दुष्कर्म के बाद 9वीं की छात्रा की हत्या कर शव को यूं क्लास रुम में लटकाया

छात्रा सुबह करीब नौ बजे स्कूल गई थी। शाम तक नहीं लौटने पर उसकी तलाश शुरू की गई तो स्कूल के कमरे में पंखे से लटका उसका शव दिखा। उसके मुंह व हाथ भी बंधे थे…….”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क। गोपालगंज के बरौली थाना क्षेत्र के देवापुर स्थित प्लस टू स्कूल में छात्रा की हत्या के बाद फॉरेंसिक टीम ने पूरी घटना की छानबीन की।

इस बीच टीम के सदस्यों ने स्कूल की संचिकाओं को भी खंगाला। घंटों चली जांच के दौरान फॉरेंसिक टीम के सदस्यों ने छात्र-छात्राओं की उपस्थिति पंजी की जांच के बाद शिक्षकों से भी पूछताछ की। उधर पुलिस ने छात्रा की हत्या के पूर्व उसके साथ दुष्कर्म किए जाने की आशंका व्यक्त की है।

खबर है कि बरौली थाना क्षेत्र के देवापुर गांव की 9वीं कक्षा की एक छात्रा सोमवार की सुबह अपनी सहेलियों के साथ अपने गांव में स्थित प्लस टू स्कूल में पढ़ने के लिए गई थी।

शाम चार बजे स्कूल की छुट्टी होने के बाद भी जब वह घर नहीं लौटी तो चितित परिवार के लोगों ने उसकी खोजबीन शुरू की। काफी देर खोजबीन के बाद छात्रा के स्वजन स्कूल पहुंचे।

स्कूल के मुख्य गेट में ताला बंद देखकर गांव के लोगों ने वर्ग कक्षाओं में खिड़की के रास्ते झांककर देखना प्रारंभ किया। इसी बीच छात्रा का शव नवीं कक्षा के एक पंखे से लटकता दिखा।

ग्रामीण व परिवार के लोगों की सूचना के बाद बरौली थाने की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई तथा वर्ग कक्षा से छात्रा के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए शव को सदर अस्पताल भेज दिया।

पुलिस की सूचना के बाद मुजफ्फरपुर से पहुंची फॉरेंसिक टीम ने सदर अस्पताल में छात्रा के शव की जांच पड़तान की। बाद में टीम के सदस्य बरौली स्थित देवापुर प्लस टू स्कूल में पहुंचे तथा घटना स्थल की जांच की।

इस बीच टीम के सदस्यों ने स्कूल में छात्र उपस्थिति पंजी के अलावा अन्य कई बातों की जांच पड़ताल की। इस बीच टीम के सदस्यों ने स्कूल के शिक्षकों से भी पूछताछ की।

बरौली थाना पुलिस के अनुसार छात्रा के साथ दुष्कर्म की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ ही फॉरेंसिक टीम की रिपोर्ट आने के बाद ही इस बात का अंतिम तौर पर खुलासा हो सकेगा।

देवापुर स्थित प्लस टू स्कूल के वर्ग कक्ष में कक्षा 9 की छात्रा का शव मिलने के बाद स्कूल प्रशासन के विरुद्ध भी सवाल उठाने लगे हैं।

स्कूल के वर्ग कक्ष में छात्रा का शव होने के बावजूद स्कूल का मुख्य गेट बंद होने को लेकर पुलिस ने स्कूल के प्रधानाध्यापक के अलावा कई शिक्षकों से भी पूछताछ की।  छात्रा की हत्या के पूर्व उसके हाथ व पैर को बांधकर हत्या को आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया गया था।

उधर एसपी मनोज कुमार तिवारी ने एसडीपीओ सदर नरेश पारसवान के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर पूरे मामले की जांच करने का निर्देश जारी किया है।

एसपी मनोज तिवारी ने बताया कि छात्रा के चचेरे भाई ने कमरे में पंखे से झूल रहे उसके शव को उतार कर पुलिस को करीब डेढ़ घंटे बाद इसकी सूचना दी।

छात्रा की हत्या की खबर जंगल में लगी आग की तरह फैल गई। रात के अंधेरे में सैकड़ों की तादाद में ग्रामीण जुट गए। ग्रामीणों में गम व गुस्सा दिख रहा था। पुलिस आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने में जुटी हुई थी। स्कूल में आस-पास के ग्रामीणों का भी तांता लग गया।

मौत का पता चलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। घर की महिलाएं स्थल पर पहुंच कर रो -बिलख रही थी। आस पड़ोस के लोग भी स्कूल के अहाते में विलाप कर रहे थे।

पुलिस वारदात की सूचना देने वाले उसके चचेरे भाई से पूछताछ कर रही है। पंखे से लटकते हुए शव को खुद उतारने के डेढ़ घंटे बाद पुलिस को सूचना दिए जाने से पुलिस को उस पर शक है। देर रात पुलिस छात्रा के घर पहुंच कर परिजनों से भी घटना के संबंध में जानकारी लेने में जुटी हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.