नालंदा के इन गांवों में भीषण गर्मी के बीच छलावा बना सीएम का जल निश्चय योजना

Share Button

नगरनौसा, नालंदा । राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना विकसित बिहार के सात निश्चय अंतर्गत हर घर नल का जल निश्चय के लक्ष्य को पुरा करने के लिए लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग दिन-रात प्रयासरत हैं।

विकसित बिहार के सात निश्चय अंतर्गत हर घर नल का जल योजना के तहत हर घर को नल से जोड़ने को लेकर नगरनौसा प्रखंड के कैला पंचायत अंर्तगत महमदपुर गांव में जलापूर्ति केंद्र का निर्माण करा प्रखंड क्षेत्र के दो पंचायतों के लगभग आधा दर्जन से अधिक गांव के घरों को नल का जल योजना से जोड़ा गया। लेकिन अब तक जिन घरों को भी नल का जल पहुंचाया गया है,अब तक उन घरों में नल का जल नही आया।

कुछ ऐसा ही मामला नगरनौसा प्रखंड क्षेत्र के आधा दर्जन गांवों से जुड़ा हैं। जहाँ विकसित बिहार के सात निश्चय अंतर्गत हर घर नल का जल योजना के तहत नल का जल का कनेक्शन तो पहुँचा दिया गया। लेकिन उन नल से अबतक एक बूंद पानी नही आया।

किन-किन गांव में सप्लाई दी गई थी नल का जल

प्रखंड के कैला पंचायत अंर्तगत महमदपुर, मांसिगपुर, तीना, रामपुर पंचायत अंतर्गत तिनी लोदीपुर, रामघाट बाजार, बोधी बिगहा, लोदीपुर, जागो बिगहा, बमपुर गांव कुछ भाग, चंडी प्रखंड के रुखाई पंचायत अंतर्गत कुकहरिया गांव के कुछ भाग

क्या कहते है ग्रामीण

बोधी बिगहा गांव निवासी सतीश कुमार, अभिषेक भारती, धर्मेंद्र कुमार, तिनिलोदीपुर गांव निवासी लोकेश नाथ पांडेय, राजू कुमार, पप्पू कुमार, अभ्यनन्द पांडेय, अभिषेक पांडेय, तिना गांव निवासी नीतीश कुमार, शनि कुमार ,सिद्धार्थ कुमार,बिजय प्रसाद, जागोबिगहा गांव निवासी ननदे प्रसाद, नीतीश कुमार, राजू कुमार ,संतोष कुमार, लोदीपुर गांव निवासी मनीष कुमार, संजीब कुमार, कमलेश प्रसाद, सत्येन्द्र कुमार, मंटू कुमार, राजीब कुमार,बमपुर गांव निवासी बिजय यादव, कमल यादव सहित दर्जनों ग्रामीणों ने बताया कि राज्य सरकार के सात निश्चय योजनाओं में शामिल अति महत्वकांक्षी योजना हर घर नल का जल के तहत घरों में नल का जल योजना के तहत पानी का कनेक्शन दिया गया। लेकिन अब तक एक- दो माह नही छः माह से ज्यादा बीतने को है लेकिन अब तक नल से एक बूंद पानी नही आया।दूसरी तरफ इस भयंकर गर्मी में चापाकल पानी देना बंद कर दिया है।

उधर पानी की भारी किल्लत हो गई है। नदी, तलाब, कुआ सब सुख गया है। मवेशियों को प्रचुर मात्रा में पानी नही मिल रहा हैं। सरकार सिर्फ़ दावा करती है कि ग्रामीणों को फ्लोराईड, आर्सेनिक एवं आयरन से प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने तथा समुदाय आधरित जल गुणवत्ता अनुश्रवण एवं निगरानी में सामुदायिक भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए बिहार ग्राम स्वच्छ पेयजल निश्चय अभियान के सफल क्रियान्वयन कर रही है लेकिन हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है।

क्या कहते है ऑपरेटर

जलापूर्ति केंद्र महमदपुर के ऑपरेटर सुभाष कुमार ने बताया कि  घरों तक पानी नही पहुचने की इस समस्या से उच्य अधिकारियों को अवगत कर दिया गया । जल्द ही हो रही इस समस्या से लोगो को निजात मिल जायेगी। सभी घरों को पानी मिलने लगेगा।

क्या कहते है अधिकारी

नगरनौसा / चंडी लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग के अभियंता रबी प्रकाश ने बताया कि इस तरह की हो रही समस्या की जानकारी मुझे मिली है । एक और पम्प लगाने की जरूरत है। बिभाग को इस संबंध में जानकारी दे दिया गया है। स्वीकृत मिलते ही जल्द से जल्द एक और पम्प लगा इस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा।

Share Button

Related News:

इधर बिहारशरीफ बन रहा स्मार्ट सिटी, उधर यूं गीर-मर रहे हैं लोग
बाल विवाह और दहेज प्रथा पर रोक में भागीदार बनें छात्र जदयूः श्याम
देखिये राजगीर SHO को इस मुखिया द्वारा नंगा करती वीडियो
रिमोट से विस्फोट, कांग्रेस अध्यक्ष शंकर यादव समेत 2 की मौत
पल्स पोलियो और शिक्षा कार्यक्रम के बहिष्कारक इस गांव में विकास का सच
एसडीओ ने किया 15 अवैध क्रशरों को सील, 4 ट्रक भी जब्त
नहीं बिके पंसस तो चंडी प्रखंड प्रमुख-उपप्रमुख की कुर्सी जाना तय
बढ़ती हिंसा पर बच्चों ने जतायी चिंता
पीएम ने फिलीपींस में वैज्ञानिक अरविंद से धान की पैदावार को लेकर की लंबी चर्चा
पेड़ से टकराई स्कूल वाहन, 16 बच्चे जख्मी, 3 की हालत गंभीर, PMCH रेफर
गिरदा में पुलिस व पीएलएफआई में मुठभेड,तीन उग्रवादी ठेर
नालंदा के इस्लामपुर प्रखंड में शिक्षक नियोजन प्रक्रिया में धांधली का पर्दाफाश
महिला की संदिग्ध मौत, हत्या की आशंका, जांच में जुटी पुलिस
आखिर क्यूं हुई मुख्यमंत्री के करीबी दुलारचंद यादव की गिरफ्तारी!
DGP पर बरसे CM, कहा- ले डुबेगी MEDIA की ऐसी सुर्खियां
अमीरों पर रहम,गरीबों पर सितम...यह कैसा कानून-प्रशासन-न्याय है हुजूर ?
फेसबुक पोस्ट को लेकर जमकर बवाल, धारा 144 लागू
नीतीश सरकार में राज्य का शिक्षा व्यवस्था चौपट : उपेन्द्र
नीतीश कुमार को अपने ही रिकार्ड को तोड़ने की होगी चुनौती
बिहार के विकास के संदर्भ में आज भी प्रासंगिक है श्री बाबू के विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

loading...
Loading...