मामले को गंभीरता से लें, लॉकडाउन है छुट्टी नहीं, बेवजह नहीं घूमें :सीएम

मौजूदा समय में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए झारखण्ड को लॉकडाउन किया गया है। कोरोना से निपटने के लिए हमें मिलकर अहम भूमिका निभानी है। सभी अपने स्तर से अपना सर्वश्रेष्ठ दें। मामला गंभीर है, इसे गंभीरता से लें। हर दिन एक नई चुनौती के लिए तैयार रहें। आप सभी इस लड़ाई के योद्धा हैं आनेवाला तीन-चार सप्ताह महत्वपूर्ण है। किसी तरह की लापरवाही न हो। यह हम मिलकर सुनिश्चित करेंगे। हम चीजों को अनदेखा करेंगे तो मामला बिगड़ सकता है। इसलिए पूरी सावधानी, गंभीरता, संकल्प और जिम्मेदारी से कार्य करते हुए कोरोना से निपटना है…”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क।  उक्त बातें मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कही। मुख्यमंत्री सोमवार को मंत्रालय में कोरोना वायरस के संबंध में राज्य के सभी जिला के उपायुक्तों को निर्देश दे रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड में लॉकडाउन घोषित हो चुका है। लॉक डाउन के पहले दिन बाजार व दुकानें तो बंद हैं। लेकिन लोगों की गतिविधियां नहीं रुकी। *सभी जिला के उपायुक्त लोगों को बताएं कि यह छुट्टी नहीं। लोगों को संक्रमण से बचाना है। लोग सड़कों में बेवजह में न घूमें। जरूरी सेवा से जुड़े लोगों की पहचान कर कार्य करें। राशन, दवा, दूध समेत अन्य दैनिक उपयोग की चीज लोगों को उनके घर पर उपलब्ध हो, इसके लिए होम डिलीवरी एवं राशन दुकानों पर सुरक्षा के पुख्ता व्यवस्था करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों व जरूरतमंदों को चिन्हित कर उनके घर में खाने की व्यवस्था करें। मनरेगा के तहत कार्य उपलब्ध कराएं, इसमें यह सुनिश्चित करें कि मजदूरों का एक जगह जुटान न हो। सभी पंचायत में सरकार की व्यवस्था में काम करने वालों के सहयोग से बाहर से आनेवाले लोगों की सूची तैयार करें। ताकि विपरीत परिस्थितियों से निपटा जा सके। लोगों को डराना नहीं है, बल्कि जागरूक करना है। राज्य की सीमा में फंसे लोगों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने की व्यवस्था करें।

 रांची स्थित सदर अस्पताल में 200 बेड का आइसोलेशन वार्ड जरूरी उपकरणों से तैयार करने का निदेश दिया। चिकित्सक, नर्स व चिकित्सा से जुड़े अन्य लोगों को मुस्तैदी से तैयार रखें। कावरंटाईन सेंटर में समुचित व्यवस्था पर विशेष ध्यान दें। मास्क, सैनिटाइजर की आवश्यकता को पूरा करने के लिए स्वंय सहायता समूह व अन्य की मदद लें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक स्थल पर श्रद्धालुओं की भीड़ न हो। यह सुनिश्चित होना चाहिए। रामनवमी जुलूस, चैती दुर्गा पूजा में आयोजित होना वाले मेले का आयोजन न हो यह जन सहयोग से सुनिश्चित करें। ताकि संक्रमण न फैले। सोशल मीडिया पर गलत सूचना देने वालों पर तत्काल कानूनी कार्रवाई करें।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी, अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, प्रधान सचिव अविनाश कुमार, प्रधान सचिव डॉ नितिन मदन कुलकर्णी, पुलिस महानिदेशक एमवी राव, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल तिवारी उपस्थित थे।

Related News:

बिहारशरीफ नगर निगम ने जर्जर अवैध भवनों पर चलाये बुल्डोजर
मतदाता जागरूकता को लेकर पुलिस-प्रशासन की निकली साइकिल रैली
नालंदाः 50 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ निगरानी के हत्थे चढ़े 2 घुसखोर
नहीं रहे दैनिक हिन्दुस्तान के विजय सिंह, सड़क हादसे में मौत
नालंदा के डीएम और एसपी ने सोशल मीडिया को लेकर जारी किये यूं कड़े अनुदेश
इस अफवाह से भयभीत किसानों ने रही सही धान रोपनी भी छोड़ी
इस विलुप्त होती मानव प्रजाति के पास आजादी के 70 साल बाद भी नागरिकता तक नहीं!
एक पखवाड़े के भीतर दर्जन भर चोरियां, सहमे लौहनगरी के लोग
बेखौफ बदमाशों ने हवलदार को गोली मारी, मौत, कार्बाइन भी लूटी
पुलिस अत्याचार के खिलाफ निकाली न्याय व्यवस्था परिवर्तन यात्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...