सोनिया गांधी :एक करिश्माई नेतृत्व का सन्यास

-: जयप्रकाश नवीन :- कांग्रेस में लंबे समय तक अध्यक्ष पद पर रही श्रीमती सोनिया गांधी के बयान ‘ अब मैं रिटायर हो जाऊंगी’ भारतीय राजनीतिक परिदृश्य में इसके कई मायने हो सकते है। सोनिया गांधी उम्र के जिस पड़ाव पर पहुँच चुकी हैं, वहाँ से राजनीतिक सक्रियता की की इजाजत उम्र नहीं दे रही थी।

पिछले 19 सालों से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष रहना कोई आसान काम नहीं था। सोनिया गांधी राजनीति में उस समय आई जब कांग्रेस संक्रमण काल से गुजर रही थी। राजनीतिक पंडित कांग्रेस को डूबता जहाज बताने में लगें थे। वैसे भी सोनिया गांधी राजनीति में आना नहीं चाहती थी। पहले अपनी सास इंदिरा गांधी और फिर पति राजीव गांधी की नृशंस हत्या से  टूट चुकी थी।

सोनिया गांधी ने कांग्रेस कांग्रेस अध्यक्ष पद उस समय संभाला जब कांग्रेस की हालत खस्ता हो चुकी थी। लगा अब कांग्रेस खत्म होने वाला है। पार्टी को पुराना गौरव लौटना कोई आसान नहीं था ।लेकिन सोनिया गांधी ने इसे कर दिखाया।

उन्होंने अपने नेतृत्व कौशल से पार्टी में एक नई जान ही नहीं फूंकी। बल्कि 2004 और 2009 में कांग्रेस को सत्ता भी दिलाई।

सबसे बड़ी बात कांग्रेस ने 2004 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में पूरे देश में ‘शाइनिग इंडिया’ की धूम मची हुई थी। बावजूद एनडीए की सरकार सोनिया गांधी के सामने नहीं टिक पाई। जनता ने वाजपेयी और उनकी शाइनिग इंडिया की बुरी गत कर दी थी।

2004 में जब सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने शानदार वापसी की तब वह सता के बिल्कुल नजदीक थीं। पीएम की कुर्सी उनके हाथ में थीं। यहाँ तक हजारों समर्थक दस जनपथ पर सोनिया गांधी को पीएम की कुर्सी पर देखने के लिए खड़ा थी।

समर्थक सोनिया गांधी को पीएम बनता नहीं देख अपने कनपटी पर रिवाल्वर तक रख लिए थे। लेकिन अपने  समर्थकों के लाख प्रयास के बाद भी सोनिया गांधी मनमोहन सिंह को पीएम पद के लिए नाम की घोषणा कर देती हैं। पीएम पद की कुर्सी को ठुकरा कर देश की राजनीति में एक मिसाल बन जाती हैं।

सोनिया गांधी ने जब पहली बार अध्यक्ष पद ठुकराया तो एक संदेश देने की कोशिश की थी वो गुटों से उपर हैं, सता, ताकत की लालसा उनमें नहीं है। वो इन सब से दूर सुकून की जिंदगी जीना चाहती हैं। राजीव गांधी फाउंडेशन का काम करना चाहती थी। अपने परिवार और धरोहर को बचाना चाहती थी।

यहाँ तक कि नरसिंह राव के शासन काल में भी उन्होंने कभी राजनीतिक हस्तक्षेप नही की। वह तब तक अपने दो बच्चों प्रियंका और राहुल के साथ दस जनपथ तक ही कैद थी।कांग्रेस में आने के लिए सोनिया ने कोई जल्दबाजी नही की।

हालांकि कांग्रेस की  परंपरा रही है बिखरने की आपस में लड़ने और फूट जाने की। तब कांग्रेस को तत्काल सहारा देने के लिए सोनिया आगे आती हैं लेकिन सिर्फ़ चुनाव प्रचार तक ही।यानी राजनीति में आकर भी राजनीति से उपर। यानी वे जड़ में और चेतन में भी रहना चाहती थी।

