शराबबंदी फेल, किम जोंग से कम नहीं हैं नीतीश

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। बिहार में शराबबंदी के बाद भी शराब मिल रहे हैं, तभी तो लोग शराब पी रहे हैं। क्या सरकार ने जिले के थानेदारों को सस्पेंड किया?

सीएम नीतीश कुमार ने तो साफ कहा था पूर्ण शराबबंदी लागू होने के बावजूद अगर किसी थाना क्षेत्र में शराब की बिक्री हो रही है तो संबंधित थानाध्यक्ष नपेंगे। उन पर सीधे सीधे कार्रवाई करते हुए दस वर्षों के लिए थानेदारी से हटा दिया जाएगा। वहीं, दोष सिद्ध होने पर सीधी बर्खास्तगी की कार्रवाई किए जाने की बात कही थी। उसका क्या हुआ?

शराब मिल रहा हैं। तभी तो लोग पी रहे हैं। शराब इस लिए लोग पी रहे हैं, क्यूंकि शराब का काला कारोबार गांव-गांव चल रहा हैं। पुलिस और सरकार पूरी तरह से शराब रोकने में नाकाम रही हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार अब तक पीने-बेचने के जुर्म में 3 लाख से उपर लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। इसमें 95 फीसदी लोग गरीब एवं दबे कुचले वर्ग से आते हैं।

साधन सम्पन्न लोगों के सामने पुलिस-प्रशासन याचक की मुद्रा में होते हैं।

अब सोचिये अब तक एक लाख से ऊपर लोग जेल में होंगे और उनके जेल जाने से करीब पांच लाख लोगों की घर बर्बाद हो गई होगी, क्योंकि घर चलाने वाला ही जेल चला गया।

नशा के आदतन व्यक्ति को अगर चोरी छुपे शराब मिलेगा तो पिएगा ही। चाहे उसे जेल क्यों न भेज दिया जाए। क्या सरकार के पास क्षमता है कि शराब के कारोबार को ख़त्म कर सकें।

नहीं क्षमता हैं तो इतने कठिन कानून लाने की क्या जरुरत थी कि लाखों गरीब को जेल में ठुसते रहे उसके शराब पीने के लिए?

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने सही ही लिखते हैं कि “जिसके पास पैसा है वो तो शराबबंदी की चपेट में नहीं है। सरकार शराब बिके नहीं, पहुंचे नहीं यह सुनिश्चित करा दे, किसी ग़रीब को पांच साल की जेल भेजने का क्या तुक है।”

“कई दशक तक आप किसी को शराब पीने की छूट देते हैं। लाइसेंस देकर गांव गांव में शराब की दुकाने खुलवाते हैं। एक दिन आप ही उठते हैं और शराबबंदी का एलान कर एक लाख से अधिक लोगों को जेल में बंद कर देते हैं। क्या यह उचित और तर्कसंगत लगता है?”

सरकार के इन फैसलों की वजह से कई बार लगता हैं बिहार में भी कहीं किम जोंग जैसा तानाशाह सरकार तो नहीं हैं, जो कभी शराब बेचवाता हैं तो कभी बंद करता हैं। लेकिन उसका इफ़ेक्ट यह हो रहा है कि इस राज्य के लोग जेल में ठुंसे कम और पुलिस के हाथों निचोड़े अधिक जा रहे हैं।

हम खुश हैं शराबबंदी से। लेकिन शराबबंदी तो करवाइए। गरीब लोगों को ठुंसे जा रहे हैं। आप सिर्फ शराब कारोबारी को ठुंसिये। जेल भरो कार्यक्रम से बढ़िया हैं शराबबंदी पर ध्यान दीजिये और लोगों के बीच नशा छुड़ाने का उपाय करते रहिये।

नहीं तो शराबबंदी बेकार हैं। जितना घर बचेगा, उससे ज्यादा उखड़ जायेगा इस तरह की शराबबंदी से। नीतीश जी किम जोंग बन के रह जाएंगे।

Share Button

Related News:

एसपी के ग्रेडिंग में सुशासन बाबू के गृह थाना हरनौत को मिला ग्रेड "D"
पंचायत समिति की बैठक से नदारत रहे विभागीय अफसर
रांचीः पथराव पर पुलिस की आंसू गैस, जमशेदपुरः ट्रक फूंका, ट्रेनें रोकी, 6 हजार हुये गिरफ्तार
महागठबंधन के कथनी और करनी में फर्कः राजीव रंजन
पुत्र सुदय यादव ने अपने स्व.पिता को रिकार्ड तोड़ दी श्रद्धांजलि
गजब, मासिक 1 लाख पाने वाली महिला आयोग की इस अध्यक्ष को चाहिए पीएम आवास !
पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के घर से CBI को मिले 40 कारतूस समेत अहम सुराग
'10 से 14 साल के बच्चों को मार कर पुलिस ने बताया था कुख्यात नक्सली'
दो सीओ का वेतन बंद कर नालंदा डीएम ने दी चेतावनी- लोक शिकायतों का निष्पादन नही, करें निवारण
DC ने सृजन में बच्चों की प्रदर्शनी को सराहा
ठन-ठन की सुनो ठनकार...ई है CM का जनता दरबार... देखिये CO क्या बोलता है...
इंटर मार्क्स बढ़ाने वाले गिरोह के तीन सदस्य कतरीसराय में धराये, अन्य की तलाश जारी     
अनियंत्रित बस गड्ढे में पलटी, 4 की मौत, आक्रोशितों ने लगाई बस में आग
आजसू वुद्धिजीवी मंच ईकाई का पुर्नगठन
नपे नालंदा PGRO राजेश सिंह, लगा एक हजार का अर्थदंड, वेतन से वसूलने का आदेश
आरटीआई एक्टिविस्ट पर फर्जी केस, पुलिस ने दिखाई बर्रबरता
भ्रष्टाचार की यूं भेंट चढ़ रही है सीएम सात निश्चय योजना
अनुसंधान करने गया जा रहे दारोगा की मानपुर स्टेशन पर ट्रेन से कटकर मौत
कोडरमा घाटी लूटकांड पर्दाफाश की कहानी, एसपी शिवानी तिवारी की जुबानी
खुले में शौच कर लौट रहे अधेड़ को ट्रेलर ने कुचला, बिहारशरीफ-राजगीर मार्ग जाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...