नालंदा विश्वविद्यालय में प्रथम कुलपति और विशेष कार्याधिकारी की नियुक्ति सहित भारी अनियमियता

“कैग की इस रिपोर्ट के बाद नालंदा विश्वविद्यालय और उससे जुड़े हुए कमेटियों में खलबली मच गई है। आगे क्या कार्रवाई होती है इसके लिए  सबकी नजर केन्द्र सरकार  और विश्वविद्यालय के कुलाधिपति की ओर लगी है।”

नालंदा (वरीय संवाददाता )। नालंदा विश्वविद्यालय के  प्रथम कुलपति डॉक्टर गोपाल सभरवाल और विश्वविद्यालय के विशेष कार्य पदाधिकारी सह डीन डॉक्टर अंजना शर्मा की नियुक्ति और वेतन निर्धारण में बड़े पैमाने पर अनियमितताएं बरती गई हैं। इसके अलावे अनेक वित्तीय अनियमितताएं  हुआ है।

कुलपति की लापरवाही व उपेक्षा  से जमीन अधिग्रहण और राशि आवंटन के छह साल  बाद भी विश्वविद्यालय भवन निर्माण  कार्य शुरु नहीं हुआ। इसका खुलासा नियंत्रक एवं महालेखाकार परीक्षक ( कैग ) ने किया है।

कैग द्वारा संसद में पेश किए गए ताजा रिपोर्ट के अनुसार अब तक विश्वविद्यालय में  नियमित संचालन मंडल का गठन तक नहीं किया गया  तथा  एकेडमिक स्टाफ की नियुक्ति के लिए नियम भी नहीं बनाए गए हैं। विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों का पंजीकरण भी अनुमान से बहुत कम है। 16 देशों के सहयोग से बन रहे इस विश्वविद्यालय का संचालन विदेश मंत्रालय से होता है।

इस विश्वविद्यालय की स्थापना 2010 में बाकायदा एक कानून पारित करके की गई है।   इस विश्वविद्यालय में कुल 7 स्कूलों में  पढ़ाई होनी है। विश्वविद्यालय  कानून की धारा 15 (1 ) के अनुसार विश्वविद्यालय के कुलपति की नियुक्ति विजिटर यानी राष्ट्रपति संचालक मंडल की सिफारिश पर कम से कम तीन लोगों की एक पैनल से किया जाना है।

कैग ने अपनी जाँच पड़ताल में पाया कि विश्वविद्यालय में संचालक मंडल का गठन अब तक नहीं हुआ है। इनकी जगह पर नालंदा परामर्शदाता समूह ने ही कुलपति के रूप में तीन नाम  के बजाए केवल एक ही व्यक्ति डॉक्टर गोपाल सभरवाल के नाम की सिफारिश कर दी,  जो नियमानुकूल नहीं है। 

वही परामर्शदाता समूह नवंबर 2010 में संचालक मंडल में बदल दिया गया था और उसे ही कुलपति के नामों की सिफारिश की शक्ति भी प्रदान की गई थी। लेकिन परामर्शदाता समूह यह शक्ति मिलने के 4 महीने पहले ही अगस्त 2010 में डॉक्टर गोपा सभरवाल के नाम की सिफारिश कर दी थी। इस प्रकार कुलपति के रूप में डॉक्टर गोपा सभरवाल की नियुक्ति में अनियमितता बरती गई है।

कैग के अनुसार संचालक मंडल ने बिना किसी लिखित रिकार्ड के मनमाने तरीके से कुलपति डा. सभरवाल का वेतन दो लाख रूपये प्रतिमाह से बढ़ाकर 3.50 लाख रुपये प्रतिमाह  कर दिया। इसी प्रकार इस विश्वविद्यालय में विशेष कार्य पदाधिकारी के पद का प्रावधान नहीं होने के बावजूद अनियमितता बरतते हुए डॉक्टर अंजना शर्मा की नियुक्ति दो लाख  रुपए मासिक वेतन पर कर दिया गया।

तात्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर बन रहे नालंदा विश्वविद्यालय परिसर के लिए  बिहार सरकार ने वर्ष 2011 में ही 450 एकड़ जमीन आवंटित कर दी थी।केंद्र सरकार ने उसी समय  इस परियोजना के निर्माण  के लिए 2727 करोड़ रुपए आवंटन भी कर दिया था।

नालंदा विश्वविद्यालय परिसर  का निर्माण कार्य 2010 से 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। लेकिन अफसोस है कि मार्च 2016 तक केवल चाहरदीवारी का निर्माण कराया गया है। भवन निर्माण की दिशा में कोई पहल नहीं की गई।

इतना ही नहीं कैग ने चहारदीवारी की निर्माण में  भी अनियमितता होने की पुष्टि की है। नालंदा  विश्वविद्यालय परिसर के पहले चरण के निर्माण के लिए निकाली गई निविदा में भी कैग ने अनियमितता पकड़ी है।

