बिहार शरीफ मंडल कारा में मिले अनेक नवजात, गर्भवती, विछिप्त, बीमार और 14 किशोर कैदी

0
16

बिहार शरीफ मंडल कारा में 14 किशोर पाये गये। महिला वार्ड में छोटे नवजात बच्चे पाये गये। गर्भवती महिला बन्दी भी थी। अनेक मानसिक रूप से कमजोर कैदी भी मिले। कारा में मेडिकल कैंप की जरुरत………”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (बिहार शरीफ ब्यूरो)। नालंदा जिला मुख्यालय बिहार शरीफ मंडल कारा औऱ पर्यवेक्षण गृह का निरीक्षण मुख्य दंडाधिकारी  मानवेन्द्र मिश्र, सदस्य धर्मेन्द्र कुमार द्वारा किया गया।

इस दौरान मंडल कारा में 14 किशोर बच्चे पाये गये, जिन्हें अविलम्ब पर्यवेक्षण गृह भेजने का निर्देश दिया गया। महिला वार्ड में छोटे नवजात बच्चे पाये गये, जो अपने माँ के साथ थे। उनके लिये दूध, सेरेलेक्स, खिलौने, कपड़े इत्यादि की प्राथमिकता के तौर पर उपलब्धता करने को कहा गया।

गर्भवती महिला बन्दी भी मण्डल कारा में थी, जिनके नियमित तौर पर मेडिकल जाँच, टीकाकरण, आयरन टेबलेट,पौस्टिक भोजन की उप्लब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया।

कुछ ऐसे निर्धन कैदी थे, जो स्वयं अपने खर्चे पर अधिवक्ता रखने में सक्षम नहीं थे उन्हें अविलम्ब जिला विधिक सेवा प्राधिकार के माध्यम से निशुल्क पैनल अधिवक्ता उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया।

निरीक्षण के दौरान कुछ ऐसे बन्दी पाये गये जो गम्भीर बीमारी जैसे थैलीसीमिया जैसे रोग से पीड़ित थे, उनका इलाज अभी में चल रहा है। कुछ ऐसे कैदी जो मानसिक रूप से कमजोर थे, उनके बारे में जेल अधीक्षक को निर्देश दिया गया कि अधिवक्ता के माध्यम से इन कैदी की समस्या न्यायालय के समक्ष अविलम्ब रखें।

कुछ कैदियों ने अपने आखों में मोतियाबिंद, रतोंधी, निकट दृष्टि दोष की समस्या बताई, जिनके लिये यह निर्देश दिया गया कि सिविल सर्जन नालन्दा अविलम्ब एक मेडिकल कैम्प आंख के डॉक्टर का मण्डल कारा में लगाएं, जिससे बंदियों का समुचित इलाज हो सके।

साथ ही रसोईघर के साफ सफाई पर विशेष रूप से ध्यान देने को कहा गया। नालियों एवं बाथरूम में ब्लीचिंग पाउडर नियमित रूप से छिड़काव करने का निर्देश दिया गया।

कुछ ऐसे बन्दी थे, जो साधारण प्रकृति के अपराध में लगभग 8 माह, 1साल से जेल में बंद हैं, उन्हें यथाशीघ्र जमानत आवेदन प्रचालित करने के लिये सम्बंधित अधिवक्ता को निर्देश दिया गया। 

मंडल कारा के अस्पताल में भी हर समय दवा उपलब्धता की सुनिश्चितता को निर्देश दिया गया। निरीक्षण के समय जेलर रामेश्वर राउत एवं अभियोजन पदाधिकारी राजेश पाठक उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.