निरीह चूहों को फिर बदनाम कर रहे हैं कुशासन के भ्रष्ट बिलार

बिहार में चूहों को सिर्फ शिक्षा विभाग ने ही नहीं बदनाम किया है। थानों में शराब पीने से लेकर बांधों के टूटने का जिम्मेदार भी चूहों को ही समझा गया। यहां शिक्षकों का नियोजन तो भारी स्तर पर हुआ, लेकिन सच्चाई यह भी है कि पूरे सूबे में फर्जी प्रमाणपत्र पर नियोजित शिक्षक  काफी तादात में काम कर रहे हैं …..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। बिहार की भ्रष्ट व निकम्मी व्यवस्था के बिलारों ने एक बार फिर चूहों को बदनाम किया है। पहले यहां पर चूहों पर शराब गटकने, बांध कुतरने का आरोप लगाया गया।

अब बेशर्मी की हद देखिए कि चूहों पर नियोजित शिक्षकों की जांच से जुड़े फोल्डर को कुतर कर नष्ट करने का ठिकरा फोड़ा है। शिक्षक नियुक्ति फर्जीवाड़ा की हैरतअंगेज दलील है कि करीब 40 हजार ऐसे फोल्डर हैं, जिन्हें चूहों ने कुतर दिया है।

आखिर फर्जी प्रमाण पत्र पर काम कर रहे नियोजित शिक्षकों की जांच कब तक पूरी होगी। बिहार में नियोजित शिक्षकों की संख्या 3 लाख 52 हजार 812 है।

लेकिन इनके नियोजन के साथ ही ये बात भी सामने आई कि सैकड़ों की संख्या में ऐसे शिक्षकों का नियोजन हुआ है, जिनके सर्टिफिकेट ही फर्जी हैं। पिछले एक दशक के दौरान ऐसे फर्जीवाड़े जमकर हुए हैं और ठोस कार्रवाई करने में नीतीश सरकार के हाथ पैर फूलते रहे हैं।

  हाईकोर्ट के आदेश के बाद यहां पिछले पांच सालों से नियोजित शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच चल रही है। लेकिन जांच की प्रक्रिया काफी सुस्त है। एक तरह से कहिए तो ठप है।

अब नियोजित शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच कर रहे निगरानी विभाग को कई भ्रष्ट नियोजन इकाइयों ने जानकारी दी है कि उनके यहां सर्टिफिकेट से जुड़े फोल्डर थे, उसे चूहों ने कुतर दिए हैं।

ऐसे फोल्डरों की संख्या 40 हजार के करीब है। कुछ भ्रष्ट नियोजन इकाईयों ने यह भी कहा कि बाढ़ में 10 हजार शिक्षकों के फोल्डर बह गए हैं।

सवाल उठना स्वभाविक है कि अगर सर्टिफिकेट से जुड़े फोल्डर बाढ़ में बह गए या फिर चूहों ने कुतर दिए तो फिर जिम्मेदार अधिकारियों और नियोजन इकाईयों पर क्या कार्रवाई होगी? इसमें लोगों को संदेह है।

जीरो टॉलरेंस के ढिढोंरे पीटने वाले सीएम नीतीश कुमार का कुशासन ही कहा जाएगा कि पिछले पांच सालों से नियोजित शिक्षकों के प्रमाणपत्रों की जांच चल रही है। ये जांच कब पूरी होगी। इसकी समय सीमा तय करने की हिम्मत सरकार में कभी नहीं दिखी।

हो सकता है कि कुछ शिक्षकों का नियोजन फर्जी प्रमाणपत्र के आधार पर हुआ होगा, लेकिन बांकी तो नियोजित शिक्षकों को उनकी योग्यता पर नौकरी मिली है।

सरकार इसकी आवश्यक जांच करे और ये भी सुनिश्चित हो कि किन अधिकारियों और नियोजन इकाइयों की वजह से फोल्डर गायब हो गए हैं।

आश्चर्य की बात है कि दायर एक पीआईएल पर हाईकोर्ट ने इसकी जांच का जिम्मा निगरानी को दिया। शिक्षा विभाग को कहा गया कि वो निगरानी विभाग को इसमें जरूरी सहयोग करे।

बिहार में कुल नियोजित शिक्षकों की संख्या 3 लाख 52 हजार 812 बताई जा रही है। वहीं निगरानी विभाग को अब तक कुल 2 लाख 43 हजार 129 फोल्डर ही मिले हैं। अब भी नहीं मिले फोल्डरों की संख्या 1 लाख 9 हजार 683 बताई जा रही है।

अब तक मिले फर्जी प्रमाणपत्रों की संख्या 1132 है। इससे जुड़े मामले में कुल 419 मुकदमे हैं और 1426 शिक्षकों पर केस दर्ज किया गया है।

