यूपी एसटीएफ के हत्थे चढ़े 8 में बिहार के ये 4 कबूतरबाज

विदेशों में नौकरी दिलाने के नाम पर करते थे ठगी

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। यूपी एसटीएफ ने विदेशों में ऊंचे वेतन पर नौकरी दिलाने का झांसा देकर अबतक लाखों रुपए की ठगी करने वाले एक गिरोह के आठ सदस्यों को दबोचा है।

दबोचे गये लोगों में चार अपराधी बिहार के हैं। इस संदर्भ में खबर मंथन को जानकारी देते हुए यूपी एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश ने बताया कि विगत कई दिनों से एसटीएफ को विभिन्न पेपर के इश्तेहार एवं अन्य स्रोतों से ऐसी जानकारी प्राप्त हो रही थी कि कुछ लोग इनको कम्पनी इराक के नाम पर इण्टरव्यू लेकर धोखा-धडी कर फर्जी तरीके से जनता के साथ ठगी कर रहे हैं।

इस सूचना को विकसित करने हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ अभिषेक सिंह ने अपर पुलिस अधीक्षक एस. आनन्द को निर्देशित किया।

अपर पुलिस अधीक्षक एस. आनन्द के पर्यवेक्षण में यशवन्त सिंह आरक्षी, एसटीएफ फील्ड इकाई, गोरखपुर के नेतृत्व में अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तंत्र को सक्रिय किया गया।

अभिसूचना संकलन के दौरान विश्वसनीय स्रोत के माध्यम से जानकारी प्राप्त हुई कि कुछ लोग फर्जी तरीके से कार्यालय स्थापित कर समाचार पत्रों में विज्ञापन निकलवाकर विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर साक्षात्कार आयोजित कर बेरोजगार युवकों से ठगी कर रहे हैं।

इस सूचना को विकसित करते एसटीएफ गोरखपुर की टीम स्थानीय पुलिस थाना कैण्ट के साथ सिंघड़िया, गोरखपुर गयी तो पाया कि वहां पर लोगों की भीड़ एकत्र है और यहॉ पर ग्लोबल बेल्डिंग ट्रैनिंग एवं टेस्ट सेंटर, (रेलवे लाइन के किनारे अशोका गैसगोदाम गली सिंघड़िया गोरखपुर) के नाम से कार्यालय स्थापित कर बेरोजगार युवकों का साक्षात्कार लिया जा रहा है तथा निम्न 8 लोगों द्वारा अपने आपको कम्पनी मालिक व साक्षात्कार अधिकारी एवं उक्त फर्म के कर्मचारी बताया जा रहा है। इस पर एसटीएफ टीम एवं स्थानीय पुलिस द्वारा  आठों को दबोच लिया गया।

गिरफ्तार अभियुक्त अरविन्द सिंह ने पूछताछ पर बताया कि वे लोग विभिन्न कम्पनियों के नाम पर समाचार पत्रों में विज्ञापन निकलवाते हैं, जिसे पढकर अभ्यर्थियों द्वारा सम्पर्क किया जाता है।

इसके बाद एक निश्चित तिथि पर इण्टरव्यू लेते हैं तथा इस दौरान उनका पासपोर्ट एवं अन्य कागजात जमा करा लिया जाता हैं। इसके बाद अभ्यर्थियों से 60 से 65 हजार रूपया लेकर इराक आदि देशों में फर्जी तरीके से भेजते हैं। यह साक्षात्कार ‘इनको’ कम्पनी इराक के नाम पर फर्जी विज्ञापन देकर संचालित किया जा रहा था।

अभियुक्त शम्भू यादव ने पूछताछ पर बताया कि वह इनको कम्पनी, कतर में सुपरवाईजर के पद पर कार्य करता था। वर्ष-2017 में कतर से भारत वापस आ गया। वर्तमान समय में वह इनको कम्पनी के लिए बेल्डर फीटर के साक्षात्कार अधिकारी के रूप में साक्षात्कार लेने आया है। इसकी एवज में मुझे उक्त कम्पनी द्वारा 40 से 50 हजार रूपये मिलते हैं।

