प्रभात खबर के रिपोर्टर को व्हाट्सएप पर किसने भेजी जारी जांच की कॉपी ?

Share Button

रांची। स्थानीय हिन्दी दैनिक प्रभात खबर एवं उसके वेबसाइट पर एक खबर को पढ़ने के बाद राजनामा.कॉम के संपादक ने अखबार के स्थानीय संपादक विजय पाठक जी को फोन किया। उन्होंने  क्रईम रिपोर्टर अमन तिवारी से मिलने को कहा। शाम करीब 6 बजे मुकेश भारतीय दैनिक प्रभात खबर के रांची संपादकीय कार्यालय पहुंच कर समाचार को लेकर आपत्ति जताई तो अमन तिवारी पुलिस सुपरविजन रिपोर्ट का हवाला देकर पुलिस के पक्ष में खड़ा हो गया और दो टूक कहा कि पुलिस जो चाहती है , वहीं होता है।

vikas-shriwastavजब मुकेश भारतीय ने कहा कि उसकी खबर का स्रोत क्या है। इस पर उसने चौंका देने वाली कही। उसका कहना था कि उसे सुपरविजन रिपोर्ट और पुलिस द्वारा उठाये जाने वाले कदम की जानकारी व्हाट्सएप के जरिये मिली है।

विदित हो कि मुकेश भारतीय ने अपने पुत्र के अपहरण करने के प्रयास और जान मारने समेत तरह-तरह की धमकियां देने वाले आरोपियों विरुद्ध अतिशीघ्र जांच-कार्रवाई करने के संबंध में समय समय पर रांची सदर डीएसपी विकास चन्द्र श्रीवास्तव और बीआईटी ओपी के थाना प्रभारी पप्पु शर्मा के हमेशा संपर्क करते रहे हैं। दोनों घटना की करीब ढाई महीने बाद तक जांच जारी रहने की बात कहते रहे हैं। अभी तक कोर्ट में पुलिस डायरी या इससे संबंधित कोई भी जांच रिपोर्ट पेश नहीं की गई है। और न ही आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई ही की गई है।

pappu-sharmaसबाल उठता है कि न्यायालय के पहले पुलिस जांच के दौरान क्राईम रिपोर्टर को किसने सुपरविजन रिपोर्ट की प्रति व्हाट्सएप के जरिये उपलब्ध कराई गई। मामले की जांच-पड़ताल करने के नाम पर सूचना के 12 घंटे बाद नामजद एफआईआर दर्ज करने वाले थाना प्रभारी ने ? मामले का अनुसंधान कर्ता नारायण सिंह ने ? सुपरविजन करने वाले डीएसपी विकास चंद्र श्रीवास्तव ने ?  या फिर रांची एसपी कार्यालय के किसी करींदे ने ?

यह भी पढ़े   अतिक्रमण हटाने में भेदभाव, प्रशासन के समक्ष सामूहिक आत्मदाह करेगें दर्जनों महादलित

सबसे बड़ी बात कि पीआरबी अधिनियम के तहत खबरों के चयन और प्रकाशन के लिये जिम्मेवार विजय पाठक के कहने पर जब संपर्क किया तो समाचार लेखक- क्रईम रिपोर्टर अमन तिवारी ने पुलिस और आरोपियों के समर्थन में खूब बातें क्यों की ? और अपने बड़े बैनर वाले अखबार का हवाला देकर कहा कि वह कुछ भी लिख-छाप सकता है। जबकि रांची एसएसपी प्रवीण द्वेदी को समाचार और मामले को लेकर मुकेश भारतीय द्वारा जो शिकायत पत्र सौंपी गई थी, उसकी एक प्रति अमन तिवारी को दी गई थी।

aman-tiwari-prabhat-khabar
दैनिक प्रभात खबर क्राईम रिपोर्टर अमन तिवारी

अमन तिवारी के बारे में पड़ताल करने पर ज्ञात हुआ कि कि इसका काम पुलिस अनुसंधान और न्यायालयों में लंबित मामलों को प्रभावित करने वाले समाचार-विचार प्रकाशित करना है और वह मामलों को आरोपियों एवं पुलिस को मैनेज करने में माहिर है।

 

Share Button

Related News:

नीरज कुमार ने मलमास मेला की राजकीय दर्जा को लेकर सीएम व पीएस से लगाई गुहार
अम्मा का निधन, चाय बेचने वाले पनीरसेल्वम बने तमिलनाडु सीएम
पटना SSP की जांच से हुआ संपतचक CO की हैरतअंगेज कारस्तानी का खुलासा
भू-माफियाओं के निशाने पर पुरातत्व विभाग की संरक्षित राजगीर अजातशत्रु स्तूप, पीएम से लगाई सुरक्षा की ...
छात्र जदयू नेता के नालंदा कॉलेज में ‘बंदर-बंदरिया डांस’ लेखन के बाद मचा बवाल
झारखंड में फानी का कहर शुरु, सभी जिलों में हाई अलर्ट
राजगीर JDU MLA ने शराबबंदी को लेकर पुलिसिया कार्यशैली पर फिर उठाये सबाल
जस्टिस कर्नन को 6 माह की जेल, पहली बार HC के किसी जज को SC ने दी सजा
जीतीं झामुमो की सीमा-बबिता, फिर हारे आजसू सुप्रीमो सुदेश
प्रिंसिपल विहीन नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज में शिक्षकों का भी भारी टोटा
ब्रजपात से बाल-बाल बचे सांसद आरसीपी सिंह, गाड़ी हुई क्षतिग्रस्त
न्यू पटना पुलिस लाइन में तोड़फोड़, कई वरीय अफसरों का पिटाई, महिला सिपाही की मौत पर बवाल
सीएम के पर्यटन वाहन मित्र को राजगीर थाना प्रभारी ने यूं मजाक बना डाला
शर्मनाकः हथियार के बल युवती संग गैंगरेप, बनाया वीडियो, 3 दिन तक महिला थानेदार ने दौड़ाया
DM साहब, इन मासूमों की मौत हादसा नहीं, आपके भ्रष्ट सिस्टम के हाथों हत्या है
झुंड से बिछड़े हाथी ने मजदूर को रौंद मार डाला
घुसखोरी में सस्पेंड माइनिंग अफसर 51 लाख रुपए कैश के साथ धराया
गांव की महिलाएं होगी डिजीटल, सीख रही हैं स्मार्ट फोन के गुर
पुलिस ने चलती जनशताब्दी ट्रेन से यात्री को नीचें फेंका, मौत, वीडियो वायरल
शारदा माइंस हादसा से खुली पोल, सरकार माफियाओं के हाथ लुटा रही माइका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...