बाहुबलियों की जंग में कौन होगा मुंगेर का ‘सरकार ‘

“क्या वह बाहुबली अनंत सिंह और नीतीश कुमार के सेनापति ललन सिंह के सामने टिक पाएँगी ? कभी सरकार का रूख तय करने वाले अनंत सिंह क्या सच में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडेगे…..?

पटना (जयप्रकाश नवीन)। बदले -बदले से ‘सरकार’ नजर आते हैं। मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के बारे में यही कहा जा सकता है। लोकसभा चुनाव लड़ने की महत्वाकांक्षा ने छोटे ‘सरकार’ मोकामा से रोड शो कर मुंगेर पहुँच चुके हैं।

छोटे सरकार की सल्तनत में किसी और के हुकूमत के आसार दिखते हैं क्या? विधायक अनंत सिंह रोड शो के जरिए अपने कद और वजूद का अहसास करा रहे हैं ।वही परिवार वाद की चाशनी में डूबे सूरजमान सिंह की पत्नी का अगला कदम क्या होगा ?

लोकसभा चुनाव आते ही राज्य में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है।इस बार बदले हुए राजनीतिक गठबंधन से कई जीते हुए उम्मीदवार का पता साफ होने की स्थिति आ गई है। 2014 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने वाली जदयू फिर से बीजेपी के साथ गठबंधन में है।

ऐसे में चुनाव मैदान में मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के चुनाव मैदान में ताल ठोक देने से मुगेर में मुकाबला दिलचस्प होने के आसार है।

मुंगेर से फिलहाल लोजपा के वीणा देवी सांसद है। लेकिन बदले सियासी समीकरण के बीच मुंगेर लोकसभा सीट पर जदयू ने अपनी दावेदारी ठोक दी है। जदयू यहां से अपने छत्रप राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह को मैदान में उतारने जा रही है।

वही मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह भी कभी अपने दोस्त रहे ललन सिंह को चुनौती देने के लिए ताल ठोक दी है। अनंत सिंह कांग्रेस से लोकसभा चुनाव लड़ना चाह रहे हैं।

जिसको लेकर उन्होंने मोकामा से मुंगेर तक रोड  शो कर अपने विरोधियों को परेशान कर दिया। लेकिन अभी तक कांग्रेस या फिर महागठबंधन से अनंत सिंह को हरी झंडी नहीं मिली है।

उधर लोजपा सांसद वीणा देवी लोजपा सीट पर अपनी दावेदारी छोड़ने के पक्ष में नहीं दिख रही है। बिहार की राजनीति में छोटे सरकार के नाम से प्रचलित अनंत सिंह की छवि एक बाहुबली नेता की है।

अनंत सिंह पहली बार 2005 में मोकामा से विधानसभा चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे थे। मोकामा क्षेत्र में  इनकी तूती बोलती थी। एक जमाने में अनंत सिंह मुख्यमंत्री नीतीश के खासमकास हुआ करते थे।

क्षेत्र पर उनकी पहुँच और पकड़ कितनी है, ये इस बात से पता चलता है कि 2015 का विधानसभा चुनाव तो अनंत सिंह ने जेल में रहने के बावजूद लगभग बीस हजार से ज्यादा मतों से जीता था।

कहा जाता है कि मोकामा में अनंत सिंह का अपना अलग ही क़ानून चलता है जिसकी वजह से वो इलाके में ‘छोटे सरकार’ के नाम से मशहूर हैं।

कभी छोटे सरकार सीएम नीतीश कुमार और ललन सिंह के खास थें ।ललन सिंह और अनंत सिंह की दोस्ती जगजाहिर थी। लेकिन बाद में अनंत सिंह के जेल जाने के बाद दोनों की दोस्ती में खटास आ गया।

वहीं बाहुबली अनंत सिंह और मुंगेर से सांसद वीणा देवी के पति सूरजभान सिंह के बीच वर्चस्व की लड़ाई जग जाहिर है। अनंत की तरह ही सूरजभान ने भी मोकामा से निर्दलीय विधायक के तौर पर अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की थी।

सूरजभान कभी अनंत सिंह के बड़े भाई दिलीप सिंह के शागिर्द हुआ करते थे। मोकामा सीट पर कब्जे के लिए कई बार सूरजभान और अनंत सिंह के समर्थकों में वर्चस्व की लड़ाई होती रही थी।

इस बार मुंगेर सीट पर जेडीयू भी अपना दावा ठोकने के मूड में है। सीएम नीतीश  के करीबी ललन सिंह मुंगेर से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। सूरजभान की पत्नी वीणा देवी लोजपा की वर्तमान सांसद है और लोजपा अपनी सीट छोड़ना नहीं चाहती। ऐसे में

सीएम नीतीश अपने सेनापति को टिकट दिलाने के लिए मुंगेर सीट पर इतनी आसानी से दावा नहीं छोड़ेंगे।

विधायक अनंत सिंह के महागठबंधन में शामिल होने को लेकर ही संशय बना हुआ है। इससे पहले वें राजद की टिकट पर चुनाव लड़ना चाह रहे थे, लेकिन तेजस्वी की ओर से हरी झंडी नहीं मिलने से बाहुबली अनंत सिंह की नजर अब कांग्रेस पर है।