जब कांग्रेस असहाय हो गई ।ऐसे में सोनिया गांधी को एक अवतार की तरह आगमन होता है। कांग्रेस की बागडोर वह थाम चुकी थी। लेकिन रह-रहकर उनके मन में यह विचार आ जाता था कि विदेशी मूल का जिन्न कभी भी बाहर आ सकता है।

ऐसा हुआ भी। जब सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष बनीं। कांग्रेस के तत्कालीन दिग्गज शरद पवार, पीए संगमा और तारिक अनवर ने ही विदेशी मूल का मुद्दा उठा उस जिन्न को बाहर निकाल दिया जो बोतल में बंद था । तीनों ने पार्टी छोड़ दी। पार्टी पर सोनिया गांधी का पूर्ण कब्जा हो चुका था।

लेकिन जिस विदेशी मूल को लेकर कांग्रेस छोड़कर जाने वाले  और महाराष्ट्र को अपने पॉकेट में रखने वाले शरद पवार की औकात शीघ्र पता चल गया। जब उन्हें विधानसभा चुनाव में तीसरे नम्बर पर रहना पड़ा । विपक्ष विदेशी मूल का मुद्दा उठाकर सोनिया को लगातार घेर रही थी।

तत्कालीन पीएम अटल विहारी बाजपेयी कहने लगे थे संसद में कि मुझे पैतालीस साल का अनुभव है।ये चंद सालों वाली कौन होती है मुझे पाठ पढ़ाने वाली। यहाँ तक कि सभी विपक्षी राजनीतिक दल सोनिया को विदेशी मूल के नाम पर एक जुट होकर विरोध कर रहे थे।

लेकिन सोनिया गांधी ने अटल विहारी बाजपेयी के घमंड को चकनाचूर ही नहीं किया उनकी ‘शाइनिग इंडिया ‘ को धूल चटा दी। जिस वाजपेयी जी केन्द्र में सत्ता पाने में 45 साल से ज्यादा का समय लग गया था। वो भी 22 राजनीतिक दलों के सहारे। लेकिन सोनिया ने चंद वर्ष में वह सारी दूरी पार कर ली थी। विदेशी मूल का मुद्दा पीछे छूट चुका था।

अपने 19 साल के राजनीतिक कैरियर में सोनिया गांधी सबसे ज्यादा समय तक कांग्रेस की अध्यक्ष रहने का रिकार्ड भी बना चुकी हैं। लेकिन अब उनका राजनीतिक संयास एक नया आयाम गढ़ेगा। कांग्रेस की राजनीति कमान फिर से गांधी परिवार के बीच ही रहेगा।उनकी कमी राजनीतिक तथा संसद में खलेगी।

कांग्रेस के नए अध्यक्ष के रूप में राहुल गांधी की ताजपोशी भी ऐसे समय हुई है। जब कांग्रेस पिछले तीन साल से कई विधानसभा चुनाव लगातार हार रही है। एक गंभीर नेतृत्व संकट से गुजर रही है।

भारतीय राजनीति से एक करिश्माई नेतृत्व का संयास लेना एक राजनीतिक शून्यता पैदा तो करती ही है। उनकी कमी भारतीय राजनीति को जरूर अखरेगी।

Related News:

