
नवीनगर गांव से भारी मात्रा में केन वीयर बरामद
सुशासन बाबू, कड़ी धूप में यूं बैठकर कैसा भविष्य गढ़ रहे आपके नालंदा में बच्चें!9
नवरात्र में भक्तों की मनोकामना पूर्ण करती हैं 'मां चंडी'
दिवंगत जिप सदस्या की पुत्रवधु ने चंडी पश्चिमी सीट से किया नामांकन
मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने में विफल है सरकारः अंतु तिर्की
विचारों की कबड्डी खेलने वाले इनकी बात कौन करेगा ?
बदले गये 21 डीएम और 17 एसपी, 55 एसडीओ और 70 डीएसपी का भी तबादला
मंत्री श्रवण कुमार ने रखी 2 पीसीसी रोड की नींव, कसा तेजप्रताप पर तंज
निबटाए गये 706 मामले,1.26 करोड़ के समझौते राशि में हुई 68 लाख की वसूली
उत्पाद विभाग की टीम ने ऑल्टो कार से भारी मात्रा में शराब समेत धंधेबाज को दबोचा
छपरा जंक्शन गैंगरेप मामले में प्रभारी समेत 6 RPF के जवान सस्पेंड, FIR भी दर्ज
लुईस मरांडी पर हिन्दु सेना का बड़ा आरोप, यूं धर्मांतरण कराने में जुटी है मंत्री !
कोडरमा चाइल्ड लाइन के निदेशक ने स्थानीय मीडिया पर लगाए गंभीर आरोप
चर्चा-जिज्ञासा का विषय बना शहीद शेख़ भिखारी के गांव में आया यह बड़ा डेग
एक्सपर्ट मीडिया की खबर का असर, वन विभाग ने संभाला मोर्चा
फिर दिखा भीड़ का वहशीपन, पी़ट-पीट कर शिक्षक की सरेआम की हत्या
परिजनों को सांत्वना देने दिवंगत सुबोध के गांव पहुंचे मंत्री
जदयू नेता की थाना में हत्या के इस खुलासे के बाद संदेह घेरे में नालंदा एसपी
8 दिनों तक नाबालिग संग किया दुष्कर्म, फिर उसकी तस्वीरें फेसबुक पर डाली
बिजली विभाग की इस मनमानी के विरोध में 8 घंटों से जाम है राजगीर-बिहारशरीफ मार्ग
लूट की योजना बनाते हथियार व लूट के समान सहित दो वांटेड धराया
शराबबंदी की ऐसी दिनदहाड़े ताजा तस्वीरों पर बिल्कुल लापरवाह निकला लहेरी थानाध्यक्ष
अस्मिता का प्रतीक है बिहार दिवसः नालंदा डीएम
हमारा लक्ष्य सिर्फ विकास और विकासः रघुबर दास
साइकिल सवार को बचाने में पर्यटक बस पलटीः एक की मौत, दर्जन भर घायल
निकाय चुनावः नालंदा पुलिस-प्रशासन ने इन 19 लोगों पर लगाया सीसीए
कामगारों की कमी सिकिदीरी परियोजना की सबसे बड़ी समस्याः प्रबंधक अमर नायक
बोले MLA पुत्र- नहीं मांगी रंगदारी, थाना की भूमिका पर उठाया सवाल
गुंडागर्दी के खिलाफ ग्रामीण प्रैक्टिशनरों की आपात बैठक
चंडी का चालीस लखटकिया 'मिनी स्टेडियम' बना झील
दस हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ धराये मानपुर अंचल के सीओ
उन्नत तरीके से खेती कर आत्म निर्भर बनें किसानः सांसद रविन्द्र राय
CM के 'गुप्तेश्वर' बने बिहार के DG ट्रेनिंग से DGP
दीपावली तक झारखंड के हर घर में होगी बिजलीः सीएम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...