सिद्धनाथ मंदिर के विकास के नारे से गूंजा उठा राजगीर का वैभारगिरी पर्वत

राजगीर में विभिन्न धार्मिक स्थलों का विकास हुआ, लेकिन मगध के इस ऐतिहासिक धरोहर की उपेक्षा से हिन्दू धर्म के लोग ठगे महसूस कर रहे हैं………”

राजगीर (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। अखिल भारतीय जरासंध अखाड़ा परिषद की ओर से आयोजित भगवान सिद्धनाथ मंदिर में जलाभिषेक सह धरोहर सुरक्षा संकल्प यात्रा में हज़ारो लोगो ने वैभारगिरी पर्वत पर जलाभिषेक में शामिल हुए। साथ ही श्रद्धालुओं ने मंदिर परिसर में लंबी मानव शृंखला का निर्माण कर इसके विकास की आवाज़ बुलंद की।

सुबह से ही वैभारगिरी पर्वत पर जाने की होड़ भोलेभक्तो में लग गई थी और सभी ब्रह्मकुंड से जल लेकर भगवान सिद्घनाथ पर चल चढ़ाए। जरासंध अखाड़ा परिषद द्वारा आहूत इस कार्यक्रम में बिहार सहित अन्य राज्यो के जिले से श्रद्धालु जुटे ।

मगध सम्राट जरासंध द्वारा स्थापित यह पौराणिक ऐतिहासिक भगवान शंकर का मंदिर आज भी लोगो की मनोकामना पूरी करती है।

जरासन्ध अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष मिलन सिंह चन्द्रवँशी एवं राष्ट्रीय महासचिव श्याम किशोर भारती ने बताया कि इस ऐतिहासिक धरोहर की सरकारी स्तर पर उपेक्षा से हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग काफी चिंतित हैं।

वैभारगिरी पर्वत की सीढ़ियां आज श्रद्धालुओं से भरी पड़ी नज़र आई और ड्रोन के माध्यम से सारे कार्यक्रम को कवरेज किया जा रहा था।

कार्यक्रम में स्थानीय राजगीर विधायक, पूर्व विधान पार्षद भी शामिल हुए जो सिद्घनाथ मंदिर में जलाभिषेक कर मानव श्रृंखला में शामिल हुए।

जलाभिषेक के बाद सम्राट अशोक भवन के शहीद रौशन चन्द्रवँशी सभागार में धरोहर सुरक्षा संकल्प यात्रा कार्यक्रम की शुरुआत हुई।कार्यक्रम के शुरू में सीआरपीएफ में शहीद हुए रौशन कुमार के चित्र पर पुष्प अर्पित कर सैकड़ो लोगो ने श्रद्धा सुमन अर्पित किये।

धरोहर सुरक्षा कार्यक्रम में उपस्थित विधायक ने कहा कि राजगीर के इस पौराणिक, ऐतिहासिक धरोहर के विकास के लिए वे विधानसभा में इस बात को उठाएंगे और बिहार के मुखिया नीतीश कुमार जी को यहाँ की समस्या से अवगत कराएंगे। धार्मिक नगरी में ऐतिहासिक महत्व के स्थलों का सम्पूर्ण विकास होना अति आवश्यक है।

धरोहर सुरक्षा कार्यक्रम की अध्यक्षता भागवत प्रसाद ने किये जिसमे सभी लोगो ने राजगीर से जुड़े ऐतिहासिक धरोहरों की सुरक्षा की माँग की।

कार्यक्रम में विभिन जिलों के लोग शामिल होकर धरोहरों के विकास के लिये सामाजिक आंदोलन की ओर जोर दिए। लोगों ने बिहार सरकार और केंद्र सरकार से इसके विकास की मांग की। वहीं कार्यक्रम के बाद श्रद्धालुओं के बीच भंडारा का भी आयोजन हुआ।

इस अवसर पर अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय सचिव बुलबुल चन्द्रवँशी, कोषाध्यक्ष सत्येंद्र कुमार,अरुण मुखिया, राकेश कुमार,वीरू चन्द्रवँशी, राजहंस कुमार,देवदत्त प्रसाद,सरयुग प्रसाद,रोहित कुमार,नागेंद्र नाथ सिन्हा, बबलू कुमार, डॉ सुबोध कुमार, वीरेंद्र कुमार, मोहन प्रसाद, संजय कुमार,सत्येंद्र कुमार, रोहित कुमार, पँचायत समिति सदस्य पिंटू कुमार, अशोक प्रसाद, चन्देश्वर प्रसाद, दीपू कुमार,गौतम कुमार,गोलू कुमार,नन्दलाल चन्द्रवँशी सहित सैकड़ो लोग उपस्थित थे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.