वरिष्ठ संपादक हरिनारायण जी ने यूं उकेरी उषा मार्टिन एकेडमी के छात्र की पीड़ा

Share Button

साथियो आज मैं बहुत ही चिंतित हूं। चिंता का कारण कोई व्यक्तिगत नहीं, बल्कि एक छात्र की पीड़ा है, जिसे सुन कर मैं विचलित हूं। आप भी सुनिये उस पीड़ा को।

harinarayan singh facebook postगढ़वा का एक छात्र 2011 में जिमखाना क्लब पहुंचा। वहां पर उसने उषा मार्टिन एकेडमी का बोर्ड देखा। वह उस तरफ आकर्षित हुआ। कैंपस में पहुंचा। वहां बताया गया कि उषा मार्टिन एकेडमी बीबीए, बीसीए, बीएसीआइटी, एमबीए, एमसीए का रेगुलर कोर्स कराती है। उस बच्चे ने वहां एडमिशन ले लिया। एडमिशन में 30 हजार रुपये लगे।

उसे बताया गया कि 2014 में उसे रेगुलर डिग्री मिल जायेगी। उषा मार्टिन एकेडमी के नाम पर वह छात्र प्रभावित हुआ। उस जैसे हजारों छात्र प्रभावित हुए। वह रांची में रह कर पढ़ाई करने लगा। रेगुलर क्लास होने लगा। छह सेमेस्टर में उसने 1.20 लाख रुपये जमा किये। रांची में रहने में उसे हर माह दस हजार रुपये खर्च हो रहे थे। तीन साल में उसने साढ़े तीन लाख रहने, खाने में खर्च किये।

उसके परिजनों ने जमीन बेच कर फीस दी। उसे 2014 की जगह 2015 में डिग्री दी गयी। उसे उषा मार्टिन एकेडमी की तरफ से करेक्टर सर्टिफिकेट मिला। उसे उषा मार्टिन एकेडमी की तरफ से मनी रिसिप्ट दी गयी। डिग्री देख वह अवाक हो गया। डिग्री पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी की थी।

खैर, उसने सोचा कि चलिए वही सही, रेगुलर डिग्री तो है। लेकिन आज उस बच्चे के ऊपर पहाड़ टूट पड़ा। आज यानी भगवान बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि 9 जून को वह पिस्का मोड़ स्थित एक्सिस बैंक में इंटरव्यू देने गया। वह खुश था। भगवान बिरसा मुंडा को भी मनन कर रहा था। सोच रहा था, नौकरी पाकर उसकी तकदीर संवर जायेगी। उसका इंटरव्यू हो गया। मैनेजर आलोक प्रकाश बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि आप अपनी डिग्री जमा कर दें और ज्वाइन कर लें।

लेकिन जब उसने डिग्री दिखायी, तो उसे बताया गया कि यह रेगुलर डिग्री नहीं, बल्कि डिस्टेंस कोर्स की डिग्री है। न हम आपको नौकरी दे सकते हैं और न ही सरकारी बैंक। यह सुन छात्र रोने लगा। घर आया। उसके पिता मेडिका में एडमिट हैं। उसने सोचा था कि जिस पिता ने अपनी कमाई खर्च कर, जमीन बेच हमें पढ़ाया, हम उनके काम आयेंगे, लेकिन वह अब अपने को असहाय महसूस कर रहा है।

वह बरियातू थाने गया। उसने लिखित शिकायत की है। उसके बाद वह आजाद सिपाही कार्यालय आया। अपनी पीड़ा कहते-कहते वह रोने लगा। उसका सवाल था: इतनी बड़ी कंपनी उषा मार्टिन और उसके मालिकों ने हमारे साथ धोखाधड़ी क्यों की? अगर उन्हें डिस्टेंस कोर्स ही कराना था, तो उन्होंने उषा मार्टिन एकेडमी के बोर्ड पर डिस्टेंस कोर्स का जिक्र क्यों नहीं किया। वहां पावर्ड बाइ उषा मार्टिन इंडस्ट्री क्यों लिखा गया?

अखबार में भी जो बड़े बड़े विज्ञापन दिये गये, उसमें कहीं भी पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी और डिस्टेंस कोर्स का जिक्र नहीं था। पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी का डिस्टेंस कोर्स तो छह हजार रुपये में होता है। रांची में उसके कई ब्रांच हैं, जहां छात्र जाते ही नहीं। और हमें अगर डिस्टेंस कोर्स ही करना होता तो फिर रांची में रह कर प्रति महीने हम दस हजार रुपये खर्च क्यों करते। फिर तो घर पर रह कर यहां आकर परीक्षा दे देते। उसने कहा, क्या हमें न्याय मिलेगा? क्या मुझे अब नौकरी मिल पायेगी?
मित्रो, आप भी कुछ कहिए ताकि हम उस छात्र को आपकी तरफ से कोई सुझाव दे सकें।

harinarayan singh

…………….. अपने फेसबुक वाल पर दैनिक आजाद सिपाही के प्रधान संपादकहरिनारायण सिंह ।

Share Button

Related News:

जातीय आरक्षण के विरोध में एन एच 30ए को रखा जाम
नशा के खिलाफ अपर जिला जज सुभाष चंद्र के नेतृत्व में निकला कैंडल मार्च
नालंदा में हटाये गये 32 बिजली कामगार, अध्यक्ष से हस्तक्षेप का अनुरोध
अवैध राजगीर गेस्ट हाउस होटल के सामने नगर प्रशासन का 24घंटे का दंडात्मक आदेश भी बौना
मुजफ्फरपुर शेल्टर होम के बाद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा में घिनौनी करतूत !
RPF जवान ने अपनी पत्नी को मार कर तालाब में फेंका
इस किसान की सुसाइड पर सफेद झूठ बोल रहे हैं ये अफसर और BJP नेता
28 हजार की घूस लेते रंगे हाथ धराया परसा कार्यपालक पदाधिकारी
फिर दो सपूत खोते ही उबला बिहार- बदला कब?
पेयजल-शौचालय तक नहीं है सुशासन बाबू के घर-आंगन के तेलमर हाई स्कूल में
मलमास मेला के वैसे खतरनाक अफवाहबाजों को भूल चूकी पुलिस-प्रशासन !
आस्था का सबसे बड़ा केन्द्र है हिलसा की श्री बड़ी दुर्गा स्थान
'यहां के मंदिर में रावण की पूजा करने वाले आज कोई खुशी भी नहीं मनाते'
अधेड़ महिला की कथित हत्या में कई पेंच, फंसे जदयू नेता, पुलिस हैंग
झारखंड में समस्या पैदा करनेवाली संवेदनहीन सरकारः हेमंत सोरेन
SBI का 34 लाख रुपये भरा ATM उखाड़ ले गये चोर, थाना के पास था ATM
लालू-जगन्नाथ को 5-5 साल की सजा और 5-5 लाख का जुर्माना
राजद विधानसभा में उठाएगा राजगीर ‘पुलिस उत्पीड़न’ कांड का मुद्दा
सोनू मिश्रा हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा
खुद को रोक नहीं पाए समाजसेवी, गरीबों को दिया कंबल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...