खाकी के खौफ के बीच अनिश्चितकालीन बंद रहेगी सिलाव बाजार

Share Button

सिलाव (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज)। देश-दुनिया में अपने स्वादिष्ट खाजा के लिये मशहूर नालंदा जिले का सिलाव नगर बाजार एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार उस पर गंगा-यमुना तहजीब को लेकर उंगली उठी है। लेकिन यह उंगली किसी अमन-पंसद ने नहीं उठाई है, बल्कि पुलिस-प्रशासन के रहनुमाओं ने विधि-व्यवस्था के नाम पर उत्पन्न की है।

शुरुआती दौर में दो समुदाय के बीच टकराव की स्थिति की खबरें आई। बाद में यह साफ हुआ कि स्थानीय प्रशासन की गलती को ढकनें में माहिर आला हुकुमदारों की हिटलरशाही ने सारा बेड़ा गर्क किया है। अमन-चैन के पैरोकार प्रशासन ने ही सारे सिलाव को तनाव और खौफ के साये में ढकेल दिया है।

बहरहाल, प्रशासन की गलती और हिटलरशाही रवैये से सिलाव के लोग काफी क्षुब्ध दिख रहे हैं। समूचा सिलाव बाजार पूर्णतः बंद है। यह बंद अनिश्चितकालीन बताया जा रहा है। लोगों के चेहरे पर खाकी का खौफ साफ दिख रहा है। फिर भी वे प्रशासन के साथ आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं।

बंद समर्थकों का साफ कहना है कि पुलिस ने दर्जनों निर्दोष लोगों को को पकड़ कर हवालात में डाल रखा है। उसे जेल भेज दिया है और अपना धर-पकड़ अभियान जारी रखे हुये है। पहले निर्दोष लोगों को तत्काल रिहा किया जाये और पुलिस-प्रशासन की उत्पीड़न बंद हो। सरकार सारे मामले की उच्चस्तरीय जांच कर दोषी और जिम्मेवार सरकारी मुलाजिमों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे।

सिलाव के अनेक प्रबुद्ध लोगों ने एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के साथ अपनी बातचीत में स्पष्ट तौर पर कहा कि बीते कल बुधवार को यहां जो कुछ भी हुआ, उसके लिये सिर्फ और सिर्फ पुलिस-प्रशासन के लोग जिम्मेवार हैं।

रामनवमी शोभा यात्रा में सभी समुदाय के लोग शरीक थे। सब के सब आपसी सौहार्द और भाईचारा की मिसाल पेश कर रहे थे कि अचानक पुलिस-प्रशासन के लोग बीच में आ धमके और माहौल को प्रदुषित कर दिया। उनके आचरण भड़काने वाले थे।

सिलाव नगर पंचायत परिषद के अध्यक्ष विजय सिंह कहते हैं कि पुलिस-प्रशासन के लोग अपनी गलती छुपाने के लिये मनमानी कार्रवाई कर रही है। 30-40 निर्दोष लोगों को पकड़ लिया है। एकतरफा मनमानी कर रही है। सरकार को इस पर तत्काल कड़ाई से संज्ञान लेनी चाहिये। अन्यथा इसके नतीजे अच्छे नहीं होगें।

बकौल विजय सिंह, अभी पुलिस थाना में प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता चल रही है। सकारात्मक संकेत के बाद ही अनिश्चितकालीन बंद सिलाव बाजार के बारे कुछ कहा जा सकता है। सारे बाजारवासी पुलिस-प्रशासन के विरुद्ध एकजुट हैं।

सबकी मांग है कि निर्दोष लोगों को तत्काल छोड़ा जाये और सारे मामले की उच्चस्तरीय जांच कर दोषी प्रशासनिक लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो।

सिलाव दक्षिण से जिला परिषद सदस्य सत्येन्द्र कुमार पासवान बताते हैं कि समूचे सिलाव में प्रशासनिक भय का माहौल उत्पन्न हो गया है। पुलिसिया खौफ से महिलाएं तक घरों से नहीं निकल पा रही है। स्कूली बच्चे-बच्चियां तक को भय है कि कहीं पुलिस उसे भी दबोच न ले। अभी तक पुलिस ने जितने लोगों को पकड़ा है, उसमें पता नहीं कि किसे कहां ले जाकर रखा गया है। जोकि प्रायः निर्दोष हैं।

श्री पासवान कहते हैं कि पुलिस-प्रशासन के लोगों ने ही अपनी हरकतों से शोभा यात्रा में शामिल लोगों को भड़काया। बाद में उसे सिर्फ ताकत के बल दमन करने की नीति अपना ली हैं। यह एक गंभीर मसला है। अगर प्रशासन समय रहते अपनी गलतियां स्वीकार कर नहीं चेती तो इसके परिणाम अच्छे नहीं होगें।  