लेकिन अभी तक कांग्रेस ने भी पते नहीं खोले हैं। अगर अनंत सिंह निर्दलीय मैदान में आएं तो वें एनडीए को नुकसान पहुँचा सकते हैं। ऐसे में सीएम नीतीश कुमार के सेनापति के लिए राह आसान नही दिखती है।

बहरहाल, बाहुबलियों की लड़ाई में मुंगेर की राजनीति काफी दिलचस्प होने वाली है।

Related News:

  पत्थलगड़ी समर्थकों द्वारा सांसद करिया मुंडा के 3 बॉडीगार्ड अगवा
धूमधाम से मना डॉ रामराज सिंह की 35वीं स्मृति समारोह
पूना कांड के आरोपी सत्येन्द्र का खुलासा- रंजीत को दिया था होमियोपैथ की दो बूंद दवा
इस विलुप्त होती मानव प्रजाति के पास आजादी के 70 साल बाद भी नागरिकता तक नहीं!
फर्जी पत्रकार-शिक्षक की गुंडई, चापाकल में लगाया समरशेबुल, लोगों में रोष
तंबाकू उत्पाद बेचने वालों को अब लेना होगा लाइसेंस
नक्सली मुठभेड़ में कोबरा के जवान को गोली लगी, चौपर से रांची रेफर
गांवो की समृद्धि से होगा विकसित भारत का सपना पूराः सुजीत
बालू माफिया और हत्यारों की गिरफ्तारी तो दूर, 25 घंटे बाद FIR तक नहीं!
शूटिंग करने पहुंची विद्या बालन संग सपरिवार सेल्फी में मस्त रहे दुमका के डीएम-एसपी
‘SP के सामने थाना में DSP-INSPECTOR ने कुर्सी से बांध पैर फैलवा पूरे शरीर को चूर दिया’
सीएम पहुंचे 'बाबा' के घर, परिजनों को दी सांत्वना
हिलसा रेलवे स्टेशन पर देखिये पेयजल-शौचालय का हाल
जनप्रतिनिधि निकाल रहे शराबबंदी की हवा, मुखिया और पैक्स अध्यक्ष समेत 7 धराये
राजगीर की भीषण आग में फुटपाथ दुकानदारों की करोड़ की संपत्ति राख
समूचे नालंदा जिले में शांतिपूर्ण ढंग से मना मुहर्रम का पर्व
देखिए 4 थानों की पुलिस लेकर पानी में क्या कर रहे हैं अरेराज डीएसपी ज्योति प्रकाश
पी चिदंबरम के आवास पर CBI छापे के बाद लालू के कथित 22 ठिकानों पर IT की रेड
किसानों को नहीं मिल रहा लागत के अनुरुप उत्पादन का मूल्यः विवेक
RPF जवान की पत्नी को बंधक बना लाखों लूटा
भड़के सफाई मजदूर, ठेके पर मंजूर नहीं
मनचलों की करतूत से लोगों में उभरा आक्रोश
कौन है महाठग संजय तिवारी?  रांची में SBI को छोड़ कोई नहीं जानता
बेटी,पति समेत गर्भवती महिला की पीट-पीट कर हत्या
ऐतिहासिक रही राजद की महारैली, लालू फिर कद्दावर बन उभरे
खुले में शौच जा रही लड़की को नोंच-नोंच कर खा गये कुत्ते, ओडीएफ घोषित था गांव
मृत मजदूरों के नाम पर मुखिया और सचिव ने कर ली 7 लाख रु. की निकासी
सीएम रघुबर दास आएंगे खरसावां? चर्चा का विषय
डीएफआईडी टीम ने नालंदा लोक शिकायत निवारण प्रक्रिया का किया अवलोकन
‘राजगीर महोत्सव’ को लेकर बुरी तरह फंसे नालंदा डीएम
पेयजल-शौचालय तक नहीं है सुशासन बाबू के घर-आंगन के तेलमर हाई स्कूल में
सुनिये ऑडियो- मुखिया ने कैसे दी शिक्षक को धमकी और फिर थाना में कराया रेप केस
रांची प्रेस क्लब की नई कमिटी का फैसलाः मुख्य संरक्षक होंगे बलबीर दत्त
खाई में गिरी बस, 1 की मौत 18 से उपर घायल, 6 गंभीर PMCH रेफर
गोड्डा के गांधी मैदान में अनोखा पर्दशन, किया पुरुष आयोग की मांग
सीसीटीवी फुटेज के विश्लेषण से गोली कांड का उद्भेदन
हरनौत थाना शराब कांडः एसपी ने नहीं, खुद थानेदार ने की थी चालक, 2 हवलदार व 2 सिपाही के खिलाफ यह बड़ी ...
बीडीओ-पुलिस ने आंगबाड़ी सेविका से वोट दिलवा बिगाड़ा चंदौरा का माहौल, देखिए वीडियो
हिलसा में दारु के एक बड़े रैकेट का खुलासा, दो धंधेबाज के साथ डिलीवरी ब्यॉय भी धराया
अब ‘नाग-फांस’ में यूं जकड़े झारखंड के डीजीपी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...