पुलिसिया कुकृत्यः पत्नी जिंदा थी, लेकिन उसकी हत्या में 6 माह से जेल में था पति, कोर्ट ने कहा-

पुलिस ने वैज्ञानिक जांच का दावा कर 48 घंटे के अंदर अज्ञात शव को राघोपुर थाना क्षेत्र के बेरदह निवासी सोनिया का शव मानते हुए उसके पति रंजीत पासवान, ससुर विष्णुदेव पासवान और उसकी सास को गिरफ्तार कर 28 मई को जेल भेज दिया…..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। अपनी पत्नी की हत्या में एक शख्स छह महीने से जेल में बंद था, अब वह महिला जिंदा मिल गई है। इस खबर के सामने आते ही हड़कंप मच गया है। वहीं पुलिस पर लोग सवाल भी उठा रहे हैं।

जब महिला की जिंदा होने की सूचना कोर्ट को मिली तो कोर्ट ने हत्या मामले में जेल में बंद पति और ससुराल के अन्य लोगों को बरी कर दिया। इसके साथ ही स्थानीय पुलिस पर तीखी टिप्पणी भी की।

कोर्ट ने पुलिस की कार्यशैली को हास्यासपद और कानून की नजर में मजाक बताया। कोर्ट ने पुलिस की इस कृत्य को काला धब्बा करार दिया।

मामला सदर थाना कांड सं. 310/18 और सत्रवाद संख्या 212/18 से जुड़ा हुआ है। कोर्ट ने मामले में पीड़ित पक्ष को प्रतिकर योजना के तहत 6 लाख रुपये मुआवजा देने का आदेश भी पुलिस को दिया है। कोर्ट ने कहा है कि पुलिस चाहे तो यह राशि जांचकर्ता के वेतन से काट सकती है।

मामले में एडीजे थ्री रविरंजन मिश्र की कोर्ट ने 23 दिसंबर को सुनाए अपने ऐतिहासिक फैसले में माना है कि पुलिस जिस किसी भी केस की जांच करती है, उसकी सिर्फ टेबल रिपोर्टिंग बनाती है। कोर्ट ने इस मामले में साढ़े पांच महीने तक आरोपितों को न्यायिक हिरासत में रखे जाने को भी अवैध माना है।

आदेश में कहा गया है कि जांचकर्ता की लापरवाही के कारण जो व्यक्ति जिंदा है, उसकी मौत के संबंध में दाखिल आरोपपत्र त्रुटिपूर्ण, लापरवाहीपूर्वक और जांचकर्ता की अयोग्यता, अक्षमता, कर्त्तव्य के प्रति लापरवाही और उदासीनता का सूचक है।

जांचकर्ता की वजह से एक ऐसा मामला, जिसकी जांच नहीं हो सकी, वह स्वत: समाप्त हो गया। यही नहीं बरामद शव जिस महिला का बताया गया, वह अगर जिंदा थी तो फिर वह शव किस महिला का था। इसकी जांच आज तक नहीं हो पाई। यह मामला बिना प्राथमिकी, बिना जांच के समाप्त हो गया, जो बिहार पुलिस के लिए काला धब्बा और शर्मनाक विषय है।

सुपौल सदर थाना क्षेत्र के तेलवा में 26 मई 2018 को एक अज्ञात महिला का शव मिला था। चौकीदार सियाराम पासवान के बयान पर अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज हुआ।

शव को सोनिया के माता पिता को भेजकर उसका अंतिम संस्कार करा दिया गया। मामले में शेष पांच आरोपितों के फरार रहने के कारण कुर्की-जब्ती का आदेश भी दिया गया।

इस बीच 21 नवंबर 2018 को एक महिला सदर थाना पहुंचती है और स्वयं को सोनिया होने का दावा करती है। उधर, 5 महीने और 20 दिन जेल में रहने के बाद हाईकोर्ट और जिला जज ने पत्नी की हत्या में बंद पति को जमानत दे दी।

कोर्ट ने मामले में आरोपित किए गए रंजीत पासवान, विष्णुदेव पासवान और गीता देवी को दोषमुक्त करते हुए उन्हें और उनके जमानतदारों को बंधपत्र के दायित्वों से भी मुक्त कर दिया है।

उधर, इस मामले में पीड़ित पक्ष की ओर से न्यायिक लड़ाई लड़ने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अनिल कुमार सिंह ने कहा है कि वे इस मामले को हाईकोर्ट तक ले जाएंगे। मामले में कोर्ट की टिप्पणी पुलिस की कार्यशैली की पोल खोल रही है।

ऐसे एक नहीं कई मामले जिले में हैं। उन्होंने संबंधित आईओ और केस से जुड़े तत्कालीन पुलिस पदाधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने की मांग भी की है। वह इसके लिए हाईकोर्ट तक जाएंगे।

