थानेदार की शह पर एक बदमिजाज शराबी ड्राईवर यूं चलाते दिखा थाना, संपादक को दी भद्दी गालियां

Share Button

सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के राजगीर थाना को वहां पदस्थ पुलिस इंस्पेक्टर नहीं चलाता है। उसे संभालता है एक बदमिजाज शराबी नीजि  एसपीओ ड्राईवर, जो फोन पर शराब के नशे में धुत होकर फोन पर मां-बहन की गालियां बकता है और उससे ऐसा करवाता है वहां का थानेदार….”

राजगीर सीवरेज के इसी मेन होल में फेंका हुआ है बोराबंद सड़ी गली शव

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। बीते कल 18 मार्च दिन सोमवार की देर शाम राजगीर से एक खबर आई कि सीवरेज प्लाट के पास एक मेनहॉल में एक बोरे में एक सड़ी-गली शव फेंका हुआ है, जिसे ग्रामीण लोग पिछले 3 दिनों से देख तरह-तरह की चर्चाएं रहे हैं और राजगीर थाना पुलिस को इसकी भनक तक नहीं है। लोग इस बोराबंद शव को उसी का धड़ होने की शंका जताते मिले, जिसका सिर कुछ दिन पहले कुछ कुत्तों द्वारा नोचते देखा गया था।

वेशक यह एक हैरतअंगेज सूचना थी कि थाना से थोड़ी दूरी पर पिछले 3 दिनों से राजगीर सिवरेज के मेन होल में एक बोराबंद शव पड़ा हो और पुलिस को भनक तक मिले।

इसकी पुष्टि के लिए एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क की ओर से थानाधयक्ष संतोष कुमार को जब फोन किया गया तो उन्होंने अनभिज्ञता प्रकट की और जानकारी लेकर फौरिक पड़ताल की बात कही। इसके बाद करीब आधा घंटा बाद थानाध्यक्ष ने एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के संपादक को फोन कर घटनास्थल का लोकेशन मांगी।

इसके बाद एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क की ओर से राजगीर रिपोर्टर नीरज कुमार को थानाध्यक्ष संतोष कुमार को घटनास्थल की पहचान कराने को कहा गया। रिपोर्टर ने कई बार फोन करके थानाध्यक्ष को घटनास्थल की जानकारी ही नहीं दी, बल्कि यहां तक कहा कि यदि जरुरत हो तो वह रात में ही घटनास्थल पर चलने को तैयार हैं।

पिछले 3 दिनों से लोग राजगीर सीवरेज के मेन होल में बोराबंद शव को लोग देखने आ जा रहे हैं….लेकिन थानाध्यक्ष को पता नहीं था…..

इसके थोड़ी बाद राजगीर थाना पुलिस का वाहन चलाने वाला मुरारी कुमार नामक एक ड्राईवर रिपोर्टर नीरज को फोन करता है और घटनास्थल के बारे में जानकारी चाहता है। लेकिन जब उससे रिपोर्टर बार-बार उसका परिचय जानना चाहता है औऱ किसी पुलिस अफसर या थानाध्यक्ष से बात कराने को कहता है, लेकिन वह बदतमीजी पर उतर आता है।

रिपोर्टर और थाना पुलिस के नीजी ड्राईवर की उपलब्ध बातचीत की रिकार्डिंग में पिछे से आ रही आवाजें साफ बताती है कि ड्राईवर को थानाध्यक्ष या कोई अन्य पुलिस अफसर-कर्मी हैंडिल कर रहा है। चूकि एक्सपर्ट मीडिया न्यूज डेस्क की ओर से सीधे थानाध्यक्ष को सूचना की जानकारी दी गई थी, उस आलोक में उनकी सीधी भूमिका ही सामने आती है।

जब रिपोर्टर द्वारा कुछ आशंका जताते हुए सूचना दी तो एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के संपादक ने खुद राजगीर थाना के उस नीजि चालक को फोन कर मामले की जानकारी लेने की कोशिश की तो शराब के नशे में धुत उस चालक ने बदतमीजी करते हुए हर बार पर सिर्फ भद्दी-भद्दी गांलियां देते रहा। साथ ही यह भी कहा कि “हां वह शराब के नशे में है, कोई उसका क्या उखाड़ लेगा”। 

आखिर कौन है बदतमीज शराबी ड्राईवर मुरारीः

जानकार बताते हैं कि वह राजगीर थाना के किसी एसपीओ का ड्राइवर था और थानाध्यक्ष की वाहन या गश्ती वाहन चलाने का काम करता है। कुछ दिन पहले वह एक संगीन मामले में जेल जा चुका है। हालांकि अब सारे एसपीओ हटा दिए गए हैं। अब वह शराबी मुरारी थाना का वाहन चलाता है।

एक पूर्व थानाध्यक्ष ने उसकी गैरकानूनी हरकतों से अजीज आकर उसे थाना से हटा दिया था, लेकिन वर्तमान थानाध्यक्ष पुलिस इंस्पेक्टर संतोष कुमार ने उसकी मेहमानी करते हुए पुनः कार्य पर रख लिया है।

मुरारी एक नंबर का शराबी है। वह रोज शराब पीकर नशे में धुत रहता है और आमजन के साथ अपनी धौंस जमाते रहता है। वर्तमान थानाध्यक्ष का इतना खास आदमी माना जाता है कि उसके आगे सरकारी ड्राईवर की भी एक नहीं चलती। अन्य पुलिसकर्मी भी इसके आचरण से त्रस्त रहते हैं। लेकिन थानाध्यक्ष के दुलरुआ होने के नाते सब घुटने को विवश हैं।

वर्तमान थानाध्यक्ष  संतोष कुमार पहले इस्लामपुर सर्किल इंस्पेक्टर  था। वहां भी  एक पुलिस अफसर के रुप में छवि काफी विवादित रही है। 

बहरहाल, सारे मामले की जानकारी नालंदा एसपी नीलेश कुमार को दी गई है। उन्होंने कार्रवाई की बात कही है। अब देखना है कि इस मामले में वे किस तरह की कार्रवाई करने में समर्थ हो पाते हैं।     

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...