बीडीओ कार्यालय में ही डोभा-तालाब का निरीक्षण कर लौटे डीएसओ

Share Button

मुकेश भारतीय

ओरमांझी। शुक्रवार की दोपहर जिला आपूर्ति पदाधिकारी (डीएसओ) मनोज कुमार ओरमांझी ब्लॉक ऑफिस पहुंचे। वहां कई घंटे बीडीओ रजनीश कुमार के साथ गुफ्तगु कर वापस लौट गए। उनके दौरे को काफी गोपनीय रखा गया था।

सूत्रों के अनुसार डीएसओ का यह दौरा मुख्यमंत्री की महात्वाकांक्षी डोभा-तालाब योजना की जिलास्तरीय निरीक्षण करने के लिए था लेकिन वो कतिपय कारणवश क्षेत्र भ्रमण नहीं सके और बीडीओ कार्यालय से ही वापस लौट गए।

इस संबंध में पुछने पर प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी (बीएसओ) ने बताया कि डीएसओ विभागीय कार्य से नहीं अपितु, क्षेत्र में डोभा तालाब का निरीक्षण करने के दौरे पर आए थे लेकिन वे कहां निरीक्षण करने गये, उसके बारे में उन्हें विशेष जानकारी नहीं है।

हालांकि यह दीगर बात है कि उपलब्ध सूचना के अनुसार बीएसओ देर शाम तक प्रखंड मुख्यालय में ही डीएसओ के आगे पीछे करते नजर आए।

Share Button

Related News:

सड़क हादसा नहीं, श्वेताभ सुमन ने कराया हमला !
नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में एक जवान शहीद, चार अन्य घायल
घोर उपेक्षा का शिकार है राजगीर का बंगाली युवा छात्रावास
रिश्वतखोर सीओ को लेकर लामबंद सरकारी बाबूओं के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई
नालंदाः माधोपुर मुहानी पर बड़ा सड़क हदसा, 3 की मौत, 7 जख्मी, 3 गंभीर, पटना रेफर
डीएसपी ने थाने में सामने बैठ लिखवाई थी रिपोर्टर से यूं शिकायत, फिर ऐसा क्यों
छठ महापर्व को लेकर आस्थामय हुआ हिलसा और उसके आसपास का इलाका
नालंदा में रालोसपा का शिक्षा बचाओ आंदोलन में दिखा आक्रोश
भाजपा के 'शत्रु-सिन्हा' को नही मिला न्योता, बोले 'गईल सरकार तोहार"
खबर का असरः जर्जर सड़क पर लग रही यूं पेबंद
बड़ा बेटा घर से भागा,बेटी ससुराल में मरी और अब अंतिम सहारा बेटा ने प्रेमिका के वियोग की खुदकुशी
सीएम के नालंदा में शराब माफियाओं की तूती, हिलसा में पकड़ी गई बड़ी खेप
कोई नहीं ले रहा ओरमांझी ब्लॉक चौक की सुध, यहां फोरलेन सड़क दिखती है झील
पगलाए बिहार के आपदा प्रबंधन मंत्री, बोले- बाढ़ में स्वाभाविक है मौत
अंततः यूं हाथी पर बैठ नालंदा का बेलछी पहुंचना इंदिरा जी को सत्ता दिला दी
रांची में गजब नजारा, दिन में ही हो गई स्याह रात, देखिये वीडियो
नीतीश के PK' के लिए यूं प्रतिष्ठा का सवाल है  PU छात्र संघ चुनाव
यहां टेंडर मैनेज कराने वाले सीएम क्या रोकेगें भ्रष्टाचार : बाबू लाल मरांडी
अब किसानों को खरीफ फसल के लिए 5000 रुपये प्रति एकड़ हर साल देगी सरकार
सुनिए जनता की चित्कार, कब तक मरेंगे बच्चे, मेरे सरकार?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...