उल्लेखनीय है कि नौकरी हेतु विदेश भेजने के लिए साक्षात्कार हेतु विज्ञापन निकालने से पहले कम्पनी द्वारा मांग पत्र प्राप्त करना चाहिए। पीईओ लेना चाहिए। ईसीआर आवेदकों के लिए साक्षात्कार करने की अनुमति और यदि वे अनुमति के बिना ईसीएनआर के लिए साक्षात्कार कर रहे हैं तो उन्हें स्पष्ट रूप से विज्ञापन में उल्लेख किया जाना चाहिए कि स्पष्ट रूप से ईसीएनआर लागू होता है।

इराक और अन्य युद्ध क्षेत्र आप्रवासन कार्यालय से भर्ती के लिए प्रतिबंध है। इन कम्पनियों के लिए लोगों को भेजना केन्द्र सरकार के कानून के साथ-साथ तथ्यों को छिपाने और आवेदकों को धोखा देने का काम करना है।

गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम व विवरण….

1– अरविन्द सिंह पुत्र श्री उदय प्रताप सिंह निवासी ग्राम व पो0-अमहिया थाना झंगहा जनपद गोरखपुर।

2- रजनीश कुमार मल्ल पुत्र श्री मारकश मल्ल ग्राम व पो0-अमहिया थाना झंगहा जनपद गोरखपुर।

3- शम्भू यादव पुत्र श्री रामचन्द्र यादव ग्राम खेठाई टाेला हाटा थाना आंदर सिवान, बिहार।

4- आर0 सुन्दर रमन पुत्र एन0 राजा रमन निवासी बी0एफ0-2 विजयम टावर्स 103 मेला वीथी चितम्बरम-608001 तमिलनाडू।

5- मनोज ठाकुर पुत्र श्री सुदामा ठाकुर ग्राम ष्यामदास बगही पाे0 बगही बाजार थाना कटया,जनपद गोपालगंज, बिहार।

6- अनवर अंसारी पुत्र मुस्तफा अंसारी ग्राम नटवा पो0 डमरभार थाना कसया जनपद-कुशीनगर।

7- अरविन्द कुमार राय पुत्र श्री पारस राय नि0 रसौली पो0 धरहरा मेला, थाना कटया जनपद गोपालगंज, बिहार।

8- संदीप कुमार यादव पुत्र श्री राजाराम यादव निवासी ग्राम ष्यामादास बगही पो0 बगही, बाजार थाना कटया जिला गोपालागंज, बिहार।

बरामदगी का विवरण….

1- 240 अदद पासपोर्ट।

2- 03 अदद लैपटाप

3- रू0 80,000/-नकद।

4- 13 अदद मोबाइल फोन।

Related News:

रांची के नामकुम में यूं बनती-बिकती है जानलेवा शराब
सहयोगी संग पुलिस के हत्थे चढ़ा अवैध शराब कारोबारी
नालंदाः 'जहाँ बेदर्द डीएम-सीएम हो, वहाँ फरियाद क्या करना'
नशा के खिलाफ अपर जिला जज सुभाष चंद्र के नेतृत्व में निकला कैंडल मार्च
यहां मतदाता जागरुकता अभियान को लेकर भी निकाल दिया कैंडल मार्च!
फेल रही डबल इंजन की सरकार, हेमंत कैबिनेट का श्वेत पत्र जारी
नालंदा से यूं हुई महादलित टोलों के लिये 'समग्र उत्थान कार्यक्रम' की शुरुआत
ABC ने घूसखोर अभियंता और कृषि अधिकारी को पकड़ा
मुखिया के खिलाफ- पोस्टरबाजी, बैठक, प्रतिबंध
चिन्हित बालू माफियाओं पर कार्रवाई से क्यों कतरा रहा है नालंदा पुलिस-प्रशासन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...