यहां मानवीय संवेदना की यूं रोज होती है मौत!

लावारिस मरीजों को खाना खिलाने का जिम्मा रिम्स किचन पर है। लेकिन किचन की ओर से इन्हें खाना न के बराबर दिया जाता है……”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। झारखंड की राजधानी रांची अवस्थित प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में लावारिस मरीजों की देखभाल करने वाला नहीं है। उनका इलाज तो दूर, इन्हें भोजन तक नसीब नहीं है। वे पेट की भूख मिटाने को जो मिल जाए, उसे ही निवाला बनाने को विवश हो जाते हैं

बुधवार को भी रिम्स के ऑथरेपेडिक विभाग के कॉरिडोर में मानवीय संवेदना को तार तार करने वाला नजारा देखने को मिला। कॉरिडोर में पड़ी एक लावारिस महिला मरीज दिनभर वहां से गुजरने वालों से खाना मांगती रही।

लेकिन किसी ने उसके पेट की क्षुधा शांत नहीं की। अंतत: उसने पास बैठे कबूतर को पकड़ लिया। करीब आधा घंटा तक मरीज कबूतर के पंख नोचती रही। इसके बाद उसे नोंच-नोंच कर निवाला बना लिया।

रिम्स के निदेशक डॉ. डीके सिंह कहतें हैं, ‘इसके लिए जिम्मेवार सामाजिक संस्थाएं हैं जो लावारिसों को आश्रम या विक्षिप्त को रिनपास ले जाने की बजाय रिम्स में लाकर छोड़ देते हैं। यहां साइकेटिक विभाग नहीं है। रिम्स प्रबंधन मानवीय संवेदना रखते हुए भी ऐसे मरीजों के लिए ज्यादा कुछ नहीं कर सकता। ऐसे मरीज रिम्स में अव्यवस्था फैलाने का काम करते हैं’।

 ऑथरे वार्ड के कॉरिडोर में एक ही जगह पर सभी लावारिस मरीज पड़े रहते हैं। न इनकी कोई देखभाल करने वाला होता है और न ही कभी कोई डॉक्टर, नर्स या रिम्स का अन्य कोई कर्मचारी ही इनकी सुध लेता है।

कॉरिडोर से जाने वाले लोगों से ये खाना और भूख कहकर भोजन मांगते हैं। नहीं मिलने पर बिलखते भी हैं। लेकिन रिम्स प्रबंधन कभी इनकी तरफ ध्यान नहीं देता।

Related News:

शर्मनाक! नालंदा आयुद्ध कारखाना की सुरक्षा में सेंध, चोरों ने बैंक से उड़ाये 5 लाख
रद्द नहीं होगी मलमास मेला बंदोवस्ती, वंचित संवेदकों को मिलेगा मौकाः नगर आयुक्त
राजगीर रेप कांड के आरोपी मामा-भांजा को दीपनगर पुलिस ने यूं दबोचा
पुलिस-प्रशासन की सक्रियता से साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश नाकाम, 7 लफंगे धराये
गांवो की समृद्धि से होगा विकसित भारत का सपना पूराः सुजीत
बुरा अनुभव ही परिवर्तन का कारण बनता हैः नालंदा डीएम
ऐतिहासिक रही राजद की महारैली, लालू फिर कद्दावर बन उभरे
नशे में धुत युवक ने मटका फोड़ने को लेकर की हवाई फायरिंग, महिला को लगी गोली, हालत गंभीर
डाक्टर की जगह कम्पाउडंर कर रहा था इलाज, मौत के बाद फेंका शव, मचा बबाल
KGBV की छत से गिरने से छात्रा का पैर टूटा, डीएम ने वार्डन का वेतन रोका
राजगीर की पर्यटकीय उपेक्षा से आहत दिखे मलमास मेला कोर्ट के जज
यह खंडहर नहीं,साढ़े तीन करोड़ का अस्पताल है, जो चालू न हो सका
सरकार पर अवैध दबाव की नियत से हड़ताल पर गए बिहार के 1200 जेईई
श्री सत्यपाल मल्लिक बने बिहार के महामहिम
घरेलु कलह से तंग 8 माह की बच्ची संग जल मरी युवती
राजगीर रेलवे स्टेशनः जहां खुले में शौच को विवश हैं लाखों पर्यटक-यात्री!
क्रिमीनल टाईप है रंगीला स्कूल का हेडमास्टर, सीधी कार्रवाई से डरती है बीईओ
‘इन दंगों के लिए अगर कोई दोषी है तो वह हैं खुद सीएम नीतीश कुमार’
अलोकतांत्रिक प्रक्रिया को लेकर पूर्व उप महापौर ने दी कोर्ट जाने की धमकी
सीएम ने महोत्सव में किया था इस शौचालय का उद्घाटन, अफसरों ने 24 घंटे बाद ही लटका दिया ताला
राजगीर मलमास मेला की सैरात भूमि से पहला दिन यूं हटा अतिक्रमण
सवारी गाड़ी के चपेट से अज्ञात महिला की मौत
 बांका के लाइफ लाइन का यूं भरभराया पाया, वाहनों का परिचालन ठप
बांका के रेहान और नौशाद का नहीं मिला कोई आतंकी कनेक्शन
बाल सरंक्षण आयोग की टीम की जांच से कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की खुली कलई
बांकाः अधिवक्ता को दिनदहाड़े गोली मारी, हालत गंभीर
इंश्योरेंस के क्षेत्र में हिलसा के सुमन ने देश-दुनिया में मचाया धमाल
फर्जी डिग्री धारी गुप्तेश्वर पाण्डेय बने बिहार पुलिस के डीजी
पटना हाई कोर्ट के 41वें मुख्य न्यायाधीश बने जस्टिस अमरेश्वर प्रताप शाही
मुर्गी विवाद के केस में 40 हजार घूस ले रहा था ASI, चढ़ा निगरानी के हत्थे
विकास पर्व की भीड़ में दिखी स्कूल-कॉलेज की छात्र-छात्राएं
बाढ़ SDPO लिपि सिंह में लगे सुर्खाब के पर, अन्य सभी 9 SDPO के कार्यों DG करेंगे समीक्षा
हेमंत सोरेन ने ली सीम पद की शपथ, कांग्रेस के आलम-उरांव संग राजद के भोक्ता बने मंत्री
हे मां! इस धनतेरस को मेरे घर मत आना🙏
FIR से नाम हटाने को रिश्वत लेते ACB के हत्थे चढ़ा ASI
पटना में नारकीयता के बीच सड़क धंसी, सीएम ने भ्रष्टाचार को बारिश से ढंका
रिटार्यड दफादार नहीं जनाब, ये है चंडी थाना के सुपर थानेदार
नालंदाः बाइक सवार 3 भाईयों की कुचलने से मौके पर मौत
PMCH में पड़े-पड़े खराब हुई दान की गई आंखें, अनोखा विरोध प्रदर्शन
पटना साहिब सीट से भाजपा उतारे कुर्मी प्रत्याशी, उठी मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...