…सिर्फ इसलिए मंत्री-सांसद की पाट में फिस गई फूल !

Share Button

बिहार शरीफ नगर निगम की उप महापौर फूल कुमारी की कुर्सी चली गई। अब दोबारा कोई चमत्कार ही दिला सकता है, लेकिन उनकी कुर्सी जाने की असली वजह कोई अनियमियता या भ्रष्टाचार का मुद्दा नहीं है। क्योंकि इस हमाम में पूर्व हों या वर्तमान, कोई पूर्ण वस्त्रधारी नजर नहीं आते……….”

                                                                   -: मुकेश भारतीय / एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क :-

सियासत किसी स्तर की हो, कुर्सियां गिरती-पड़ती-उठती रहती है। लेकिन बिहार शरीफ नगर निगम की उप महापौर फूल कुमारी की कुर्सी जाने की मूल वजह काफी चौंकाने वाले हैं और आज की भद्दी राजनीति पर कई सवाल खड़े करते हैं।

इस खेल के पिछे पूर्व विधायक इंजीनियर सुनील की भूमिका न नायक की कही जा सकती है और न खलनायक की। हां उनमें एक विशुद्ध राजनीतिज्ञ की भूमिका समझ सकते  हैं, जो होनी भी चाहिए।

बिहार शरीफ नगर निगम के पहले उप  महापौर नदीम जफर उर्फ गुलरेज बने। उसके बाद उन्हें कुर्सी से बेदखल कर शंकर कुमार ने  कब्जा जमा लिया।

उसके बाद इस कुर्सी के लिए नदीम जफर की भाभी गजाला परवीन और शंकर कुमार की पत्नी फूल कुमारी दोनों मैदान में उतरी। उस चुनाव में फूल कुमारी को 25 और गजाला परवीन को 21 वोट मिले। फुल कुमारी उप महापौर बनी। 

अब फिर नदीम जफर की पत्नी शर्मीली परवीन इस चुनावी मैदान में शंकर कुमार की पत्नी फूल कुमारी के खिलाफ मैदाने जंग में उतरी है। 

राजनीतिक सूत्रों के अनुसार फूल कुमारी की कुर्सी जाने का सबसे बड़ा कारण सत्ताधारी जदयू की नालंदा जिले में हाई प्रोफाइल गुटबाजी है। पिछले लोकसभा चुनाव में शंकर ने राज्यसभा सदस्य आरसीपी सिंह खेमा में पार्टी प्रत्याशी का चुनाव प्रचार किया।

उधर, जिले में आरसीपी सिंह के बढ़ते कद से कतिपय चिंतित नालंदा विधायक एवं प्रदेश के वरीय कबीना मंत्री श्रवण कुमार को यह काफी नागवार लगी और उनके अपरोक्ष निर्देश पर पूर्व विधायक इंजी. सुनील चुनाव बाद शंकर की पत्नी फुल कुमारी को अपदस्त करने की मुहिम में जुट गए। जबकि फुल कुमारी को इंजी. सुनील ने ही अपने तिकड़मों से एड़ी-चोटी एक कर पदासीन किया था।

इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता कि बिहार शरीफ नगर निगम में भी वार्ड पार्षदों की खरीद-फरोख्त और हार्स ट्रेडिंग जमकर होती है।

यहां की स्थिति सट्टा बाजार से भी बद्दतर है। नालंदा की सियासत पर अपनी पकड़ मजबूत करने की मंशा रखने वाले इस भ्रष्टाचार को और भी बल देते आ रहे हैं।

बिहार शरीफ के किसी भी वार्ड में देख लीजिए। कोई भी योजना सलीके से अमलीजामा नहीं पहनाया जाता है। निगम के अंदर भी करोड़ो का खेला होता है। इसमें व्यवस्था का हर तंत्र बैटिंग-बॉलिंग-फिल्डिंग करते साफ नजर आते हैं, जो सियायतदार अंपायर द्वारा फिक्सड होता है।

Share Button

Related News:

शराब के नशे में धौंस जमाने वाला सत्ताधारी दल का खासमखास कारोबारी युवक गया जेल, थानाध्यक्ष का ऐसे माम...
सीएम नीतीश कुमार पर मर्डर केस और ढिबर गांव की पीड़ा
RTI से हुआ खुलासाः पटना में पेट्रोल 34.79 रुपये तो डीजल 37.19 रुपये प्रति लीटर, लेकिन सरकार ही है लु...
पइन में डूबने से इस्लामपुर स्नातक कालेज के प्रोफेसर की मौत
हिलसा में भी दिखा विपक्षी दलों के बिहार बंद का असर
 डायन की शक में वार्ड सदस्य और उसके भाई की गला रेतकर हत्या
राजगीर और बोधगया में शुरू होगा कचरा प्रबंधन योजना
आलू लदे ट्रक से बरामद दो करोड़ की 6 सौ कार्टून शराब समेत 2 धराये
मां के मंदिर में मां का प्रवेश वर्जित, गलत धर्म-गलत परंपरा
नियम विरुद्ध हो रहा है अकौना पंचायत सरकार भवन का निर्माण
विविधता में एकता हमारी संस्कृति की विशेषताः रघुबर दास
झारखंड के महामहिम को कचोट गई स्कूल गेट पर बजबजाती नाली
गिट्टी लदी ट्रक से टक्कराई बस, चालक-खलासी समेत 11 घायल, 4 गंभीर
किसान की ऐसी नृशंश हत्या से नालंदा में दहशत और अपराधी बेखौफ
HC ने AG से पूछा- MP और CM एक साथ कैसे रह सकते हैं योगी
जिला जज ने बिहार शरीफ पर्यवेक्षण गृह का यूं किया निरीक्षण, लगाए फलदार पौधे
बिहार में NEET का पेपर लीक! नालंदा से जुड़े तार, दो डॉक्टर समेत पांच गिरफ्तार
नालंदा के गिरियक प्रखंड का पुरैना पंचायत हुआ खुला शौच मुक्त !
सावधान! अब बिहारशरीफ में 'थर्ड आई' रखेगी आप पर नजर
खालिद अहमद बने प्रखंड युवा जदयू के निर्विरोध अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...