शराबबंदी फेल, किम जोंग से कम नहीं हैं नीतीश

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। बिहार में शराबबंदी के बाद भी शराब मिल रहे हैं, तभी तो लोग शराब पी रहे हैं। क्या सरकार ने जिले के थानेदारों को सस्पेंड किया?

सीएम नीतीश कुमार ने तो साफ कहा था पूर्ण शराबबंदी लागू होने के बावजूद अगर किसी थाना क्षेत्र में शराब की बिक्री हो रही है तो संबंधित थानाध्यक्ष नपेंगे। उन पर सीधे सीधे कार्रवाई करते हुए दस वर्षों के लिए थानेदारी से हटा दिया जाएगा। वहीं, दोष सिद्ध होने पर सीधी बर्खास्तगी की कार्रवाई किए जाने की बात कही थी। उसका क्या हुआ?

शराब मिल रहा हैं। तभी तो लोग पी रहे हैं। शराब इस लिए लोग पी रहे हैं, क्यूंकि शराब का काला कारोबार गांव-गांव चल रहा हैं। पुलिस और सरकार पूरी तरह से शराब रोकने में नाकाम रही हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार अब तक पीने-बेचने के जुर्म में 3 लाख से उपर लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। इसमें 95 फीसदी लोग गरीब एवं दबे कुचले वर्ग से आते हैं।

साधन सम्पन्न लोगों के सामने पुलिस-प्रशासन याचक की मुद्रा में होते हैं।

अब सोचिये अब तक एक लाख से ऊपर लोग जेल में होंगे और उनके जेल जाने से करीब पांच लाख लोगों की घर बर्बाद हो गई होगी, क्योंकि घर चलाने वाला ही जेल चला गया।

नशा के आदतन व्यक्ति को अगर चोरी छुपे शराब मिलेगा तो पिएगा ही। चाहे उसे जेल क्यों न भेज दिया जाए। क्या सरकार के पास क्षमता है कि शराब के कारोबार को ख़त्म कर सकें।

नहीं क्षमता हैं तो इतने कठिन कानून लाने की क्या जरुरत थी कि लाखों गरीब को जेल में ठुसते रहे उसके शराब पीने के लिए?

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने सही ही लिखते हैं कि “जिसके पास पैसा है वो तो शराबबंदी की चपेट में नहीं है। सरकार शराब बिके नहीं, पहुंचे नहीं यह सुनिश्चित करा दे, किसी ग़रीब को पांच साल की जेल भेजने का क्या तुक है।”

“कई दशक तक आप किसी को शराब पीने की छूट देते हैं। लाइसेंस देकर गांव गांव में शराब की दुकाने खुलवाते हैं। एक दिन आप ही उठते हैं और शराबबंदी का एलान कर एक लाख से अधिक लोगों को जेल में बंद कर देते हैं। क्या यह उचित और तर्कसंगत लगता है?”

सरकार के इन फैसलों की वजह से कई बार लगता हैं बिहार में भी कहीं किम जोंग जैसा तानाशाह सरकार तो नहीं हैं, जो कभी शराब बेचवाता हैं तो कभी बंद करता हैं। लेकिन उसका इफ़ेक्ट यह हो रहा है कि इस राज्य के लोग जेल में ठुंसे कम और पुलिस के हाथों निचोड़े अधिक जा रहे हैं।

हम खुश हैं शराबबंदी से। लेकिन शराबबंदी तो करवाइए। गरीब लोगों को ठुंसे जा रहे हैं। आप सिर्फ शराब कारोबारी को ठुंसिये। जेल भरो कार्यक्रम से बढ़िया हैं शराबबंदी पर ध्यान दीजिये और लोगों के बीच नशा छुड़ाने का उपाय करते रहिये।

नहीं तो शराबबंदी बेकार हैं। जितना घर बचेगा, उससे ज्यादा उखड़ जायेगा इस तरह की शराबबंदी से। नीतीश जी किम जोंग बन के रह जाएंगे।

Share Button

Related News:

