रघु’राजः पहले काम, फिर सरकारी खजाने को लूटने के लिये निकला टेंडर

Share Button

रांची (INR)।  झारखण्ड के कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता मंत्री के आवासीय कार्यालय में रुम पाटिशन, संतरी पोस्ट, मुख्य भवन के छत पर पारापेट एवं सीढ़ी का जीर्णोद्धार, मुख्य भवन के छत सिपेज होने के कारण पूरे छत का मरम्मति और जीर्णोद्धार कार्य, बाथरुम का जीर्णोद्धार कार्य, रसोईघर और स्टोररुम का जीर्णोद्धार और पूरे घर का अंदर और बाहर रंग-रोगन कार्य होना था। जिसकी सूचना मंत्री के आप्त सचिव ने भवन निर्माण विभाग के सचिव को दी थी तथा जिसकी प्रतिलिपि कार्यपालक अभियंता, भवन प्रमंडल संख्या 1, रांची को दिया गया था।

बताया जाता है कि मंत्री आवास पर हैवी ड्यूटी डिजिटल पार्किंग टाइल्स का भी प्रावधान है, पर बिना टेंडर निकाले ही सारे काम अपने चहेतो को देकर शुरु करा दिये गये और अब 26 मई को यानी कल उसी का टेंडर बिक्री किया जा रहा है, यानी जो काम पहले से ही शुरु करा दिया गया है या जो पूर्ण होने की स्थिति में है, उसकी टेंडर बिक्री की औपचारिकता पूरी की जा रही है, यानी कमाल की यहां सरकार है, मानना पड़ेगा। पहले अपने चहेतो से काम करा लो, उसके बाद टेंडर निकालकर औपचारिकता पूरी कर, उस टेंडर को अपने चहेतों के नाम पास करा दो।

सूत्र बताते हैं कि ये टेंडर सिर्फ खानापूर्ति के लिये निकाला गया है, ताकि सरकारी खजाने से रकम निकाली जा सके।  नियम यह है कि पहले टेंडर निकाला जाता है, फिर काम शुरु होता है, पर यहां भवन निर्माण विभाग में पहले काम करो और फिर टेंडर भरो और पैसे लो, के तहत काम कर रहा है, ये कौन से नियम के तहत ऐसा हो रहा है, झारखण्ड की जनता को समझ में नहीं आ रहा।

सारी सच्चाई सामने है। अखबार का वह कटिंग जिसमें टेंडर की डेट छपी है और मंत्री आवास में काम कराया जा चुका है। वे सारे काम के चित्र जो बता रहा है कि कैसे राज्य में शासन चल रहा है? ये भ्रष्टाचार नहीं तो क्या है? सूत्र बताते है कि ये पूरा मामला करीब 33 लाख रुपये के घोटाले से जुड़ा है।

Related Post

35total visits,1visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...