Related News:

DSP विकास चन्द्र श्रीवास्तवः पुलिस का एक सकारात्मक चेहरा
मुश्किल में मंजू वर्मा, सुरक्षा वापसी के साथ दिखते ही पति संग अरेस्ट करने की तैयारी
सीएम के पर्यटन वाहन मित्र को राजगीर थाना प्रभारी ने यूं मजाक बना डाला
रिटायर कमिश्नर दंपति की पटना में पीट-पीटकर हत्या
ठगों की राजनीति के सामने संसद बेबस
राजगीर रेप कांड के आरोपी मामा-भांजा को दीपनगर पुलिस ने यूं दबोचा
शोषित दलितों के मामले को लेकर जांच टीम गठित
लालू-जगन्नाथ को 5-5 साल की सजा और 5-5 लाख का जुर्माना
बेटी को इलाज कराकर लौट रही मां की सड़क हादसे में मौत
'यहां के मंदिर में रावण की पूजा करने वाले आज कोई खुशी भी नहीं मनाते'
पुलिस की मौजूदगी में ट्रैक्टर मालिक को दौड़ा दौड़ा पीटा, अधमरा किया, डीएसपी तक को न बख्शा
प्रमोशन हेतु फिट कुल 146 जजों में मानवेन्द्र मिश्रा समेत बिहार शरीफ कोर्ट के 4 जज भी शामिल, देखिए पू...
भड़के सफाई मजदूर, ठेके पर मंजूर नहीं
पश्चिम बंगाल तट से टकराया फानी, संकट टला, लेकिन आंधी-बारिश की आशंका
बांका पहुंची सृजन महाघोटाला,83.10 करोड़ की निकासी, मामला दर्ज, बैंक मैनेजर गिरफ्तार
यहां नीतीश कुमार नहीं, अपराधियों की बहार है
जल्लाद राजः शराब कारोबारियों ने अखबार एजेंट को चाकू गोद-गोद कर मार डाला
महाबोधि मंदिर सीरियल ब्लास्ट के पांचों आतंकी को उम्रकैद
अब किसानों को खरीफ फसल के लिए 5000 रुपये प्रति एकड़ हर साल देगी सरकार
बोले सीएम- जानमाल से कोई समझौता नहीं, बुरुगुलीकेला कांड का करें SIT जांच
राजगीर-बख्तियारपुर रेल खण्ड में शीघ्र दौड़ेगी इलेक्ट्रिक इंजन
ट्रैक्टर से कुचलकर मौत, अस्पताल की कुव्यवस्था को लेकर सड़क जाम
एक्सपर्ट मीडिया के खुलासे के बाद मचा हड़कंप, नालंदा जिप अध्यक्षा पहुंची चंडी बीआरसी
लोकसभा चुनाव को लेकर झारखंड-ओड़िशा सीमा पर यूं होगी पुलिस मुस्तैद
नालंदा के नगरनौसा थाना क्षेत्र में बगीचा अगोर रहे महादलित को गोलियों से भूना
महागठबंधन की सरकार में महादलितों पर अत्याचार बढ़ाः जीतनराम मांझी
बिना शौचालय बनाये डकार गये राशि और कर दिया ODF घोषित
हाथ में गुलदस्ता थमा मांगा बचाने और पढ़ाने का वचन
प्रो. सुनैना सिंह ने संभाला नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति का पदभार
82 में 29 दागी तो 42 नन मैट्रीक, मुकेश सबसे अमीर तो पप्पु-रंजन दंपति बराबर
सीएम नीतीश के गांव की दयनीयता की चर्चा यूं खोल रही विकास की पोल
2 बाइक की सीधी टक्कर में 1 युवक की मौत, 3 घायल
एक महादलित बाप ने भूख से तंग होकर 3 बच्चों के साथ जहर खाया, एक बच्चा की मौत
रंगोली के जरिए बच्चियों ने जतायी भ्रूण हत्या पर चिंता
इस्लामपुर में मजदूर ने लगाई यूं फांसी, पुलिस कर रही जांच
हादसा या शासनिक हत्या? फिर हुई 3 लोगों की यूं दर्दनाक मौत
इंटर मार्क्स बढ़ाने वाले गिरोह के तीन सदस्य कतरीसराय में धराये, अन्य की तलाश जारी     
हिसुआ थाना का वाहन यूं घूम रहा मलमास मेला, नवादा एसपी बोले- होगी जांच कार्रवाई
हाई कोर्ट ने कहा- यह कैसी शराबबंदी है? 30 दिन में बताए सरकार
'संपूर्ण क्रांति' के लोकनायक के अधूरे चेले 'लालू-नीतीश-सुशील-पासवान'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...