पुलिस को फिर चकमा दे गया आतंक का पर्याय बना मनोज सिंह

Share Button

“बीते वर्ष फरारी अवधि में ही अपने गांव शंभुपूरा में आयोजित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में मनोज सिंह और उसके गिराह के सदस्यों द्वारा स्टेज पर चढ़कर अंधाधुन फायरिंग मामला भी काफी दिनों तक चर्चा में रहा जिसका वीडियों भी वॉयरल हुआ था।”

पटना (खबर मंथन)। नौबतपुर, बिहटा सहित आसपास के इलाके में आतंक का पर्याय बना मनोज सिंह शुक्रवार को एक बार फिर पुलिस को चकमा दे गया।

पुलिस को उसके और उसके गिरोह के सदस्यों को नौबतपुर के गौरा जगदीशपुर गांव में छिपे होन की सूचना मिली थी, पर पुलिस के दबिश पड़ते ही मनोज सिंह फायरिंग करता हुआ वहां से फरार हो गया।

हालांकि पुलिस ने काफी दूर तक पीछा कर एक बांसवाड़ी में छिपने की कोशिश कर रहे मनोज सिंह गिरोह के एक अहम और वांछित अपराधी लवकुश को एक रायफल और 30 कारतूस के साथ दबोच लिया। लवकुश मूल रुप से बिहटा थाना अंतर्गत नत्थूपूर गांव का निवासी है तथा गौरा-जगदीशपुर में उसका ननिहाल है।

सूत्र बताते हैं कि मूल रुप से नौबतपूर थाना अंतर्गत शंभुपूरा गांव निवासी मनोज सिंह तथा उसका पुत्र मानिक काफी शातिर है और उसके स्पाई पुलिस में भी गहरी पैठ बनाए हुए हैं।

यही कारण है कि मनोज सिंह और उसके पुत्र की गिरफ्तारी के लिए जब-जब पुलिस छापेमारी करती है उसकी भनक पहले ही मनोज सिंह और उसके गिरोह को लग जाती है।

बताते चलें वर्ष 2016 में मनोज सिंह और उसके पुत्र को एसएसपी मनु महाराज की टीम ने गिरफ्तार भी किया था पर कुछ ही दिनों में दोनों पिता-पुत्र फर्जी जमानत पर बाहर निकल गए और कई कांडों को अंजाम दिया।

सूत्र बताते हैं कि मनोज सिंह का अधिकांश समय अपने गांव में ही बीतता है पर उसके आतंक और दहशत के कारण गांव वाले उसके खिलाफ कहीं जुबान नहीं खोलते।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...