‘यहां के मंदिर में रावण की पूजा करने वाले आज कोई खुशी भी नहीं मनाते’

Share Button

“इस मंदिर में रावण के अतिरिक्त जितने भी देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं, उनका आकार रावण की प्रतिमा से काफी कम है। पूरे उत्तर भारत में सम्भवत: यही एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां रावण की पूजा होती है।”

बदायूं (उत्तर प्रदेश)।  आम भारतीयों के मन में वैसे तो रावण एक खलनायक की तरह हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक मंदिर ऐसा भी है जहां लंकेश की विधिवत पूजा की जाती है। दशहरा पर बुराई के प्रतीक को जलाने की तैयारियों की धूम के बीच यह एक दिलचस्प तथ्य है।

बदायूं शहर के साहूकार मुहल्ले में रावण का बहुत प्राचीन मंदिर है। हालांकि दशहरे के दिन इस मंदिर के कपाट नहीं खोले जाते। इस मंदिर की स्थापना पंडित बलदेव प्रसाद ने लगभग 100 साल पहले की थी।

बलदेव रावण को प्रकाण्ड विद्वान और अद्वितीय शिवभक्त मानकर उसकी पूजा करते थे। उनकी देखादेखी कई और लोगों ने भी मंदिर आकर पूजा शुरू कर दी। इस मंदिर में रावण की आदमकद प्रतिमा स्थापित है, जिसके नीचे शिवलिंग प्रतिष्ठापित किया गया है।

मंदिर के दाईं तरफ भगवान विष्णु की प्रतिमा है। मंदिर में रावण की प्रतिमा को भगवान शिव की आराधना करते हुए स्थापित किया गया है। 

समाजसेवी डाक्टर विष्णु प्रकाश मिश्र बताते हैं कि मंदिर की स्थापना करने वाले पंडित बलदेव का तर्क था कि रावण बहुत ज्ञानी था। वह जानता था कि माता सीता लक्ष्मी जी का और श्री राम भगवान विष्णु के अवतार हैं।

उन्होंने बताया कि बलदेव मानते थे कि रावण ने इसलिए माता सीता को अपने महल में न रखकर अशोक वाटिका जैसे पवित्र स्थान पर ठहराया था और उनकी सुरक्षा के लिए केवल स्त्रियों को ही तैनात किया गया था। इसी तर्क को रावण की पूजा करने वाले आज तक मानते चले आ रहे हैं।

मंदिर के पास रहने वाली पुजारिन रश्मि वर्मा ने बताया कि लोग रावण की पूजा अक्सर चोरी-छुपे ही करते हैं। चूंकि भारतीय संस्कृति में रावण को बुराई का प्रतीक माना गया है, शायद इसलिए वे ऐसा करते हैं।

उन्होंने बताया कि विजय दशमी के दिन रावण के इस मंदिर के कपाट पूरी तरह बंद रहते हैं और रावण को आदर्श मानने वाले लोग इस दिन अपने घर में कोई खुशी भी नहीं मनाते।

रश्मि ने कहा कि भारत एक धर्म प्रधान देश है। देश के अलग-अलग प्रान्तों में कई देवी-देवताओं के मंदिर हैं। पूजा भले ही अलग-अलग देवी देवताओं की होती हो, लेकिन पूजा दरअसल देवत्व गुणों की ही होती है।

Share Button

Related News:

वार्ड सदस्य से 1.32 लाख घूस लेते निगरानी के हत्थे चढ़ा हिलसा का जेई
नालंदा के इन बालू माफियाओं के खिलाफ क्यों नहीं हो रही कार्रवाई ?
बस-तांगा की टक्कर में 1 बच्चा और 6 महिलाएं जख्मी, पर्यटन मित्र पुलिस को धन्यवाद
अब बिहार में नक्सलियों के 'प्रेशर माइंस'से निपटने के लिए एनएसजी देगी ट्रेनिंग 
PWD बना लूट का अड्डा, खास महाल की फिरंगी फरमान
इमारत शरियाह में तौबा कर दोबारा मुसलमान बने नीतीश के ये मंत्री
एक सप्ताह गांधीगिरी, फिर कड़ी कार्रवाई: डीसी
जमुई जेल में सेंध, बड़ी घटना की थी साजिश
11000 करंट की चपेट से गजराज की मौत
प्रशासन की हिटलरशाही के विरोध में नालंदा का सिलाव बाजार पूर्णतः बंद
अगर जाति और पेशे की स्टीरियोटाइपिंग ही करनी है तो सबकी कीजिए
CRPF जवान के शहीद होने की खबर से शोक में डूबा पावापुरी बाजार
'कमीशन नहीं देने पर गाली-गलौज करता है मुखिया'
बंगाल पुलिस ने जमशेदपुर से दो सुपारी किलर को पकड़ा
अफवाह-पिटाई से आहत राजस्थानी महिलाओं ने यूं कान पकड़ कहा- 'अब नहीं आएंगें झारखंड'
बीजेपी के पेड वर्करों ने अमित शाह को बीच सड़क बनाया मजाक, वीडियो वायरल
जमुई नगर थानाध्यक्ष समेत 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
खतरे में राजगीर का सौंदर्य, 100 एकड़ झाड़-जंगल भूमि पर सफेदपोशों-अफसरों का कब्जा
हैट्रिक लगाने उतरे कौशलेन्द्र सुने यूं खरी-खोटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...