मीडिया की परेशानी और चुनौतियों को भारत सरकार तक पहुंचाने की गुजारिश
गवर्नर को झारखंड भू-अर्जन संशोधन और धर्म स्वतंत्र बिल मंजूर
पटना डीआईजी की कविता संग्रह 'जी ले जरा' का सीएम ने यूं किया विमोचन
प्रताड़ना से तंग आकर पीएफ कार्यालय कर्मी ने बाथरुम में की यूं आत्महत्या
स्वामी अग्निवेश पर भाजपाईयों का कातिलाना हमला, सीएम ने दिये जांच आदेश
नहीं बिके पंसस तो चंडी प्रखंड प्रमुख-उपप्रमुख की कुर्सी जाना तय
आचमन तो छोड़िये, नहाने लायक भी नहीं रह गया बड़गांव सूर्य तालाब
कुकड़ू पुलिस नरसंहार का खुलासाः 4 नक्सली धराए
नालंदा एसपी ने हिलसा पूर्व डीएसपी की जांच को पलटा, अब चावल घोटाला ने लिया ‘यू-टर्न’
'कैसे होई खांटी विकास? जब 28-30 प्रसेंट लागे कमीशन और खुद भी चाही राशन'
रिश्वत लेते रंगे हाथ निगरानी के हत्थे चढ़े हिलसा सीओ के बचाव में उतरे विधायक
घोर उपेक्षा का शिकार है राजगीर का बंगाली युवा छात्रावास
राजगीर के शराबी ASI के इस काउंटर FIR से नालंदा SP बेनकाब
ABC ने घूसखोर अभियंता और कृषि अधिकारी को पकड़ा
DGP पर बरसे CM, कहा- ले डुबेगी MEDIA की ऐसी सुर्खियां
पूरे सूबे में जनजागरण चला रहा सामाजिक न्याय यात्रा रथ
छपरा में गैंग रेप, RPF रक्षकों ने ही लूट ली अबला अस्मत
खाई में गिरी बस, 1 की मौत 18 से उपर घायल, 6 गंभीर PMCH रेफर
अमन मार्च के आतताईयों पर सख्त धाराएं लगी, अब तक 36 गये जेल
कैमरे को भा रही है राजगीर-पांडु पोखर, आज ‘जोगिया ओ जोगिया’ एल्बम की हुई शूटिंग
शादीशुदा महिला से अवैध संबंध बनी प्रदेश जदयू छात्र महासचिव की नृशंस हत्या का कारण !
कहीं सीएम हालत देख उखड़ न जाएं,सीओ ने घंटों खड़े होकर सडक पर यूं धुलवाई शौच
नालंदा में ह्दय विदारक घटना, करंट से चार किसानों की मौत
जिला परिषद-प्रशासन के लिये चुनौती बना थाना का अदद पुलिस कांस्टेबल
DGP साहेब आंखे खोलिए, देखिए कैसे होते हैं फर्जी FIR
मंत्री ने नीरपुर पंचायत को हवा में ही कर दिया ओडीएफ घोषित
बदलते झारखंड की विचलित करने वाली यह भी एक सच्चाई!
नालंदा में प्रेस रिपोर्टर बने अनेक नियोजित मास्टर, क्या बेखबर है प्रशासन?
विकास पुरुष के गृह जिले नालंदा के श्रीरामचक-महतोचक गांव में देखिये विकास का आयना
दूध नहीं देने पर जल्लाद बना RPF जवान, रेलकर्मी परिवार के 5 लोगों को मारी गोली, 3 की मौत
पटना डीआईजी के आदेश की थानेदारों ने यूं निकाली हवा
“ कहअ हकई के तू मरल हकहीं, जिंदा कबे होबई बाबू ”
नक्सली मुठभेड़ में कोबरा के जवान को गोली लगी, चौपर से रांची रेफर
11 मार्च को पूरी तरह टूट जायेगा भाजपाई रथ का पहिया: लालू
बस की चपेट से मजदूर की मौत के बाद सड़क जाम, हंगामा, आगजनी, गुंडई
राजगीर नगर पंचायत की नई सरकार के सामने होगी ये चुनौतियां
गोबरछत्ते की तरह उगे कोचिंग संस्थानों पर नालंदा डीएम की बड़ी कार्रवाई
डीएम की समीक्षात्मक बैठक में पंचायत सचिवों पर गिरी गाज, मुखिया भी नपे
भाजपा सचेतक पहुँचे पीड़िता के घर, मीडिया पर दबाब बनाने में जुटी पुलिस
RJD नेता प्रभुनाथ सिंह को MLA अशोक सिंह मर्डर केस में उम्रकैद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...