पूर्व डीजीपी डीके पांडेय पर बहू का आरोप, पति समलैंगिक, ससुर ने वासना का शिकार बनाना चाहा, वरिष्ठ भाजपा नेता गणेश मिश्रा की बेटी हैं रेखा मिश्रा

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। झारखंड प्रदेश के चर्चित पूर्व डीजीपी डीके पांडेय पर उनकी बहू रेखा मिश्रा ने महिला थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है।  उसमें आरोप है कि पति के समलैंगिक होने के चलते ससुर ने दूसरों से संबंध बनाने को कहा। खुद ने भी संबंध बनाना चाहा। पुलिस ने ससुर डीके पांडेय, सास पूनम पांडेय और पति शुभांकर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

दर्ज प्राथमिकी के अनुसार तीन साल पहले रेखा मिश्रा की शादी शुभांकर से हुई थी। शादी के बाद से ही सास, ससुर और पति दहेज की मांग को लेकर ताना देने लगे। मानसिक रूप से प्रताड़ना का दौर शुरू हो गया। जब वह विरोध करती थीं तो उन्हें धमकाया भी जाता था। इससे परेशान होकर वह अपने मायके आ गईं।

पुलिस के अनुसार, रेखा मिश्रा भाजपा नेता गणेश मिश्रा की बेटी हैं और अपना एनजीओ चलाती हैं। दो दिन पहले गणेश मिश्रा खुद अपनी बेटी रेखा समेत परिवार के सदस्यों के साथ कोतवाली डीएसपी से मिले थे। इसके बाद शनिवार को रेखा के बयान पर महिला थाना रांची में प्राथमिकी दर्ज कराई। 

कहा गया है कि 15 फरवरी 2016 को हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार रांची में मेरी शादी शुभांकर के साथ शादी हुई थी। इसके बाद मैं पति और सास-ससुर के साथ जमशेदपुर सर्किट हाउस के समीप केडी अपार्टमेंट में फ्लैट नंबर 118 और 121 में रहने के लिए चली गई थी। मुझे शादी के दूसरे दिन पता चला कि मेरा पति शुभांकर समलैंगिक (गे) है। मैंने इसकी जानकारी ससुर डीके पांडेय और सास पूनम पांडेय को दी। यह बताने पर भी सास-ससुर की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। बल्कि झूठा आश्वासन देते हुए बताया कि यह उनके बेटे को मेडिकल प्रॉब्लम है, जो चेकअप के बाद ठीक हो जाएगा।

मेडिकल चेकअप के बाद वह सामान्य आदमी की तरह बिहेव करने लगेगा। सास-ससुर के इस झूठे दिलासे पर मैं 3 वर्षों तक इंतजार करती रही कि शायद उसके पति के बिहेवियर में बदलाव आएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मैं तब काफी परेशान हो गई, जब पति, सास और ससुर तीनों ने सुखद वैवाहिक जीवन व्यतीत करने के लिए किसी दूसरे व्यक्ति के साथ अतिरिक्त संबंध बनाने की बात कहने लगे। एक समारोह के दौरान जब मैं अकेली थी तो ससुर डीके पांडेय ने अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मुझे सूचित किया।

हालांकि, इस बात की जानकारी परिवार में किसी भी सदस्य को नहीं है। ससुर की इस हरकत से मुझे बहुत परेशानी हुई और काफी मानसिक आघात भी हुआ। जिंदगी से मैं इस कदर परेशान हो चुकी थी कि आत्महत्या करने तक की सोचने लगी थी। दिन-ब-दिन शुभांकर में समलैंगिकता के लक्षण बढ़ते जा रहे थे। वह मुझसे मिलना और बात तक करना पसंद नहीं कर रहा था। कोई रिश्तेदार से भी वह बात नहीं करता था। सास पूनम पांडे हमेशा मुझे जोर देकर कहती थी कि एनजीओ में बिजी रहो। सास ऐसा इसलिए कहती है कि शुभांकर से मैं दूर रह सकूं।

बता दें कि फरवरी 2016 में महाशिवरात्रि के दिन डीके पांडेय परिवार के साथ शक्तिपीठ रजरप्पा पहुंचे थे। उन्होंने सांप को गले में लपेट लिया था। प्रधान वन संरक्षक वन्य जीव रत्नाकर सिंह ने डीजीपी पांडेय से जवाब तलब करने का निर्देश दिया था। इसके बाद उन्हें नोटिस दिया गया था।

पूर्व डीजीपी पर कांके अंचल के चामा मौजा में पत्नी पूनम पांडेय के नाम पर गलत तरीके से 50.9 डिसमिल गैर मजरुआ जमीन खरीदने और उस पर घर बनाने का भी आरोप है। इस जमीन का खाता नंबर 87 और प्लॉट नंबर 1232 है। अधिकारियों के मुताबिक इस जमीन की खरीद-बिक्री अवैध है। अब इस मामले की जांच की जा रही है कि कैसे इस जमीन की रजिस्ट्री और जमाबंदी हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.