एसएसपी कार्यालय पहुंचे डीजीपी, गिनाई ये उपलब्धियां, बोले- सिर्फ पुलिस का काम नहीं है अपराध खत्म करना

अपराधी चाहे किसी भी जाति का हो, किसी भी कौम का हो या किसी भी मजहब का हो, अपराधी का कार्य सिर्फ और सिर्फ अपराध करना होता है और ऐसे लोगों को सिर्फ अपराधी की नजर से देखा जाना चाहिए। वैसे लोगों को समर्थन नहीं दिया जाए, संरक्षण नहीं दिया जाए और आम जनता जब इस अपराध के संस्कृति के खिलाफ बंद हो जाए तो बड़े-बड़े अपराध पर अंकुश लग जाएगा

पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आज अचानक  पटना एसएसपी कार्यालय पहुंचे, अचानक डीजीपी के आने से पुलिस महकमे में खलबली मच गई  और आनन-फानन में जिले के सभी वरीय अफसर भागे-भागे पहुंचे।

डीजीपी ने बीते दिनों पटना में पंजाब नेशनल बैंक में लूट की घटना में पटना पुलिस की सफलता की चर्चा करते हुए उन सभी पुलिस कर्मियों को सम्मानित करने का फैसला लिया है, जो इस लूट कांड के उद्भेदन में शामिल रहे हैं।

बता दें कि लूट कांड के बाद पटना पुलिस जोनल आईजी संजय कुमार सिंह ने एक टीम गठित किया और जिसके द्वारा करीब 23 लाख रुपए नकद सहित पांच अपराधियों को गिरफ्तार किया गया।

डीजीपी उसी टीम को शाबासी देने पटना एसएसपी कार्यालय पहुंचे।  उन सभी लोगों को  हौसलाअफजाई किया।  इस मौके पर बिहार के जोनल आईजी संजय कुमार शर्मा, पटना एसएसपी उपेंद्र शर्मा, पटना सिटी एसपी ईस्ट जितेंद्र कुमार, पटना सिटी एसपी वेस्ट अशोक मिश्रा, पटना ट्रैफिक एसपी सह प्रभाव सिटी एसपी सेंट्रल डी अमरकेश, पटना ग्रामीण एसपी कांतेश मिश्रा भी मौजूद थे।

इस मौके पर डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने पत्रकारों से कहा कि पूरे बिहार में 80 फीसदी अपराधों के कार्डों का उद्भेदन हुआ है। पटना में ज्वेलरी शॉप की लूट हुई थी, जिसमें अपराधियों को ढूंढना कठिन था और पुलिस  ने उस कांड का उद्भेदन किया।

उन्होंने बताया कि मुजफ्फरपुर में भी सोना लूट की बड़ी घटना हुई। उसका भी पुलिस ने उद्भेदन किया और पूरे गिरोह को गिरफ्तार किया। वैशाली में मुथु फाइनेंस से सोना लूट हुई,उसमें भी पुलिस ने आधा सोना रिकवर किया। जिसमे तीन लुटेरे पुलिस से मुठभेड़ में मारे गए। उन लुटेरों से एके-47 बरामद भी किया गया।

डीजीपी ने कहा कि कुछ सोना 10 किलोग्राम तक बरामद नहीं हुआ था, उस सोने को भी और बाकी बचे अपराधियों को भी वैशाली से गिरफ्तार कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि यह जानकर आश्चर्य होगा कि सोने को 10 फीट जमीन के अंदर बोरे में डालकर एक कुएं के आकार में गड्ढा करके छुपाया गया। उस जमीन को खोदकर पुलिस ने वहां से सोना निकाला और अपराधियों को गिरफ्तार किया।

वहीं शिवहर लूट कांड की बाबत डीजीपी ने बताया कि उस लूट कांड में 29 लाख रुपए लूट लिए गए थे। पुलिस ने पूरा 29 लाख रुपए बरामद करते हुए अपराधियों को गिरफ्तार किया।

उन्होंने बताया कि बक्सर में 2 साल के बच्चे का अपहरण हुआ। पुलिस ने 4 दिनों के अंदर पूरे गिरोह को ध्वस्त कर दिया और सब की गिरफ्तारी की गई। साथ ही बच्चे को भी सकुशल बरामद किया गया।

डीजीपी ने कहा कि अपराध को समाप्त करना केवल पुलिस का काम नहीं है। इसमें समाज के हर वर्ग के लोग जब मिलकर के काम करेंगे। तब जाकर अपराध पर अंकुश लगाया जा सकता है। अगर हम जात के नाम पर मजहब के नाम पर पार्टी के नाम पर संप्रदाय के नाम पर अपराधियों का समर्थन करेंगे, तब अपराध की संस्कृति समाप्त नहीं होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.