Share Button

Related News:

बिहारशरीफ में भगवान चित्रगुप्तजी महाराज के मंदिर निर्माण को लेकर भूमि पूजन
नालंदा के बिंद प्रखंड के राजस्व कर्मचारी की चलती बस में गोली मार कर नृशंस हत्या
शिक्षा माफिया से जुड़े हैं नालंदा में आज सरकारी शिक्षक की दिनदहाड़े हुई हत्या के तार !
नगरनौसा में बिजली की आंख मिचौली जारी, लापरवाह है विभाग
स्कूल की विधि व्यवस्था चरमराई, न शौचालय-पानी और न शिक्षक-उपस्कर
इस चोरी मामले में CM नीतीश कुमार पर 20 हजार रुपये का जुर्माना
पीडीएस सिस्टम में गड़बड़ी पर जीरो टॉलरेंस के तहत हो कार्रवाई :डी एम
रांची की रौनक छोड़ने को तैयार नहीं हैं भगवान बिरसा जैविक उद्दान के अफसर
नगरनौसा थानेदार पर बड़ा आरोप, घूस लेकर नहीं की कार्रवाई, इसी से भड़का आक्रोश
नियोजन रद्द, फिर भी मुखिया मांग रहा था बकाया पैसा, तंग शिक्षिका ने फांसी लगा ली
सोशल साइट पर बहस का मुद्दा बना केंद्रीय कृषि मंत्री की खुले में शुशू
पत्नी ने सूझबूझ से बचाई पति की जान, 4 धराए
नालंदा डीएम के कड़े निर्देश- प्राथमिकता से करें भूमि विवादों के निराकरण
सूबे के ये 41 पुलिस अफसर 10 साल तक नहीं बनेंगे थानेदार, देखें पूरी सूची
मुहाने नदी की उड़ाही होने से किसानों के बीच खुशी की लहर
राजगीर में लगी आग के बाद मची कोहराम, लेकिन नहीं पहुंचे DM-SP और MLA-MP
डाक्टर की जगह कम्पाउडंर कर रहा था इलाज, मौत के बाद फेंका शव, मचा बबाल
Ex. DGP डीपी ओझा उधेड़ सकते हैं CBI जांच की परतें
रघुवर सरकारः न जाने कल क्या होगा रामा रे!
83 वी जयंती समारोहः एक कुशल सर्जन, साहित्यकार और समाजसेवी थे डॉ. आर इसरी अरशद
सीएम नीतीश कुमार के गृह प्रखंड के अस्पतालों का जब ई हाल है तो बिहार को नीति आयोग रैंक देगा बाबाजी का...
नालंदा में एक करोड़ की जब्त शराब हुआ जमींदोज
ABC ने घूसखोर अभियंता और कृषि अधिकारी को पकड़ा
नालंदा डीएम की बड़ी कार्रवाई, पर्यवेक्षण गृह अधीक्षक समेत 8 कर्मी गए जेल
सुंदरपुर से फिर 6 साइबर अपराधी 12 मोबाइल के साथ गिरफ्तार
नालंदा एसपी के प्रयासों को यूं पलीता लगा रहे हैं थाना प्रभारी
राजगीर रोपवे का परिचालन 6 दिनों से ठप, सैलानियों में मायूसी
जिप सदस्य का देवर है यह, JDU MLA का बॉडीगार्ड रहा, सिर्फ इसलिये कार्रवाई से कतरा रही नालंदा पुलिस?
राष्ट्रीय लोक अदालत की तैयारियां पूरी, 4 न्यायपीठ करेगें मामले की सुनवाई
तेज रफ्तार ने ली तीन मासूम भाईयों की जान, नालंदा के चंडी थाना क्षेत्र की घटना
जानिएः बिहार के सभी 40 सीटों पर जदयू-भाजपा-लोजपा के कौन कहां से लड़ेंगे चुनाव
...तो क्या अब राजगीर थानेदार को हटाकर '10 वर्षीय मुहर' लगेगी!
भाकपा (माले) ने भुड़कुड़ में दबंगों के खिलाफ भरी हुंकार
बच्चों को सिखने के स्तर में गिरावट काफी चिंता का विषयः आर एल सिंह
शिक्षकों की दुश्मन है नीतीश सरकार :रौशन कुमार
“ कहअ हकई के तू मरल हकहीं, जिंदा कबे होबई बाबू ”
प्रशासनिक दावे फेल, हिलसा क्षेत्र में नहीं थमा अवैध खनन का खेल
रांची से देश को आयुष्मान योजना की सौगात, पीएम मोदी की कही खास बातें
जेसीएम ने इंटर कला संकाय में की 1200 सीटों की मांग
...लेकिन हर बार बलात्कार शब्द लिखते हुए कलम कांप उठती है ✍😢

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...