डीजीपी साहब, ऐसे हड़काने से डरेगी-बदलेगी नहीं आपकी पुलिस

Share Button

“बिहार के डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय रेस में हैं और उनका फेस मीडिया में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है, लेकिन……”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। खबर है कि डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय के नवादा और टाउन थाना में आधी रात को पहुंचने की सूचना मिलते ही हड़कंप मच गया।

थानों में निरीक्षण के बाद बात करते हुए डीजीपी ने कहा कि दोनों थानेदार नालायक हैं। अब उन्‍हें सजा भुगतनी होगी। प्रमोशन पाकर डीएसपी बनने वाले थे। लेकिन अब विभागीय कार्यवाही होगी। जिदंगी भर इंस्‍पेक्‍टर ही बने रहेंगे।

गुप्‍तेश्‍वर पांडेय ने यह भी कहा कि चुनाव आ गया है। बहुत कुछ बदला नहीं जा सकता। आचार संहिता लागू होने वाला है।

उन्‍होंने मीडिया से कहा कि पूरे बिहार को पता है कि डीजीपी कभी भी पहुंच सकते हैं। कई जिले सुधर गए। लेकिन आरा नहीं सुधरा था। बहुत कुछ गड़बड़ है। पर अब सुधरना होगा। नहीं तो सभी समझ लें। वे पूरे बिहार को संदेश दे रहे हैं।

डीजीपी ने चेतावनी दी कि “जुआ–बालू–दारु का कारोबार कराने वाले थाने संभल जाएं। उनके रहते ऐसे लोग बच नहीं सकते। मैं दिन– रात काम कर रहा हूं। दो– ढ़ाई घंटे सोता हूं। आप मेरी आंखों में सूजन देख सकते हैं। ये सब इसलिए करता हूं, क्‍योंकि बिहार के लोगों की हिफाजत की जिम्‍मेवारी है।”

बतौर डीजीपी, “स्‍टेशन डायरी को थानेदारों ने पर्सनल डायरी समझ रखा है। ये सब चलने वाला नहीं है।कई – कई दिनों तक पेंडिंग रहती है स्‍टेशन डायरी।”

उन्‍होंने कहा कि “यह मानने में गुरेज नहीं कि आरा की स्थिति ऐसी है कि सिर्फ पैसे वालों के लिए थानेदार काम कर रहे हैं। गरीब – गुरबा का ध्‍यान नहीं रखते हैं। बिना वजह भी थाने में लाकर बंद कर देते हैं। जो थेथर हैं, उनकी थेथरई छुड़ा देना उन्‍हें आता है।छुड़ा भी देंगे।”

अचानक आरा पहुंचे डीजीपी ने कहा कि “एसपी के कंट्रोल में नहीं है थानेदार, एक्शन तो ऐसा होगा कि सब देखेंगे”।

बकौल डीजीपी, “बिहार में थानों की सबसे ज्यादा खराब हालत आरा की है। यहां जो इंस्पेक्टर राज चल रहा है उसको खात्मा होगा।”

डीजीपी ने कहा कि “जिसे एसपी के कंट्रोल में थानेदार नहीं, उन्हें भी अब सोचना होगा। ऐसे लोगों पर एक्शन तो ऐसा होगा कि आप लोग देखिएगा।”

डीजीपी ने कहा कि “आरा के हालात ऐसे हैं कि ना तो यहां थाना में पुलिस है, न ही कोई गश्ती है। जो नहीं सुनेगा वो नपेगा।”

बहरहाल, डीजीपी की ऐसी कार्यशैली जहां प्रशंसनीय भी है तो उनका इस तरह से मीडिया के जरिए सामने आना कई सबाल भी खड़े करते हैं। यदि समूची आरा पुलिस निकम्मी है तो उसे बदल दीजिए। किसने रोका है। आप विभागीय हाईकमान हैं।

थाना स्तर पर भी अपनी समस्याएं हैं। पुलिस कर्मियों को उससे नित्य दो-चार होना पड़ता है। डीजीपी आरा और नवादा पहुंच गए, लेकिन एक ट्रक ने सरमेरा थाना के पुलिस गश्ती दल को कुचल डाला। उसमें एएसआई कार्तिक कुमार की दर्दनाक मौत हो गई।

उनका पार्थिव शरीर बिहारशरीफ में पड़ा रहा, लेकिन उसपर डीजीपी साहब की नजर नहीं गई और न ही सीएम  साहब का। जबकी दोनों नालंदा की धरती पर ही थे।

कथार्थ, डीजीपी की नीति और नियत पर सबाल नहीं उठाए जा सकते। लेकिन मीडिया में जिस तरह के और जिस तरह से उनके वयान आ रहे हैं, वे कहीं न कहीं कार्यशील पुलिस का ही मनोबल तोड़ने वाला कहा जाएगा।  

Share Button

Related News:

RU के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा तथा कौशल विभाग में रोजगार मेला आयोजित
थाना में प्रेमी युगल ने लिए सात फेरे,बंध गए परिणय सूत्र में
स्कूल की विधि व्यवस्था चरमराई, न शौचालय-पानी और न शिक्षक-उपस्कर
जदयू नेता की पुलिस हाजत में मौत के बाद भड़के लोग, सड़क जाम, आगजनी
दस हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ धराये मानपुर अंचल के सीओ
लूट रहा राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि और निकम्मे बने सरकारी अधिकारी!
‘जय जवान जय किसान’ दिवस के रूप में मनाई जाएगी पूर्व पीएम की जयंती
नपेगें 'आर्थिक हल-युवाओं का बल’ योजना के प्रति लापरवाह अफसरः डीएम
हंगामा, गड़बड़ी, धांधली और उदासीनता के बीच प्रत्याशियों की किस्मत इवीएम बंद
देखभाल बिना नष्ट हो रही महाभारत काल की यह अदभुत धरोहर
जल्लाद राजः शराब कारोबारियों ने अखबार एजेंट को चाकू गोद-गोद कर मार डाला
नालंदा के बाढ़ प्रभावित इलाके का मुआयना करने पहुंचे डीएम और एसपी
झोला छाप डॉक्टर ने ली युवक का जान, क्लिनिक सील
नालंदा पहुंचे 29 देशों के करीब 200 बौद्ध धर्मावलंबी दल
शिवलिंग को लेकर हुई पुलिस-पब्लिक भिड़ंत में एक मौत, अनेक घायल, स्थिति तनावपूर्ण
यह रहा District Administration, Nalanda पर सबिता देवी के मामला का सच
बीएड और टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेजों की चांदी, लुट रहैं हैं छात्र, बेफिक्र है सरकार
मालिकाना हक को मंत्री सरयू राय ने दी हवा, बोले- अपनी साख बचाए सरकार
राजगीर अनुमंडलीय अस्पतालः आज डॉ. उमेश चन्द्रा सा बाड़ ही यूं खाते दिखे खेत
राजगीर नगर पंचायत की नई सरकार के सामने होगी ये चुनौतियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...