गृद्धकूट के शर्मनाक गोरखधंधे पर SDO पंगु, DM बोले- होगी कार्रवाई

Share Button

“एज एसडीएम-प्रशासनिक अधिकारी सारी कार्रवाई कर दी। हमने वहां ईमानदारी से जो करना था, वो कार्रवाई करते हुए कुछ को जेल भी भिजवाया। वहां पर पुलिस बल भी नियुक्त कर दिया। अब एएसआई वाले अपने आदमी को क्या भेज रहे हैं, नहीं भेज रहे हैं, उनसे बात कीजिए। हम आगे कुछ नहीं कर सकते। हालांकि नालंदा डीएम योगेन्द्र सिंह ने मामले की पड़ताल कर कार्रवाई करने  की बात कही है…..”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज (नीरज)। नालंदा जिले के अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन नगरी राजगीर के गृद्धकूट पर्वत पर जारी ठगी का गोरखधंधा को लेकर प्रशासन और विभाग एक दूसरे पर फेंकाफेंकी करने में लगे हैं। यहां तक कि डीएम को सूचना होने के बाबजूद इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं हो पाने से धंधेबाजों का मनोबल और भी बढ़ गया है।

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार रोजाना की भांति आज अहले सुबह भी कोई रंजीत कुमार नामक एक युवक, जो खुद को पुरातत्व विभाग कर्मचारी बताता है, वह आज भी पूरे गोरखधंधे की कमान संभाले दिखा। एक चाइनीज टीम को उपर ले गया और उसे गुमराह कर चढ़ावा के नाम पर वसूली की और यह खेला रोजाना की तरह देर शाम तक चलता रहेगा।

पुरातत्व विभाग से जुड़े कनीय लोग स्वभाविक चढ़ावा का नाम देते हैं। लेकिन इस सबाल का उनके पास कोई जबाव नहीं होता कि ये लाखों का देशी-विदेशी मुद्राओं का चढ़ावा जाता कहां है। किन लोगों के बीच बंदरबांट होता है। वह भी उस स्थिति में जब प्रशासन द्वारा वहां एक दंडाधिकारी समेत पुलिस बल की टीम तैनात कर रखी है। लेकिन उनकी उपस्थिति में भी सब कुछ पूर्ववत यथावत है।

इस संबंध में जब इस संवाददाता ने राजगीर एसडीओ संजय कुमार से बात की तो उन्होंने झुंझुलाते हुए कहा कि इसके लिए वे उनसे नहीं, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग से बात करें। नहीं तो एएसआई से बात करें। जो करवाता है, क्या करवाता है या नहीं करवाता है।

उन्होंने कहा कि एज एसडीएम-प्रशासनिक अधिकारी सारी कार्रवाई कर दी। अब एएसआई का साइट है। अमरेश पाठक है उसका इंचार्य, बोलिए तो उसका नंबर है। दे देते हैं। उससे बात कीजिए। वो क्या कर रहा है। बृजमोहन वर्मा क्या कर रहा है। उससे बात कीजिए।

उन्होंने दो टूक कहा कि हमने वहां ईमानदारी से जो करना था, वो कार्रवाई करते हुए रोक लगा दी। वहां पर पुलिस बल भी नियुक्त कर दिया। अब एएसआई वाले अपने आदमी को क्या भेज रहे हैं, नहीं भेज रहे हैं, उनसे बात कीजिए। हम आगे कुछ नहीं कर सकते।

इसके बाद इस संवाददाता ने सारी बातों की जानकारी नालंदा जिलापदाधिकारी योगेन्द्र सिंह को दी। उन्होंने मामले को गंभीरता से सुनते हुए त्वरित कार्रवाई करने की बात कही।

उधर, राजगीर एसडीओ संजय कुमार के आरोपों की बाबत राजगीर एएसआई प्रभारी अमरेश पाठक ने कहा कि यह सब रोकने की जबावदेही पुलिस-प्रशासन की है। यदि एसडीओ द्वारा मजिस्ट्रेट पुलिस बल तैनान किये गए हैं और फिर भी ऐसा कोई कार्य हो रहा है तो यह सब देखना भी प्रशासन का काम है। एसडीओ अपनी असक्षमता एएसआई पर फेंक बचना चाहते हैं।

317

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...