Related News:

चंडी रेफरल अस्पताल की बदहाली से आर्थिक दोहन के शिकार हो रहे हैं मरीज
झरखंड में 24 घंटे के भीतर 12 लोगों की ‘तालीबानी हत्या’ से लोग हैरान
पीड़िता और परिजन ने कोल्हान DIG से की मीडिया-पुलिस गठजोड़ की लिखित कंप्लेन
बारिश से किसानों के चेहरे पर लौटी मुस्कान
FFC के FIR से उठे सवाल, चावल घोटाले को दबाने का हो रहा था प्रयास!
शराबी प्रखंड प्रमुख पति ने प्रशिक्षिका सरपंच के साथ शिविर में की सरेआम छेड़खानी, हुई पिटाई
'10 से 14 साल के बच्चों को मार कर पुलिस ने बताया था कुख्यात नक्सली'
कहां से उड़ी विधायक अनंत सिंह की हत्या की सुपारी की खबर, पटना SSP हैरान
AJSU को बड़ा झटका, JMM का झंडा दामन थामेंगे MLA विकास सिंह मुंडा
भाजपा सांसद शहनवाज हुसैन से कुख्यात शहाबुद्दीन के रहे हैं गहरे ताल्लुकात
बैंक-कर्ज के दबाव से तंग किसान ने की आत्महत्या, रांची के ओरमांझी क्षेत्र की घटना
राजगीर कुन्ड के पास अवैध छोटे गैस सिलेन्डर फटने से उठे शोले
पूर्व जिप अध्यक्ष तनुजा कुमारी का प्रदेश जदयू पंचायती राज महासचिव पद से इस्तीफा
थाना बैरक के इस वायरल वीडियो से शराबबंदी पर फिर उठे सबाल
नक्सलियों ने पुलिस टीम पर बरसाई गोलियां, दारोगा समेत 4 पुलिसकर्मी शहीद
...और एसएसपी ने खुद एके-47 लेकर संभाला मोर्चा, यूं बड़े दहशत से बच गया रांची
13-9 से गई चंडी प्रखंड प्रमुख और उप प्रमुख की कुर्सी
बोली ममता- 'आयुष्मान से मुझे बिटिया समेत मिला नवजीवन'
डीएम ने शौचालय की सफाई कर बच्चों को नहलाया, हो रही खूब चर्चा
वैभारगिरी पर्वत पर पर्यटकों से भारी लूटपाट, बिल्कुल नाकारा बनी राजगीर पुलिस
CM आवास के पास अब पुलिस जवान से इंसास रायफल छीनी
मंत्री जी, भीख मांग यूं पेट भर रहे ग्रामीण और अफसर डकार रहे राशन
फणीश्वरनाथ रेणु के नाम पर होगा अररिया इंजीनियरिंग कॉलेज
नालंदा में शिक्षा का हालः कहीं 16 छात्र पर 5 शिक्षक तो कहीं 250 छात्र पर 2 शिक्षक
देवघर में दिनदहाड़े गोलीबारी में एक की मौत, एक घायल
रांची प्रेस क्लब भवन में स्काउटिंग फॉर ऑल कार्यक्रम समारोह का उद्घाटन
40 हजार उधार नहीं चुकाया तो दोस्त की पत्नी-बच्चों को 4 माह तक रखा बंधक
‘इन दंगों के लिए अगर कोई दोषी है तो वह हैं खुद सीएम नीतीश कुमार’
हां, पेपर लीक कांड में शामिल है IAS सुधीर कुमार : SIT चीफ मनु महाराज का दावा
सेना बहाली के अभ्यर्थियों की सेवा में जुटी झामुमो
राजगीर नगर पंचायत की नई सरकार के सामने होगी ये चुनौतियां
बोतल लहरा शराबी ने पुलिस को दिया यूं खुला चैलेंज, मना करने पर महिला सरपंच को पीटा
उपायुक्त ने दिये अवैध उत्खनन के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश
जानिए यह है ‘गंबूसिया उर्फ गटर गप्पी’, इसे चाहिए ऐसा जीवन-पानी
बिहार के हुकुमदेव को पद्म भूषण और अन्य इन 5 को मिले पद्मश्री पुरस्कार
बैल खरीदने में विफल किसान ने यूं लगा ली फांसी
राजगीर मलमास मेला की सैरात भूमि को अतिक्रमणमुक्त कराये प्रशासनः नालंदा सांसद
बीजेपी के पेड वर्करों ने अमित शाह को बीच सड़क बनाया मजाक, वीडियो वायरल
जादुगर जेपी सम्राट शो में उत्पात, कलाकारों को पीटा, संपति भी लूटी
अस्पताल की लापरवाही से बच्ची की मौत, परिजनों ने काटा बवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...