विधायक डॉ. सुनील के पिता आईसीयू में भर्ती, इधर पैसा नहीं देने पर एक ‘मीडिया गैंग’ ने रचा यह खेल !

मुकेश भारतीय/एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क

कल देर शाम नालंदा जिले एक माननीय विधायक के लापता होने के संबंधित चस्पे पोस्टर की सूचना मिली। वह पोस्टर बिहारशरीफ विधानसभा से लगातार निर्वाचित भाजपा विधायक डॉ. सुनील कुमार से जुड़ा  है।

एक चिन्हित गांव में चस्पे पोस्टर के अनुसार विधायक अपने क्षेत्र से लापता हैं और ग्रामीण उन्हें ढूंढ रहे हैं। ईनाम की घोषणा कर रखे हैं।

वेशक यह सूचना काफी चौंकाने वाली थी। उसके साथ जिस तरह के फोटो-वीडियो क्लीप भेजे गए थे, उसमें कई राज  छुपे होने के संकेत मिले। सब कुछ प्रायोजित दिख रहा था।

तब हमने बिहार शरीफ में अपनी नेटवर्क को सक्रिय किया। रहुई प्रखंड के जिस गांव क्षेत्र में विधायक के गायब होने के पोस्टर चस्पे थे, वहां एवं उसके आसपास के क्षेत्रों से अपने आश्वस्त सूत्रों द्वारा जानकारी जुटाई। विधायक से भी पहली बार दो टूक बात की।

डॉ. सुनील और उनका परिवार इन दिनों काफी मानसिक तनाव की स्थिति से गुजर रहे हैं। उनकी बेटी की हाल ही में हुई शादी के पहले से ही उनके पिताजी बीमार चल रहे हैं। इधर उनकी हालत काफी नाजूक है और फिलहाल वे साईं अस्पताल के आईसीयू में भर्ती है। हालत मरनासन्न (ईश्वर न करे) बताई जाती है।

विधायक को जब उनके क्षेत्र में उनके विरुद्ध सटे पोस्टर की ओर ध्यान दिलाया गया तो उन्होंने गमगीन आवाज में जो कुछ बताया, वह मीडिया जगत को काफी शर्मसार करने वाली है।

विधायक ने बताया कि यह कारीस्तानी उनके किसी विरोधी की नहीं, ग्रामीण की नहीं,  नालंदा की मीडिया में घुसे 2-3 युवकों की है। ये लोग पहले भी ऐसा कर चुके हैं। यह सब वैसे ही मीडियाकर्मियों की नीजि हित की पूर्ति न करने का परिणाम है।

उन्होंने बताया कि कि इसके पहले दैनिक जागरण अखबार के बिहार शरीफ दफ्तर से फोन आया और विज्ञापन के नाम पर 10-15 हजार रुपए की मांग की गई। अन्यथा खबर प्रकाशित करने की चेतावनी दी गई।

उन्होंने बातचीत के दौरान आगे तीन युवकों का नाम लिया और कहा कि मुश्किल दौर में पोस्टर के नाम पर यह सब शाजिस में इन्हीं का हाथ है। स्पष्ट तौर पर ऋषिकेष कुमार, सोनू पांडे, राजू मिश्रा का नाम लिया

अब आगे हमने विधायक डॉ. सुनील के आरोपों को गंभीरता से लिया और उसकी पड़ताल में जुट गया। सारे आश्वस्त लोग उसकी पुष्टि कर रहे थे, लेकिन मीडियाकर्मियों पर साबित करना बड़ा मुश्किल लग रहा था।

लेकिन हमारी सारी मुश्किल मीडियाकर्मियों की हुई पुनः कारस्तानी ने आसान ही नहीं कर दिया, अपितु सारे राज खोल कर रख दिये। सारे खेल सामने आ गए। जिससे यह स्पष्ट हो गया कि यह सारा माजरा नालंदा की मीडिया के एक ‘गैंग’ द्वारा जनित है। 

इस खबर को एक एप्प में चलाया गया। उसके बाद एक न्यूज चैनल में। उसे कई वेब न्यूज पोर्टलों में प्रेषित किया गया। अनेक सोशल ग्रुपों में वायरल हुआ। उसके अगली सुबह सिर्फ उसी अखबार में प्रकाशित किया गया, जिसकी वसूली के जिक्र विधायक ने पहले ही कर दी थी।

सबसे गंभीर और हैरान करने वाली बात यह है कि एप्प, न्यूज चैनल, वेब न्यूज पोर्टल और अखबार में जो कंटेंट प्रसारित-प्रकाशित किए गए, वे अक्षरशः एक समान हैं। उससे साफ स्पष्ट होता है कि एक ही मीडियाकर्मी ने उसे लिखा और अपनी ‘गैंग’ के जरिए  वायरल किया।

विधायक कहते हैं कि वे अपने क्षेत्र पर अधिक ध्यान देते हैं। वे मीडिया की सुर्खियां बने रहने में रुचि नहीं लेते। कतिपय मीडियाकर्मियों को पर्व-त्याहोरों पर गिफ्ट चाहिए। मन मुताबिक विज्ञापन के नाम पर पैसे चाहिए।

उन्हें आए दिन होटलों में पार्टी चाहिए। वे कहां से करें। राजनीति में वे झूठे ईमेज के लिए पैसा कमाने और बांटने के हेतु नहीं आए हैं।  इसीलिए वे मीडिया से दूरी बना ली है। पहले वे यथासंभव देते रहते थे। लेकिन इधर वे काफी परेशानी के दौर से गुजर रहे हैं।

