पुलिस का खुलासाः अवैध संबंध में गई प्रदेश छात्र जदयू महासचिव की जान

मामला जो भी हो। काफी दावपेंच के बाद जदयू महासचिव के हत्या की मामला का सुराग प्रेम प्रसंग ही निकला। विगत 29 मई को हरनौत से छात्र जदयू के प्रदेश महासचिव का अपहरण का मामला प्रकाश में आया था, जिसका शव क्षत-विक्षत हालत में वेना थाना के अलीपुर-पचौड़ा गांव के एक खंदा बरामद किया गया था।“

बिहारशरीफ (राजीव रंजन)। नालंदा पुलिस अधीक्षक सुधार कुमार पोरिका द्वारा मीडिया को दी गई जानकारी के अनुसार मृतक के भाई नीतीश कुमार के द्वारा हरनौत थाना क्षेत्र के पटेल नगर मोहल्ला निवासी राधेश्याम के पुत्र मनीष कुमार एवं चंदन कुमार तथा खरूआरा गांव के स्वर्गीय रामनंदन सिंह के पुत्र दिवाकर कुमार के विरुद्ध अपहरण के मामला का लिखित आवेदन दिया।

उस आलोक में दर्ज हरनौत थाना कांड संख्या 156/18 के उद्भेदन एवं अपहृत राकेश कुमार की बरामदगी के लिये डीएसपी निशित प्रिया के नेतृत्व में हरनौत थानाध्यक्ष संजय कुमार, चेरो ओपी थानाध्यक्ष राकेश कुमार, कल्याणबीघा ओपी थानाध्यक्ष विष्णु देव कुमार, हरनौत थाना के दरोगा अजय कुमार, जिला सूचना इकाई के सिया राम प्रसाद तथा सशस्त्र बल की एक एसआईटी टीम का गठन की गई।

उसके बाद गठित टीम ने वैज्ञानिक अनुसंधान के क्रम में अपहृत राकेश कुमार के शव को बरामद किया। जिसे विधिवत अंत्य परीक्षण कराकर उनके परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया।

इस कांड के अनुसंधान के दौरान राकेश कुमार के मोबाइल का सीडीआर प्राप्त किया गया तो उसके विश्लेषण से इस कांड में दिवाकर कुमार, मनीष कुमार, गोरेलाल, सोनू कुमार, गुड़िया देवी एवं दीपक कुमार तथा उसके परिवार के लोगों की भूमिका संदिग्ध पाई गई।

अनुसंधान के क्रम में प्राथमिकी अभियुक्त मनीष कुमार एवं दिवाकर कुमार को पश्चिम बंगाल के डोंगररूच थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार अभियुक्त दीपक कुमार द्वारा बताया गया कि मृतक राकेश कुमार उर्फ टिंकू का पूर्व से अवैध संबंध में हमारे साढू की पत्नी सुजाता उर्फ सुगनी देवी के साथ था और इधर कुछ दिनों से उसकी बुरी नजर उनकी पुत्री पर थी।

विगत कुछ दिन पहले राकेश कुमार उर्फ टिंकू अपनी साली को भी लेकर भाग गया था। 

इसी बात को लेकर दीपक ने अपनी पत्नी गुड़िया देवी के साथ राकेश कुमार का हत्या करने की योजना बना डाली।

योजनानुसार घटना के दिन राकेश कुमार को उसके घर से मनीष कुमार,गोरेलाल एवं दिवाकर ने बुलाकर अपने साढू दीपक के घर ग्राम डीहरा ले गया तथा पीछे से सोनू भी वहां आ गया।

 तत्पश्चात सबने मिल कर दीपक के दालान में उस की बेरहमी से हत्या कर दी, जिसमें दीपक के घर के सदस्यों ने भी सहयोग किया।

फिर राकेश कुमार की मोटरसाइकिल को गरभूचक के तालाब में जा कर फेंक दिया। दिवाकर की निशानदेही पर उक्त मोटरसाइकिल को गरभूचक तालाब से बरामद किया गया, जिसका नंबर BR  21K 7657 है।

इस घटना में शामिल दिवाकर कुमार, मनीष, सोनू, गोरेलाल एवं पुष्पा देवी को गिरफ्तार किया गया है। शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।

Related News:

आज एक मंच पर दिखेंगे बिहार शरीफ नगर निगम के कई सियासतदार
पंसस ने कहा- 'पेंशन लेना है तो प्यार करो’, विधवा ने की थाना में शिकायत
बिहार के डीजीपी रहे छत्तीसगढ़ के प्रथम राज्यपाल डीएन सहाय का देहांत
शहीद होने से ठीक पहले विजय सोरेंग पत्नी से बोले थे- श्रीनगर जा रहे हैं, पता नहीं लौट पाएंगे कि नहीं
हाई स्कूल के बगल में सरकार चला रही शराब दुकान
पटनाः चरित्रहीन कौन, डीएसपी या उनकी पत्नी, हुई काउंटर एफआईआर
सड़क हादसा में तेजप्रताप घायल, पारस अस्पताल दौड़ी राबड़ी, रिम्स में लालू भी चिंतित
अब सुशासन बाबू खुद बोले- ‘मारकाट कोई रोक सकता है क्या’
हैट्रिक लगाने उतरे कौशलेन्द्र सुने यूं खरी-खोटी
शराब के नशे में चले सांसद बनने, नामांकन के समय पहुंचे पुलिस लॉकप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...