नव नालंदा महाविहार प्रबंधन के इस गैर जिम्मेदाराना रवैये से उबले छात्र

0
15

नालंदा (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। आगामी 20 नवंबर को नव नालंदा महाविहार का 69वां स्थापना दिवस समारोह है। लेकिन इसमें छात्रों को अपनी कला-संस्कृति का प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं दी जा रही है। जबकि पिछले एक माह से वे अपने संस्थान की गरिमा में जी-जान से तैयारी में जुटे हैं।

ऐसे में सबाल उठना लाजमि है कि आखिर नव नालंदा विहार रजिस्टार हों या कुलपति,  छात्रों को अपने ही संस्थान के स्थापना समारोह कला की प्रस्तुति करने से बंचित क्यों रखने पर उतारु हैं। संस्थान के कर्णधार फंड का रोना भी नहीं रो सकते, क्योंकि मीडिया प्रबंधन-प्रचार आदि से लेकर अतिथियों के सेवा-सत्कार में लाखों रुपए उड़ाते रहे हैं।

छात्रों का कहना है कि संस्थान के कुलपति को 24 अक्टूबर को ही आवेदन देकर कार्यक्रम की सूचना दी गई थी और उसके बाद से सब स्थापना समारोह की तैयारी में जुट गए। बीते कल शनिवार को अचानक आवेदन अस्वीकृत की सूचना मिली। इसके बाद जब वे कुलपति से मिलने गये तो प्राध्यापक प्रो. राजेश रंजन ने अभद्र व्यवहार करते हुए मिलने नहीं दिया।

उसके बाद छात्रगण जब रजिस्ट्रार से मिले तो बताया गया कि आवेदन को उसी दिन कुलपति के पास अग्रसारित कर दिया गया था। उस आवेदन को एक कमरे से दूसरे कमरे तक पहुंचने में 20 दिन लग गए। इसका जबाव किसी के पास नहीं है।

उधर, छात्र-छात्राओं को गीत, संगीत, नाटक करने पर पाबंदी लगाने जाने के विरोध में नव नालंदा महाविहार छात्र संघ के पूर्व संयोजक डॉ अमित कुमार पासवान की अध्यक्षता में एक बैठक की गई।

नव नालंदा महाविहार छात्र संघ के पूर्व संयोजक डॉ अमित कुमार पासवान…

बैठक में श्री पासवान ने महाविहार भ्रष्टाचार का अड्डा बताते हुए कहा कि यहां छात्र-छात्राओं पर आए दिन शोषण व अत्याचार बढ़ता जा रहा है। स्थापना दिवस के मौके पर विगत 6 वर्षों से छात्र छात्राओं के द्वारा गीत, संगीत व नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति की जाती रही है। जिसका खर्च महाविहार देती थी। लेकिन इधर 24 अक्टूबर को प्रोग्राम का खर्च हेतु आवेदन दिया, जिस पर रजिस्टार के द्वारा अग्रसारित कर कुलपति के यहां भेज दिया गया।

लेकिन महाविहार प्रशासन के लापरवाही के कारण अधिकारियों ने विषयों के द्वारा आवेदन को रोक कर रखा गया और 15 नवंबर को कुलपति के यहां जब आवेदन प्रस्तुत किया गया तो उन्होंने कम समय रहने का हवाला देते हुए छात्रों की प्रस्तुति करने पर रोक लगाते हुए आवेदन को अस्वीकृत कर दिया। जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

श्री पासवान नव नालंदा महाविहार में कला संस्कृति का फैकल्टी खोलने, स्थापना दिवस के अवसर पर छात्रों के द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुति हेतु अध्यापक का नेतृत्व में कमेटी का गठन करने, महाविहार के विकास कार्यों के लिए एक स्पेशल कमेटी का गठन कर उसमें छात्रों की प्रतिनिधि रखे जाने आदि की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि मांगे अविलंब पूरा नहीं होने की स्थिति में छात्रों के द्वारा स्थापना दिवस समारोह का बहिष्कार करते हुए चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जाएगा।

इस मौके पर समाजसेवी डॉ अशोक कुमार उर्फ सुरेश भंते, छात्र संघ के नेता सूर्यमणि कुमार, रवि रंजन कुमार, कुमार रंजन, अभिषेक कुमार, मयंक कुमार, सूरज कुमार, शुभम कुमार, शिवांगिनी कुमारी, शिखा कुमारी, विकी कुमार, मनीष कुमार आदि लोग मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.