रिपोर्टर इंद्रदेव यादव हत्याकांडः कौन है बिरेन्द्र ?

Share Button

चतरा।  झारखंड के चतरा जिले के ताजा टीवी के रिपोर्टर इंद्रदेव यादव उर्फ अखिलेश प्रताप सिंह की हत्या के मामले को चतरा पुलिस ने सुलझा लेने का दावा किया है। इस मामले में मयूरहंड प्रखंड के रहने वाले बिरबल साव और लावालौंग झमन साव को गिरफ्तार किया है।

चतरा पुलिस ने अनुसार, दोनों ने पत्रकार हत्याकांड में संलिप्तता की बात स्वीकारी है. हत्या में प्रयोग की गयी बाइक को भी पुलिस ने जब्त किया है। हालांकि चतरा के एसपी अंजनी झा ने इस मामले में बहुत जल्द और साक्ष्य जुटाने का दावा किया है। जिसके बाद चतरा पुलिस मीडिया को मामले की विस्तृत जानकारी देगी। इस मामले में मृतक पत्रकार की पत्नी बार-बार बीरेंद्र की गिरफ्तारी की मांग कर रहीं हैं और उनका आरोप है कि उससे उनके पति भयाक्रांत थे।

इससे पहले क्या हुआ था?

चतरा पुलिस ने शनिवार की देर रात शहर के एक दर्जन लोगों को घर से उठाया. थाना ले जाकर उनसे बारी-बारी से पूछताछ कर रही है।

मालूम हो कि 12 मई  की रात अपराधियों ने देवरिया पंचायत भवन  के समीप पत्रकार इंद्रदेव की गोली मार कर हत्या कर दी थी।

एसपी अंजनी कुमार  झा ने कल बताया था कि सभी बिंदुओं पर बारिकी से जांच की जा रही है। मोबाइल कॉल डिटेल्स व सीसीटीवी के माध्यम से  अपराधियों  तक पहुंचने  का प्रयास किया जा रहा है। जल्द ही मामले का खुलासा  कर दिया जायेगा. पुलिस टीम बना कर मामले की जांच की जा रही है।

पुलिस बीरेंद्र को पकड़े, तो हो जायेगा खुलासा : पत्रकार की पत्नी बबीता

पत्रकार की पत्नी बबीता का कहना है कि बीरेंद्र का फोन आने से इंद्रदेव विचलित हो जाता था। कई दिनों तक मानसिक रूप से परेशान रहता था। हत्या के तीन दिन पूर्व से लगातार बीरेंद्र का फोन आ रहा था। फोन पर धमकी दी जा रही थी। पुलिस को बीरेंद्र की खोजबीन करनी चाहिए। उसके पकड़ में आने से घटना का खुलासा हो पायेगा। घटना के दिन ही धनगाय से लौटा था।

इधर, पत्रकार की हत्या को लेकर कई तरह की अटकलें लगायी जा रही हैं। कुछ लोगों का कहना है कि बिहार में पंचायत चुनाव चल रहा है। इंद्रदेव अपने पैतृक गांव धनगाय जाकर अपने चहेते उम्मीदवार के पक्ष में गांववालों को मतदान करने को कहा था। इसको लेकर दूसरे पक्ष के लोगों से उसकी कहा-सुनी हुई थी। घटना के दिन ही चतरा लौटा था।

पांच लाख मुआवजा की घोषणा

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मारे गये पत्रकार इंद्रदेव यादव के परिवार को पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। इस संबंध में प्रधान सचिव संजय कुमार को निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में डीजीपी डीके पांडेय से रिपोर्ट मांगी है। पूछा है कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए अब तक क्या कार्रवाई की गयी है।

Share Button

Related News:

भ्रष्टाचारः साल भर में ही यूं जर्जर हो गई सड़क, लोगों का गुजरना दूभर
रहुई में यूं हो रहा बड़ा घोटाला, बिना उठाव बांट दिया मई का राशन
रांची मेन रोड में दुकान हटाने को लेकर दो समुदाय में झड़प, लाठीचार्ज के बाद शांति
शिक्षक ने छात्र को बेहरमी से पीटा, परिजनों में आक्रोश
स्कूलों में ऐसी मिड डे मिल पहुंचा रही है एकता शक्ति फाउंडेशन!
योग से करोड़ों लोगों के जीवन में आया सुधारः डॉ. नीरा यादव
बिहार लोक शिकायत निवारण अधिकार को यूं कबाड़ा कर रहे हैं पदाधिकारी
जय श्री राम की गूंज पर यूं नाराज हुए मोहन भागवत, बोले-संघ का कोई नारा नहीं
'अंतिम दिन स्वस्थ तन-मन का मूल मंत्र दे गए बाबा रामदेव'
पढ़ेगी बेटी-बढ़ेगी बेटीः लेकिन कहते हैं गार्जियन- 'माहौल खराब है, हम बेटियों को नहीं जाने देंगे स्कूल'
बिहार की सिस्टम से भयभीत सपरिपार धनबाद में रहने को विवश हैं नवादा का सुधीर
 बेगूसराय में महंथ की पीट-पीटकर हत्या, कल वैशाली में हुई थी महंथ की हत्या
NH-33 किनारे अवैध कारोबार, SDO का छापा, नीलकमल मोटल सील, शराब समेत 3 धराये
पुलिस छापामारी में 446 बोतल अवैध शराब जप्त, 2 कारोबारी भी धराये
मंत्रिपरिषद की बैठक में धान अधिप्राप्ति पर लिए गए ये निर्णय
 केन्द्र सरकार से अब तक नहीं मिली ‘महिला हेल्पलाईन’ योजना की राशि
जीआरडीए समीक्षा बैठक में बोले सीएम- समय सीमा के अंदर करें ये कार्य
बासगीत पर्चा देने के 26 साल बाद भी नहीं मिला गरीबों को दखल कब्जा
पूर्व मंत्री की बेटी के रेप के आरोपी निखिल IAS बाप समेत उतराखंड से गिरफ्तार
ट्रेलर ने ली वृद्धा की जान, चालक की पिटाई, सड़क जाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...