तब सिल्ली विधायक अमित कुमार ने गृह मंत्री से मिलकर की थी सीबीआई जांच की मांग

Share Button

“तब केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सिल्ली के विधायक अमित कुमार महतो को उनकी शिकायत पत्र की बाबत साफ शब्दों में बताया कि राज्य सरकार की ओर से ऐसी कोई पहल नहीं की गई है। यदि पहल की जाती तो वे ऐसे मामलो में फौरिक कार्रवाई की दिशा में कदम उठाते।”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। झारखंड की राजधानी रांची प्रक्षेत्र के सिल्ली विधान सभा के तात्कालीन झामुमो विधायक अमित कुमार महतो ने झारखंड प्रदेश की 3 चर्चित बिटिया की संदिग्ध मौतों की साबीआई जांच की मांग को लेकर भारत सरकार के केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे।

इस मुलाकात के बाद सबसे सनसनीखेज सूचना यह उभर कर सामने आई थी कि बिटिया बचाओ की नारे बुलंद करने वाली रघुवर सरकार ने अपनी घोषणा के अनुरुप आरटीसी इंजीनियरिंग कॉलेज की चर्चित निर्भया कांड की सीबीआई जांच की अब तक कोई पहल नहीं की है।

तब केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सिल्ली के विधायक अमित कुमार महतो को उनकी शिकायत पत्र की बाबत साफ शब्दों में बताया कि राज्य सरकार की ओर से ऐसी कोई पहल नहीं की गई है। यदि पहल की जाती तो वे ऐसे मामलो में फौरिक कार्रवाई की दिशा में कदम उठाते।

केन्द्रीय गृह मंत्री से मुलाकात करने के बाद श्री महतो ने नई दिल्ली से दूरभाष संपर्क में एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क को तब बताया था कि राज्य की पुलिस प्रमुख से लेकर सीएम रघुवर दास ने सार्वजनिक तौर पर कहा था कि आरटीसी इंजीनियरिंग कॉलेज की निर्भया के हत्यारों की पहचान कर ली गई है , वे सफेदपोश हैं और दो दिनों के भीतर वे सफेदपोश सलाखों के पीछे होगें। लेकिन आज तक कुछ नहीं किया गया।

श्री महतो ने यह भी कहा था कि जब सीएम को सफेदपोश की पहचान ज्ञात थी तो अब तक क्यों नहीं कोई कार्रवाई हुई। अगर वे राज्य पुलिस पर हावी हैं तो सीबीआई जांच की अनुशंसा करने की घोषणा को अमलीजामा क्यों नहीं पहुंचाया गया?

सिल्ली विधायक ने कहा कि इसके पहले भी वे केन्द्रीय गृह मंत्री से इस सिलसिले में मिले थे। उस वक्त भी यही कहा गया था। उसके बाद उन्होंने कई बार इस बाबत झारखंड के सीएम को पत्र लिखा, लेकिन उसका कितना असर हुआ, वह सब आज राजनाथ सिंह सरीखे गृह मंत्री से मिलने के बाद बखूबी हो गया।

उन्होंने कहा था कि दूसरी घटना गढ़वा की सोनाली के साथ हुई थी। उसको लेकर भी राज्य सरकार की ओर से कुछ नहीं कहा गया। इसे लेकर सीएम को कई बार अनुरोध आवेदन दिया।

उन्होनें कहा था कि तीसरी घटना गोल इंस्टीयूट की इच्छिता की है। जिसके बारे में सभी जानते हैं कि पीड़ित के अविभावक को कैसे खुद सीएम द्वारा डांट भगाया गया था। इसका वीडियो भी खुब वायरल हुआ था।

उन्होंने कहा कि इन तीनों मामले की जानकारी केन्द्रीय गृह मंत्री को दी गई है कि कैसे राज्य सरकार बिटियाओं के प्रति असंवेदनशील रवैया अपना रही है और सभी की बिना सीबीआई जांच खुलासा होना मुमकिन नहीं है।

कहते हैं कि इस मुलाकात की खबरों के बाद सरकार ने सीबीआई जांच के लिए भारत सरकार के गृह मंत्रालय को लिखा। उसके बाद सीबीआई ने आरटीसी इंजीनियरिंग कॉलेज की चर्चित निर्भया कांड को लेकर नए सिरे से मामला दर्ज करते हुए अपनी कार्रवाई शुरु की और देर-सबेर ही सही दरिंदे को खोज निकाला।

Share Button

Related News:

पूरी सिस्टम ध्वस्त, काली कमाई के सामने सब बौने, SDO भी असक्षम
'राजमिस्त्री' बने लालू-राबड़ी के 'कन्हैया' बटोर रहे सुर्खियां
अमरजीत सिंह होंगे हिलसा जेल के अधीक्षक
एक पिता ने दो पुत्री और एक पुत्र संग खाया जहर, चारो की मौत
अंततः रौशन ने बिहार परीक्षा बोर्ड और हेडमास्टर को कोर्ट में घसीटा
डॉ सुनील कुमार दुबे को मिला प्रदेश का बेस्‍ट आयुर्वेदाचार्य अवार्ड
एक इंटरनेशनल गोल्ड मेडलिस्ट खिलाड़ी, जो दूसरों की खेत में चला रहा हल-कुदाल
हर तरफ ओडीएफ के नाम पर हो रहा सिर्फ लूट-खसोंट
नये कॉलेजों में नये व्यवसायिक पाठ्यक्रमों का करें चयनः मुख्य सचिव
बोले वरिष्ठ भाजपा सांसद डॉ. सीपी ठाकुर- ‘अंग्रेजी हुकूमत से भी क्रूर हो गई है सरकार’
अवैध शराब के खिलाफ महिलाओं का थाना मार्च
सीधी ट्रक भिड़ंत में दो ड्राइवरों की मौत, पुलिस ने गायब किये 2 लाख रुपये!
विम्स रैंगिग मामले में नालंदा एसपी ने दिए जांच के आदेश
अब बिहार में नक्सलियों के 'प्रेशर माइंस'से निपटने के लिए एनएसजी देगी ट्रेनिंग 
पावापुरी चौक बाजार में शटर तोड़ लाखों की चोरी, उधर 500 मीटर दूर सोई रही पुलिस
'रेल दो या जेल दो' को लेकर 133 वें दिन भी महाधरना आंदोलन जारी
सरगना समेत तीन साइबर अपराधी चढ़े पुलिस के हत्थे
'ऐसे भांड़ नेता और अफसर पर केस कर उसे जेल में डाले सरकार'
खत्म हो पाएगी अनील सिंह का राजनीतिक वनवास?
आजसू नेता के ठिकाने फिर पड़े छापा,  मिले 3189 पेटी अवैध शराब  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...