गिरती कानून-व्यवस्था के बीच थानों में इस बदलाव के असल मायने?

Share Button

बिहार के थानों में आज यानि 15 अगस्त से पूरी व्यवस्था बदल दी गई है। लेकिन यह बदलाव थानों की बदनाम पुलिसिंग पर कितना सकारात्मक असर डालेगा, यह तो आने वाला समय ही बताएगा………………”

पटना (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। सूबे के 994 थानों में आज से पुलिस की दो टीम अलग-अलग काम करेगी। पहली टीम कानून-व्यवस्था संभालेगी तो दूसरे के जिम्मे अनुसंधान का काम होगा।

थानों में एक मालखाना प्रभारी के अलावे थानाध्यक्ष के अलावे दो अपर थानाध्यक्ष होंगे। इसके अलावे बड़े अनुमंडल में सहयाक एसडीपीओ की भी तैनाती होगी है।

हालांकि सरकार ने अब तक सहायक एसडीपीओ की तैनाती नहीं की है। संभावना है कि शुक्रवार यानि 16 अगस्त तक वैसे बड़े अनुमंडलों में सहयाक एसडीपीओ की तैनाती हो जाएगी।

इसके अलावे सरकार ने स्वतंत्रता दिवस से हीं पुलिस जोन को खत्म कर दिया है। अब सिर्फ सिर्फ रेंज ही रह जाएंगे। बड़े रेंज में आईजी और छोटे रेंज में डाईजी की पोस्टिंग कर दी गई है।

नीतीश सरकार द्वारा यह बदलाव पुलिसिंग को चुस्त-दुरुस्त करने की दिशा में अहम बदलाव बताया जा रहा है। इन बदलाव को आज यानि स्वतंत्रता दिवस से प्रभावी बनाने का निर्णय लिया गया था।

बिहार में 1074 थाने हैं। इनमें अनुसूचित जाति एवं जनजाति और महिला थानों की संख्या 80 है। चूंकि इन थानों में सिर्फ अनुसंधान का काम होता है, लिहाजा इनमें कार्य बंटवारे का कोई मतलब नहीं है। बचे हुए 994 थानों में कानून-व्यवस्था और अनुसंधान देखने के लिए दो अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं।

कानून-व्यवस्था और अनुसंधान की जिम्मेदारी में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो इसके लिए थानों में दो अपर प्रभारी होंगे। एक अनुसंधान तो दूसरा कानून-व्यवस्था देखेगा। इनकी तैनाती कर दी गई है। थाने में मौजूद पुलिस अधिकारियों के बीच भी काम का बंटवारा कर दिया गया है।

सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत बल को दोनों इकाइयों में रखने के आदेश दिए गए हैं। स्थानीय जरूरतों के मुताबिक 75 प्रतिशत तक अनुसंधान और 25 प्रतिशत पुलिस अधिकारी कानून-व्यवस्था के काम में लगाए जा सकते हैं।

थाना प्रभारी और सर्किल इंस्पेक्टर के पद पर अब दागदार अधिकारी तैनात नहीं होंगे। पुलिस मुख्यालय के आदेश पर ऐसे 384 पुलिस अधिकारियों की छुट्टी 8 अगस्त तक कर दी गई थी। भविष्य में भी अब इन पदों पर सरकार के मापदंड में फिट नहीं बैठने वाले पुलिस अधिकारियों को तैनात नहीं किया जाएगा।

जोनल आईजी के पद को समाप्त कर दिया गया है। इनकी जगह सिर्फ रेंज ही रहेगा। पटना, भागलपुर, दरभंगा और मुजफ्फरपुर को जोन की जगह पुलिस रेंज में बदल दिया गया है। वहीं, बेगूसराय नया पुलिस रेंज बनाया गया है। यह आदेश भी आज से लागू हो गई है।

Share Button

Related News:

सावधान! कल कांग्रेस समेत 18 राजनीतिक दलों का है भारत बंद
कर्तव्यों का निर्वाहन करें आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, बच्चों को मिलेगी बेहतर संस्कार
रहुई प्रखंड के पतासंग स्कूल में मिड डे मिल का चावल यूं गायब
पिछले पांच वर्षों से कायम है चकला स्कूल परिसर की नारकीयता
बाबा मखदूम जहां की मजार पर चिरागा मेला की प्रशासनिक तैयारियां पूरी
2543वां महावीर निर्वाण महोत्सवः सज-धज यूं तैयार हुआ पावापुरी
आरटीआई एक्टिविस्ट पर फर्जी केस, पुलिस ने दिखाई बर्रबरता
अज्ञात महिला का शव मिला, हत्या से पहले दुष्कर्म की आशंका, जांच में जुटी पुलिस
अनुसंधान करने गया जा रहे दारोगा की मानपुर स्टेशन पर ट्रेन से कटकर मौत
गैंग रेप के बाद दरिंदों ने वीडियो बना किया वायरल, 2 धराए
थाना समेत लाइन हाजिर होने वाला प्रभारी सस्पेंड, 2 दारोगा पर मुकदमा
सीएम 7 निश्चय योजना की बैठक से बीडीओ गायब, डीएम ने एक दिन का वेतन रोका
मतदाता जागरूकता को लेकर पुलिस-प्रशासन की निकली साइकिल रैली
राजगीर थाना प्रभारी की इस गुंडागर्दी को लेकर उदासीन क्यों है नालंदा पुलिस-प्रशासन ?
बड़ा बेटा घर से भागा,बेटी ससुराल में मरी और अब अंतिम सहारा बेटा ने प्रेमिका के वियोग की खुदकुशी
नालंदा के विकास 'मणि' की उम्मीद जगाती 'सेटर्स' कल हो रही है रिलीज
थाना में घुसकर भाजपाईयों ने फिर की गुंडई, देखिए वीडियो
फूल-परात में यूं पैर धुलवा वायरल हो रहे झारखंड के सीेेम
71 हजार घूस लेते ACB के यूं हत्थे चढ़ा बोकारो DC का PA
‘ब्राह्मण बुड़बक और चाचा नेहरु चोरों का सरदार’ पढ़ा रहे हैं टीचर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...