नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज के छात्रों के बीच हिंसक झड़प, 2 दर्जन घायल

Share Button

चंडी (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। नालंदा के चंडी में स्थित नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज रण क्षेत्र का मैदान बन गया। काॅलेज के दो गुटों में हुए हिंसक झड़प में दो दर्जन से ज्यादा छात्र घायल हुए हैं । जिनका इलाज चंडी रेफरल अस्पताल में किया जा रहा है।

वहीं नालंदा इंजीनियरिंग काॅलेज के सैकड़ों छात्रों ने चंडी बाजार में जमकर उत्पात मचाया तथा कई घरों में घुस घुस कर छात्रों के एक गुट के साथियों को चुन चुनकर की पिटाई की।

यहाँ तक कि छात्रों ने चंडी रेफरल अस्पताल में भी घुसकर उत्पात मचाया ।जिससे स्वास्थ्य कर्मचारियों में दहशत पैदा हो गया तथा कई ने छिपकर अपनी जान बचाई ।

बताया जाता है कि मंगलवार देर शाम अचानक छात्रों के आपसी विवाद को लेकर काॅलेज परिसर जंग का मैदान बन गया । एक गुट के छात्रों ने हाॅस्टल में घुसकर कई छात्रों की पिटाई कर दी।

इससे गुस्साये सैकड़ों छात्रों ने बैट -बल्ले,विकेट तथा हाॅकी स्टिक अपने हाथों में लेकर पिटाई करने वाले छात्र गुटों को चुन चुनकर पीटना शुरू कर दिया । हाॅस्टल में पिटाई के दौरान एक छात्र को छत से नीचे फेंका गया । जो गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती है।

उत्पाती छात्रों ने चंडी पंचायत भवन के पास कई घरों में हमला कर छात्रों के एक गुट की खूब पिटाई की।वहाँ से सभी छात्र चंडी डीह की ओर प्रस्थान कर गए। वहाँ भी किराए के मकान में रह रहे छात्रों की पिटाई शुरू कर दी।

घटना की सूचना मिलते ही थाना ध्यक्ष रामबदन सिंह ने नूरसराय,चंडी, थरथरी तथा नगरनौसा पुलिस बल को बुला लिया ।थानाध्यक्ष ने दिलेरी का परिचय देते हुए स्वयं मोर्चा संभाल लिया । उन्होंने सैकड़ों छात्रों को खदेड डाला । उत्पात मचा रहे कई छात्रों को हिरासत में भी लिया गया है।

पुलिस ने सभी छात्रों को चंडी फील्ड की ओर खदेडा तथा धमकी दी कि जो भी छात्र है सब अपने स्थान पर रूक जाएं नही तो अंजाम बुरा होगा कि धमकी के बाद छात्रों का उत्पात थमा

इस हिंसक झड़प में प्रथम वर्ष के लगभग दो दर्जन छात्र घायल हुए हैं ।पीड़ित छात्रों में दहशत बना हुआ है।कई छात्र हाॅस्टल से बाहर दूसरे साथियों के यहाँ शरण लिए हुए हैं । छात्रों के दोनों गुटों के बीच तनाव व्याप्त है।

इधर छात्रों के द्वारा फिर से चंडी बाजार में उत्पात मचाने को लेकर लोगों में आक्रोश देखा जा रहा है।लोगों ने कहा कि 2012 की पुनरावृत्ति फिर से हो सकती है।

राहत की बात कही जा सकती है कि अगर दिन के उजाले में इंजीनियरिंग छात्रों का तांडव होता तो छात्रों और बाजार के लोगों के बीच जमकर मारपीट हो सकती थी। फिलहाल पुलिस स्थिति को शांत बनाने की कोशिश में लगी हुई है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...