डुमरिया चुंबन प्रतियोगिता को लेकर झारखंड में हंगामा

Share Button

इन दिनों झारखंड के पाकुड़ जिलान्तर्गत डुमरिया में आयोजित चुंबन प्रतियोगिता का मामला काफी गरम है। झामुमो विधायक दल की बैठक ने भी इस मामले को लेकर अहम फैसला लिया है।

विधायक साइमन मरांडी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन ने नोटिस के सात दिनों के अंदर साइमन मरांडी से मामले को लेकर जवाब मांगा गया है।

उधर मीडिया के जरिये इसे एक बड़ा मुद्दा बना कर सत्तारुढ़ भाजपा-आजसू के लोग आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है। राजधानी रांची समेत समूचे झारखंड में जहां-तहां विरोधी दल के विधायक साइमन मरांडी का विरोध व पुतला दहन के कार्यक्रम में जुट गई है।

क्या है मामला

लिट्टीपाड़ा में हर साल आयोजित होने वाले एक मेले में उन्होंने चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन किया, जिसमें विवाहित जोड़ों ने खुलेआम एक-दूसरे को चूमा।

विधायक साइमन मरांडी एवं प्रो स्टीफन मरांडी की मौजूदगी में हुई यह प्रतियोगिता सिदो-कान्हू मेले में आकर्षण का केंद्र रही।

इस क्षेत्र में पहली बार हुई चुंबन प्रतियोगिता को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। झारखंड में पहली बार आयोजित ऐसी प्रतियोगिता में 4 जोड़ों ने हिस्सा लिया। इन्होंने हजारों लोगों के सामने निःसंकोच होकर अपनी-अपनी पत्नी को चूमा।

डुमरिया मेले में चुम्बन प्रतियोगिता में चार आदिवासी जोड़ों ने हिस्सा लिया। इसे देखने के लिए भारी भीड़ जुटी थी। मेला में अन्य प्रतियोगिताएं भी हुईं थी।

लिट्टीपाड़ा विधायक साइमन मरांडी ने विजेताओं को पुरस्कृत किया। इस आयोजन को लेकर चर्चा प्रतिक्रिया हो दौर शुरू हो गया है।

हर साल की तरह इस साल भी डुमरिया में एक दिवसीय मेला का आयोजन किया गया था, लेकिन इस बार मेला में खेलकूद के अलावा पहली बार चुम्बन प्रतियोगिता का आयोजन भी हुई। इसमें आदिवासी चार विवाहित जोड़ों ने हिस्सा लिया। 

करीब चार हजार की भीड़ के बीच प्रतियोगिता में जिस तरह विवाहित जोड़ों ने चुम्बन शुरू किए तो लोग हैरत में पड़ गए। लोगों को लग रहा था कि कार्यक्रम में कोई प्रतिभागी शायद ही भाग ले, लेकिन एक के बाद एक चार जोड़े मैदान में उतरे।

इस प्रतियोगिता को देखने लिए लोग जमे रहे। विधायक साइमन मरांडी ने चारों प्रतिभागी जोड़ों के अलावा लांगडे एनेच, लावड़िया अचूर, डॉम डोल, झूमर नाच, महिला व पुरुष तीरंदाजी प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया था।

मेला को देखने घाघरजानी, मुर्गाडांगा, देवपुर, सुरसाटोला, डांगापाड़ा, तोड़ाई, हाथीगढ़, मोहनपुर, बड़तल्ला, मंझलाडीह आदि गांव के लोग पहुंचे थे।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.