सरकारी नौकरियों में जरुरी है प्रोन्नति के ऐसे प्रावधान

वर्तमान में ‘सब धान बाईस पसेरी’ की तर्ज पर प्रोमोशन मिलता है। जिससे मेहनत करने वाले कर्मी/पदाधिकारी के अंदर एक प्रकार का नैराश्य का भाव रहता है…..”

आलेखकः सुबोध कुमार, बिहार प्रशासनिक सेवा के उप सचिव स्तर के पदाधिकारी हैं और सामाजिक और प्रशासनिक सुधारों को लेकर विमर्श में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं.

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। सरकारी नौकरियों में आउट ऑफ टर्म  प्रोमोशन का प्रावधान होना चाहिए। सरकार को प्रोमोशन के लिए भी विभागीय परीक्षा लेनी चाहिए। ताकि योग्य,कर्मठ और जानकार कर्मी/ पदाधिकारी आगे बढ़ सकें।

योग्य व्यक्ति को योग्य कुर्सी मिलनी ही चाहिए। अभी  आउट ऑफ टर्म  प्रोमोशन न होने के कारण काम करने वाले और जानकार कर्मी/पदाधिकारी उतना काम नहीं करते, जितना वो कर सकते हैं।

काम करने वाले और काम न करनेवाले के बीच अंतर विभागीय परीक्षा से ही तो मालूम चलेगी।

जब कर्मठ एवं जानकार लोगों को भी प्रोमोशन क्रमवार ही मिलेगा तो वो भी यही सोचेंगे कि “ज्यादा मेहनत करने से क्या फायदा,कोई प्रोमोशन थोड़े ही पहले मिल जाएगा”।

इसमें कोई दो मत नहीं है कि आज की तारीख में कई ऐसे पदाधिकारी/कर्मी ऊपर के पद पर जानकारी न होने के बावजूद पहुँचे हुए हैं, जो अपने नीचे के पदाधिकारियों / कर्मियों को उचित मार्गदर्शन दे पाने में सक्षम नहीं हैं।

साथ ही अधीनस्थ जानकार लोग उनकी आँखों में खटकते हैं। यह सामान्य मनोविज्ञान है।

विभागीय परीक्षा से प्रोमोशन मिलने से किसी के पास कहने के लिए कुछ भी नहीं रहेगा। जब योग्यता के अनुसार ही कुर्सी मिलेगी तो प्रोमोशन पाने के लिए मेहनत कर आगे निकलने की होड़ रहेगी, जो बदलते बिहार के लिए एक शुभ संकेत होगा।

Related News:

नहीं रहे डॉ. जगन्नाथ मिश्रा😓💐💐💐
लालू ने रांची के प्रेस कॉफ्रेंस में नीतिश-भाजपा पर यूं किया कड़ा पलटवार
मोदी ने वाजपेयी की गरिमा लौटाई : एच राजा
कहां से उड़ी विधायक अनंत सिंह की हत्या की सुपारी की खबर, पटना SSP हैरान
महापापी दलाल पत्रकार ब्रजेश ठाकुर को लेकर महिला आयोग का सामने आया दोहरा चरित्र
रिश्वत लेते हत्थे चढ़े दारोगा ने किया निगरानी टीम पर हमला, एक कर्मी PMCC रेफर
वैभारगिरी पर्वत पर पर्यटकों से भारी लूटपाट, बिल्कुल नाकारा बनी राजगीर पुलिस
बिजली पानी को लेकर ग्रामीणों का सड़क जाम, पथराव, थानेदार समेत 4 पुलिसकर्मी चोटिल
सड़क दुर्घटना में अस्पताल प्रबंधक की मौत
पिता-पुत्र को सरेआम गोली मारी, पुत्र की मौत
टैक्टर ने 3 स्कूली सगी बहन को रौंदा, हादसे के बाद आक्रोशितों का भारी उपद्रव, हालात बेकाबू
कुशासन-भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों की एकजुटता जदयू प्रत्याशी की बड़ी मुसीबत
नवादा का दुष्कर्मी कोचिंग टीचर नावालिग पीड़िता संग धराया, गया जेल
प्रमंडलीय आयुक्त का बड़ा फैसलाः बक्सर के सारे BRP वर्खास्त, DPO समेत सबों पर राशि वसूल FIR का भी आदे...
अडानी की जन सुनवाई में बवंडर, माहौल तनावपूर्ण
नालंदा डीएम का पल्स पोलियो को लेकर अंचभित आदेश, अफवाहबाजों को मिलेगी बल
ललन सिंह जैसे मंत्री के जूते छूने वाले ऐसे खाकी धारी को बर्खास्त करे चुनाव आयोग
प्रेम-प्रसंग में भागी लड़की, परिजनों ने प्रेमी के भाई को उठाया, गये 3 जेल 
एक प्रेम-प्रसंग को लेकर यूं चर्चा में आई पटना और नालंदा की ये थाना पुलिस
गजब! सीएम नीतीश के गाँव से वीडियो वायरल, छात्र से बोला शिक्षक-पैसा दो, दारू लाओ,साथ पीयेगें
गुंडों-मवालियों की फौज बना रखी है सुपर-30 के कथित गणितज्ञ आनंद!
नालंदा एसपी कार्यालय के भ्रष्ट प्रधान लिपिक और लेखापाल पर क्यों नहीं हो रही कार्रवाई
आर्म्स एक्ट के दोषी किशोर को मिली बाढ़ पीड़ितों की मदद करने की सजा
बड़ा खुलासाः  नालंदा में चल रहा है 'आओ शिक्षक बनें' का गोरखधंधा
नालंदा में 2 प्रेमी युगल की लोगों ने यूं पकड़ कर कराई शादी !
भारत सरकार का ऐय्याश भगोड़ा विजय माल्या लंदन में गिरफ्तार
कोडरमा-हजारीबागः अवैध खनन और क्रेशरों पर कार्रवाई से उठ रहे सबाल
नालंदा : आवास पर्यवेक्षक के भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच या नौटंकी ?
कृषि मंत्री ने कांग्रेस नेत्री को जड़ा थप्पड़, थाना में हुई एफआईआर
दैनिक हिन्दुस्तान के क्राईम रिपोर्टर को चाकू गोदा, हालत गंभीर
महादलित महिला के काटे बाल, मुंह पर पोती कालिख, गले में चप्पल डाल सरेआम घुमाया, भीड़ तमाशबीन
पुलिस की चार्जशीटः  मॉब लिंचिंग से नहीं हुई थी तबरेज की मौत!
महेश ठाकुर नहीं, पूरी व्यवस्था थूक चाट चप्पल खा गई!
6 दिनों से जारी नालंदा जिला अधिवक्ता संघ की हड़ताल समाप्त
हरियाणा का भैंसा और बिहार का साढ़, बना सोनपुर मेला की शान
‘आम’ से ‘खास’ हो गई बैठक,पार्षद और कार्यपालक के बीच बहस, भ्रष्टाचार बना मुद्दा,तोड़ी कुर्सियां
मेरी भी शादी करा दें 'मोदी अंकल' :तेजप्रताप
‘शस्त्र’ छोड़ पकड़ा ‘शास्त्र’ तो बदल गई जीवन की धारा !
नालंदा में अपराधी बेखौफ: आज जदयू नेता की शिक्षिका बेटी की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या
गिरती कानून-व्यवस्था के बीच थानों में इस बदलाव के असल मायने?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...