नालंदाः पुलिस साइबर सेनानी ग्रुप पर पोस्ट कर दिया यूं पोर्न वीडियो

Share Button

हिलसा  पुलिस डीएसपी  के अनुसार उन्हें जानकारी नहीं है। साइबर सेनानी ग्रुप पर गलत पोस्ट करना अपराध है। मामले की जांच कर वह कार्रवाई करेंगे। जाहिर है कि उनके के साथ नालंदा एसपी को ही अधिनस्थ थाना के साइबर सेनानी ग्रुप में शामिल नहीं किया गया है या फिर वे खुद उसपर नजर नहीं रखते………………..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। पुलिस मुख्यालय के वरीय अधिकारी के निर्देश पर जिले में व्हाट्एप पर साइबर सेनानी ग्रुप बनाया गया। मंशा थी अफवाहों पर विराम लगे। समाज में ऐसा संदेश न जाए, जिससे सौहार्द बिगड़े।

एसपी, डीएसपी से लेकर सभी थानेदारों द्वारा साइबर सेनानी ग्रुप बनाया गया। जिसमें समाज के गणमान्य लोगों के साथ जनप्रतिनिधियों को जोड़ा गया। ज्यादातर ग्रुप अपने मकसद से भटकता नजर आ रहा है।

सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए कम, साहब को खुश करने के लिए चापलूसी युक्त पोस्ट ज्यादा हो रहा है। ऐसे पोस्ट पर साहब भी गदगद हो रहे हैं।

हद तो तब हुई जब, सोमवार को खुदागंज थाना के साइबर सेनानी ग्रुप पर एक युवक ने पोर्न वीडियो क्लिप पोस्ट कर दिया। वह भी कुछ सेकेंड का नहीं, बल्कि 1 मिनट 46 सेकेंड का।

पोर्न फुटेज पोस्ट होने के बाद थानेदार ने ग्रुप पर मैसेज किया कि इस तरह का गंदा वीडियो पोस्ट करने से परहेज करें। नहीं तो ग्रुप से बाहर कर दिया जाएगा। थानेदार के इस संदेश के बाद पोर्न पोस्ट करने वाला शख्स ग्रुप से लेफ्ट कर गया।

कहते हैं कि साइबर सेनानी ग्रुप पर अश्लील वीडियो पोस्ट होने के कुछ ही मिनटों में यह इलाके में फैल गया। चौक चौराहे पर युवा अश्लील वीडियो की चर्चा करते देखे गए।

बुद्धिजीवी वर्ग के लोग इसकी आलोचना करते हुए पोस्ट करने वाले पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। ग्रुप में शामिल कुछ बुद्धिजीवियों ने बताया कि अश्लील वीडियो के कारण उन्हें अपने परिवार में शर्मिंदगी भी उठानी पड़ी।

कुछ पुलिस पदाधिकारियों के ग्रुप पर ज्यादातर चापलूसी युक्त पोस्ट किया जा रहा है। जिससे साहब भी गदगद हो रहे हैं। इसके विपरीत कुछ साइबर सेनानी पोस्ट अपनी सार्थकता भी साबित कर रहा है। जरूरी सूचनाएं पोस्ट होने पर पुलिस पदाधिकारी उसे संज्ञान में लेते हैं।

बता दें कि पुलिस महानिदेशक के आदेश पर सभी जिलों में साइबर सेनानी समूह का गठन किया गया। मंशा थी कि अफवाहों पर विराम लगाना। सोशल मीडिया के अविश्वसनीय संदेशों के प्रसार को रोक कर विश्वसनीय जानकारी जनता तक पहुंचाना। जनता भी आवश्यक सूचना पदाधिकारियों तक आसानी से पहुंचाए।

आमजनों की सहभागिता से साइबर सुरक्षा सुनिश्चित हो। सांप्रदायिक सौहार्द स्थापित करने के लिए त्योहारों के अवसर पर साइबर सेनानी आवश्यक सुझाव या सूचना पदाधिकारी तक पहुंचाएं। ऐसे ग्रुपों में पदाधिकारियों ने समाज के जिम्मेवार नागरिकों को जोड़ा।

Share Button

Related News:

डियावां-बेरथु सड़क की जर्जरता और जल जमाव से लोग हलकान
'मुजफ्फरपुर महापाप' को लेकर असरदार रहा बिहार बंद
वसूली का वीडियो वायरल होने के बाद ASI समेत 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड
बैंकों से नहीं मिल रहा पर्याप्त पैसा, नगरनौसा में लोग हलकान
राजगीर नगर पंचायत के मतदाता सूची में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी
गुवाहाटी IIT हॉस्टल में तीन छात्राओं को ड्रग्स देकर दो छात्रों ने किया यौन उत्पीड़न
बच्चे फेल नहीं हुए, आपका सिस्टम फेल हुआ साहब
सकारात्मक रही शीर्ष जिला प्रशासन और अधिवक्ता संघ की बैठक, लेकिन.....
पुलिस छापेमारी में  देह व्यापार का बड़ा खुलासा, 8 युवती समेत 14 धराए
मुश्किल में नीतिश-‘मर्डर केस’ की सुनवाई को लेकर SC तैयार
सीएम नीतीश के गांव की दयनीयता की चर्चा यूं खोल रही विकास की पोल
देखिये सुशासन बाबू के जिले के ग्रामीण अस्पतालों का हाल
नालंदा इंजीनियरिंग कॉलेज में हंगामा, प्राचार्य ने कहा- मर्माहत हूं मैं
क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म से नहीं करेंगे कभी समझौता :सीएम नीतीश
मिट्टी जांच के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति, मशीन बनी शोभा की वस्तु
स्व. राजीव गांधी जयंती के साथ ‘तीर का लक्ष्य’ विमोचित
बिहारशरीफ बड़ी पहाड़ी की दीवार खुदाई में मिले दुर्लभ अवशेष
रेलवे की बड़ी लापरवाही, खुली रही फाटक और यूं धड़धड़ाती गुजर गई ट्रेन!
सीएम नीतीश के सामने चेहरा चमकाने की मची होड़ के बीच खतरे में हरनौत के 'हरि'
बीरेन्द्र प्रधान के अध्यक्ष बनने के बाद झारखंड में लोजपा हो रही यूं मजबूत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...