आगे कहा कि उनके पिता लंबे अरसे से बीमार चल रहे हैं। अभी वे गंभीर हालत में आईसीयू में भर्ती हैं। हाल ही में उनकी बेटी की शादी हुई है। उसमें खुद सीएम नीतिश कुमार भी शामिल हुए थे। ऐसे में ऐसे कथित मीडियाकर्मियों की ओछी हरकत………..( इसके आगे वे फफक पड़े)

बहरहाल, जनता द्वारा निर्वाचित किसी भी माननीय को लेकर स्वजनित सूचनाएं वायरल करना, पक्ष की जगह पैसे की मांग करना एवं वायरल कंटेंट ही अगले दिन हुबहु अखबार में प्रकाशित होना एक विभत्स्व चेहरा उजागर करता है, जो पूरे मीडिया जगत और उससे जुड़े लोगों को शर्मसार करती है।

Related News:

फेसबुक लाइव में बोले बिहार डीजीपी- 'अलग होगी विधि-व्यवस्था और अनुसंधान टीम'
11 जिलों में 839 पुलिस इंस्पेक्टर, सब-इंस्पेक्टर,जमादार का रेंज ट्रांसफर, देखें पूरी सूची
फर्जी शिक्षकों की अब खैर नहीं, निगरानी ने यूँ कसा शिकंजा
साइबर गैंग का बड़ा खुलासा, 13लाख नगद, 13पास बुक, 7एटीएम समेत एक धराया
गोड्डा में बीजेपी का सुशासन दिवस रहा फ्लॉप !
राजगीर महोत्सव को यादगार और ऐतिहासिक बनाने में जुटा नालंदा जिला प्रशासन  
छठ घाट जा रहे दो लोगों को एक साथ गोलियों से भूना, मौत
बेन CDPO की इस हरकत से प्रखंड प्रमुख के आरोपों को मिलता है बल
सजा के सदमें से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की ईकलौती बहन की मौत
योग नहीं, भोग दिवस मना अरबों रुपये लुटा रही है सरकारः हेमंत सोरेन
बिहार उपचुनावः मचा घमासान, RJD से लड़ेगें JDU विधायक
चतरा सांसद सुनील सिंह ने बिधुत प्रबंध निदेशक को लिखा त्राहिमाम पत्र
एनएचएआई की कृपा से टोयटा शो रुम ने बनाया मौत का गढ्ढा
मुजफ्फरपुर-दिल्ली बस में लगी आग, 27 यात्री राख
यूपी-बिहार का कुख्यात एके 47 धारी मोस्ट वाण्टेड पप्पू श्रीवास्तव धराया
एक सप्ताह गांधीगिरी, फिर कड़ी कार्रवाई: डीसी
दोस्त के घर फंदे से झुलता शव, मामला संदिग्ध
सीएम की रस्म अदायगी जारी, मंत्रियों से मांगा संपत्ति का ब्योरा  
जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्याम किशोर झा ने संभाला पदभार, बताई प्राथमिकता
सोने की लालच में लूटा गया सिजरा था लकड़ी का, सिजरा लूट कांड में 7 धराये
भाजपा नेताओं की मौजूदगी में टुसू मेले में जमकर परोसी गई यूं अश्लीलता
अनुमंडल अस्पताल में नहीं दिया एम्बुलेंस, बाइक पर यूं ले गए शव
भारत बंद के दौरान बिहार शरीफ में हुई जमकर तोड़-फोड़
लोहे की खंती पीट-पीट कर युवक की हत्या, 6 घायल
BJP MP मनोज तिवारी के खिलाफ फ्रॉड और चीटिंग का केस
देखिए वीडियोः राजगीर का नगर प्रबंधक है या गुंडा?
लाश को एम्स पटना रेफर करते धराये जीवन ज्योति सुपर स्पेस्लिटी अस्पताल में हंगामा
नालंदा महिला कॉलेज में पढ़ाई नहीं, फिलहाल हो रहा यूं टाईम पास
रांची में जहरीली शराब पीने से 2 जैप जवान समेत अब तक 9 की मौत
सर्वाधिक चर्चा के केन्द्र बने दुर्गा पंडाल में लगीं लालू-राबड़ी की यह प्रतिमा
एकंगरसराय चौराहे पर भाजपा ने मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री का पुतला फूंका
बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने स्टेट बार काउंसिल चुनाव पर लगाई रोक
मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने में विफल है सरकारः अंतु तिर्की
हाथियों से परेशान किसानों का प्रदर्शन, वन प्रमंडल पदाधिकारी को बनाया बंधक
विधानसभा चुनाव-2020ः अभी भाजपा-जदयू के बीच यूं चल रहा 20-20
महागठबंधन के कथनी और करनी में फर्कः राजीव रंजन
चुट्टुपालू घाटी में आपसी टक्कर से 2 ट्रक और 1 तेल टैंकर राख
5 साल पूर्व मृत के नाम 85 लाख का बीमा करा किया क्लेम !
तेजस्वी की 'जनादेश अपमान यात्रा' के  निशाने पर नीतीश की अंतरात्मा
भाजपा सचेतक पहुँचे पीड़िता के घर, मीडिया पर दबाब बनाने में जुटी पुलिस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...