पत्रकार ने विधायक को पीटा, थाना में  मामला दर्ज

Share Button

पलामू (INR) ।  हुसैनाबाद के एके सिंह कॉलेज में दानदाताओं के बीच दानदाता प्रतिनिधि का चुनाव कराने हेतु विश्वविद्यालय के निर्देशानुसार प्राचार्य द्वारा बुलाई गई बैठक में एक पत्रकार सह दानदाता एवं एक अन्य दानदाता ने विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता की पिटाई कर दी।

इस संबंध में विधायक श्री मेहता ने हुसैनाबाद थाना में पत्रकार उदय ओझा एवं अयोध्या सिंह के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी है।प्राथमिकी में कहा गया है कि जब वे कॉलेज में बैठक कर लौट रहे थे तो कॉलेज परिसर में ही आरोपियों सहित 40-50 अज्ञात लोगों ने उनपर रायफल और लाठी-डंडा से लैस होकर जानलेवा हमला कर दिया। सुरक्षाकर्मियों की मदद से वे बाल-बाल बच गए।

जबकि आरोपी पत्रकार सह दानदाता उदय ओझा एवं अयोध्या सिंह का कहना है कि दानदाता सदस्य के चुनाव हेतु प्राचार्य द्वारा पत्र देकर उन्हें बुलाया गया था। विधायक द्वारा जानबूझकर दानदाता सदस्य के चुनाव में अडंगा डाला गया।

दानदाताओं ने इसका विरोध किया कि जब चुनाव नहीं करना था तो उन्हें बेमतलब चार घंटे क्यों बैठाये रखा गया।तब विधायक ने झूठा एवं मनगढ़ंत मामला थाना में दर्ज कराया।              

बैठक में शासी निकाय के पदेन सदस्य माननीय विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता,प्राचार्य अशोक कुमार सिंह, विश्वविद्यालय प्रतिनिधि प्रो.महेन्द्र राम, शिक्षक प्रतिनिधि मुकेश कुमार सिंह और उपायुक्त के प्रतिनिधि के रूप में जिला शिक्षा पदाधिकारी मीना कुमारी के अलावे एक दर्जन दानदाता उपस्थित थे।

दानदाता सदस्य का चुनाव नहीं कराकर शासी निकाय के सदस्य एक अलग बंद कमरे में बैठक करने लगे।

आश्चर्य की बात तो यह है कि दानदाताओं को चार घंटे बैठाकर रखा गया और बंद कमरे में अध्यक्ष एवं सचिव का चुनाव कर दानदाताओं को बिना कुछ बताए शासी निकाय के सदस्य अंधेरे का लाभ उठाकर भागने लगे तथा शिक्षक प्रतिनिधि रजिस्टर लेकर भी चलते बने। जबकि विश्वविद्यालय के निर्देशनुसार  प्राचार्य द्वारा एक लिखित पत्र सभी 13 दानदाताओं को बैठक में शामिल होने हेतु दिया गया था। दानदाताओं को विधायक ने फर्जी कहा और उनके खिलाफ कई अपशब्दों का प्रयोग किया।

इस बात से खफा दानदाताओं ने विधायक मुर्दाबाद के नारे लगाये। इस कारण दानदाता सदस्य का चुनाव नहीं हो सका। कुछ देर के लिये कॉलेज परिसर में हंगामा होता रहा। बाद में मामला शांत हो गया। इस प्रकार आज कॉलेज में शासी निकाय के सदस्यों ने नियमविरुद्ध कार्य कर “हंसुआ के विवाह में खुरपी का गीत” कहावत को अक्षरशःसत्य साबित कर दिया।

इधर प्राचार्य अशोक कुमार सिंह ने देवरी ओपी में विधायक एवं शिक्षक प्रतिनिधि मुकेश सिंह के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी है। उनका कहना है कि उक्त दोनों लोगों ने दानदाता का चुनाव न कराकर अध्यक्ष- सचिव का चुनाव एक बंद कमरे में कराने लगे। कार्यवाही पुस्तिका में जबरन हस्ताक्षर करने का दबाव बनाया।

ऐसा नहीं करने पर उनके साथ अभद्र व्यवहार किया गया एवं कमरे से बाहर कर दिया। बाद में कार्यवाही पुस्तिका एवं सभी कागजात लेकर विधायक एवं शिक्षक प्रतिनिधि गाड़ी से भाग गए।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.