उधर, कोर्ट के फैसले के बाद पीड़ित पक्ष ने कानून के प्रति आस्था जताई है। उनका कहना है कि देर से ही सही उन्हें न्याय मिला। दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

Related News:

नहीं रहे पूर्व रक्षा-रेल मंत्री एवं प्रख्यात समाजवादी नेता जॉर्ज साहब
आनंद किशोर BSEB अध्यक्ष के काबिल नहीं :पटना हाई कोर्ट
वहां उखड़ने का खतरा, जहां टिका है नीतीश का अंगदी पांव
पटना निगरानी ने सर्किल इंस्पेक्टर को घूस लेते रंगे हाथ दबोचा
बड़ा थेथर है नगरनौसा बिजली विभाग का जेई !
बोले प्रदेश राजद प्रवक्ता विधायक शक्ति यादव- नालंदा समेत सूबे में मर चुकी है पुलिसिंग
हिलसा राष्ट्रीय लोक अदालत में निबटाए गए 405 मामले, 43 लाख की हुई वसूली
नगर पंचायत उपाध्यक्ष-भाजपा नेता मनोज चौधरीः जनप्रतिनिधि है या गुंडा?
हड़ताल पर गए कर्मचारी, एसयू कॉलेज में पठन-पाठन ठप
रुपहले पर्दे पर दिखेगी नालंदा की बेटी साक्षी
राज बारदा के हत्यारों को इंसाफ दिलाने सड़क पर उतरी जनता
 डायन की शक में वार्ड सदस्य और उसके भाई की गला रेतकर हत्या
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
उदेरास्थान बराज से लोकायन में आई लहर, किसानों के खिले चेहरे
ऑन ड्यूटी नवादा डीएम की जेब यूं काट लिया पॉकेटमार
लालू की मुश्किलें बढ़ी, चौथे मामले में भी दोषी करार, मिश्रा-शर्मा बरी
गौ मांस के शक में वैन जलाई, चालक को पीट-पीट कर मार डाला, स्थिति तनावपूर्ण
RU के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा तथा कौशल विभाग में रोजगार मेला आयोजित
नवनिर्वाचित मुखिया पूनम हत्या कांड में तीन दोषी, 20 दिसम्बर को होगी सजा
मॉबलींचिंग पर एसपी का सनसनीखेज खुलासा, सीएम के आदेश के बाद मामले में दो थानेदार सस्पेंड
उबले पप्पु यादव-  हमले का हाल CRPF के जवानों से पूछो SSP
सड़क किनारे हनुमान मंदिर के गलत जीर्णोद्धार से रोका तो हंगामा पर उतरे लोग
बोले हिलसा DSP- चंडी थाना वीडियो वायरल मामला सत्य प्रतीत, होगी कड़ी कार्रवाई
MDM का 100 करोड़ की तुमाफेरी में SBI के दो DGM और 3 कलर्क संस्पेंड  
बोले बिहार शरीफ एसडीओः प्रमाण पत्र के बजाय मदद हेतु लें प्रशिक्षण
डुमरिया चुंबन प्रतियोगिता को लेकर झारखंड में हंगामा
सुनिये ऑडियो- मुखिया ने कैसे दी शिक्षक को धमकी और फिर थाना में कराया रेप केस
डीआईजी की इस पहल से स्ट्रेस फ्री होंगे पटना-नालंदा के थानेदार!
दुर्दशा का शिकार हैं करायपरसुराय का खेल मैदान
... और जब मजदूरों से घिरे मुख्य पार्षद के प्रतिनिधि
लो कर लो बात, युवती ने युवक को किडनैप कर शादी रचाया !
महापर्व छठ में सर्वत्र दिखी स्वछता और सुंदरता की परंपरागत झलक
पाटलिपुत्र थाना में ही शराबी मुंशी गिरफ्तार, सिटी एसपी ने की कार्रवाई
नालंदा एसपी के जीरो टॉलरेंस नीति ‘थर्ड आई’ पर अब होगी लोगों की नजर
10 साल से कौन बना रहा है ऐसा किसान भवन, प्रखंड के बाबूओं को पता नहीं !
एसपी की कार्रवाईः बिहार थाना के नकटपूरा गांव से अवैध बालू लदी 25 ट्रैक्टर जप्त
पटना के अपहृत चिकित्सक पुत्र की आरपीएस मोड़ के पास मिली लाश
बालूमाथ मॉब लिंचिंग मामले के सभी 8 दोषियों को उम्रकैद
हिलसा एसडीओ की ‘पूना कार्रवाई’ के बाद मुखियाओं में हड़कंप
नालंदा से दो भ्रष्ट अफसर पकड़ पटना ले गये निगरानी वाले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...