इन 18 IPS को मिला सैलरी ग्रेड प्रमोशन, देखिए सूची
नालंदा डीएम की बड़ी कार्रवाई, नपे राजगीर मलमास मेला के 70 मजिस्ट्रेट, वेतन पर रोक
स्वच्छता मिशन के तहत पागल राजगीर की इस तस्वीर को क्या कहेगें ?
दिल्ली के जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों ने पीये मूत्र
नालंदा में मुखिया को मिली जान से मार देने की धमकी
दूध नहीं देने पर जल्लाद बना RPF जवान, रेलकर्मी परिवार के 5 लोगों को मारी गोली, 3 की मौत
मध्य बिहार ग्रामीण बैंक में सृजन की तर्ज पर हुये घोटाले, नहीं हो रही कार्रवाई
बिहार में भी 'बीफ' को लेकर बजरंग दल के 'गौ-गुंडों' का तांडव शुरू
नीतिश के सुशासन में RTI की धज्जियां, यूं नकारा है राज्य सूचना आयोग
परीक्षा केंद्रों पर 2 घंटा पहले पहुंचें मजिस्ट्रेट और पुलिस अफसर :डीएम
2543वां महावीर निर्वाण महोत्सवः सज-धज यूं तैयार हुआ पावापुरी
किसानों की समस्या को लेकर झामुमो का धरना-प्रदर्शन
मनरेगा में जेसीबी मशीन से सुसमय पूरा करें कार्यः सांसद रामटहल चौधरी
नव नालंदा महाविहार बोर्ड की बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय
ऐसे मंत्री को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त करें सीएमः तेजस्वी यादव
दर्ज मामलों के महज छठे हिस्से का अनुसंधान कर पाती है बिहार पुलिस
चमकी बुखार का खौफ से पलायन को मजबूर हुए पीड़ित परिजन
ललमटिया कोल माइंस में दबे करीब 40मजदूर, दर्जन भर शव निकाले गए
मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार के पूर्व गिरिराज, रुढ़ी समेत 6 मंत्रियों का इस्तीफा
स्कूल संचालक-प्रिसिंपल की अय्यासी के गवाह छात्र की हॉस्टल में हत्या
रिश्वतखोर सीओ को लेकर लामबंद सरकारी बाबूओं के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई
युवक को घर में घुस कर मारी गोली, मौके पर मौत, नालंदा डीएम-एसपी को बुलाने की मांग पर अड़े ग्रामीण
किसानों के साथ प्रशासन का चूहे-बिल्ली का खेल शुरू
हरनौत विधायक की रसूख में बौरा गई है कस्तूरबा की वार्डन-शिक्षिका, हो उच्चस्तरीय जांच  
ब्रजपात से बाल-बाल बचे सांसद आरसीपी सिंह, गाड़ी हुई क्षतिग्रस्त
राजधानी एक्सप्रेस में परोसा गया था सड़ा चिकन, मेडिकल जांच टीम की पुष्टि
कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक, कीर्ति आजाद को धनबाद से उतारने की तैयारी
बालू माफियाओं पर गरम,पत्थर माफियाओं पर नरम, कैसा सुशासन?
प्रमुख-उप प्रमुख चुनाव में किंग मेकर बनना चाहते हैं शिक्षक माफिया
अब सीएम नीतीश को उनके गाँव-जेवार में मुर्दाबाद के साथ काला झंडा! 
नक्सलियों ने भाजपा दफ्तर को उड़ाया, अर्जुन मुंडा हैं यहां पार्टी उम्मीदवार
हिलसा विधायक ने कहा- नालंदा किसी व्यक्ति विशेष की नहीं, जनता की जागीर
रामटहल चौधरी इंजीनियरिंग कॉलेज की छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर जला डाला
23 को सीएम रखेंगे आदित्यपुर शहरी जलापूर्ति योजना की आधारशिला
भगवान बिरसा जैविक उद्यानः पालक को ही 'रामू' ने यूं पटक-पटक कर मार डाला!
नीतिश सरकार के 29 में 22 मंत्रियों पर यूं दर्ज हैं क्रिमिनल केस
ओडीएफ जिले की ग्राउंड जीरो की पड़ताल में खुली सरकारी पोल
कुख्यात कुंदन पाहन ने चौंकाया, नेपाली PM प्रचंड ने झारखंड में ली थी नक्सली ट्रेनिंग!
छुटनी के संघर्षों को भूल गई सरकार!
आर्थिक तंगी के कारण किसान नहीं कर पा रहे हैं धनरोपनी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...