एनएच-33 फोर लेन पहुंचा 2 दर्जन हाथियों का झुंड, दहशत का महौल

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज। रामगढ़ जिले के रजरप्पा क्षेत्र में एक बच्चे का जान लेने के बाद जंगली हाथियों का झुंडा रांची जिले के ओरमांझी क्षेत्र पहुंच गई है। चुटूपालू मनातु पालु सहित कई गांव होते हुए जंगली हाथी कस्तुरबा गांधी विद्यालय के नजदीक पहुंचे गए, जिससे अचानक क्षेत्र के लोगों में दहस्त का महौल व्याप्त हो गया।

करीब 2 दर्जन हाथियों के झुंड में कई हाथी के बच्चे भी शामिल है। जंगली हाथी के पहुंचने की सूचना पर वनक्षेत्र पदाधिकारी चंद्रशेखर आजाद, रंजन करमाली के साथ पहुंचे। ग्रामीणों के बीच ट्रार्च वितरण किया।

हाथियों को क्षेत्र से निकालने का प्रयास जा रही है। चंद्रशेखर आजाद ने ग्रामीणों को हाथियों को छेड़ने से मना करते हुए कहा कि गुस्सा दिलाने से हाथी काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। अपने बच्चों पर खतरा का आभास होने पर हाथी हमला कर सकते हैं। ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत है।

वहीं पुलिस इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी संतोष कुमार ने बताया कि हाथी आने की सूचना है। पेट्रोलिंग पुलिस को बोल दिया गया है। पुलिस द्वारा सुरक्षा की दृष्टि से कार्य किया जा रहा है।

समाचार लेखन (रात 11 बजे तक) तक हाथियों का झुंड एनएच-33 फोर लेन मार्ग के पूरब सटे नकवा टोली और ओरमांझी बाजार के बीच देखा जा रहा है।

ग्रामीण पंपरागत तरीके से घेर कर उसे कहीं बीच रास्ता दिखाने की जुगत भिड़ाये हैं। संभावना है कि हाथियो की झूंड पांचा सिकीदिरी की ओर कूच कर जाये या फिर ओरमांझी थाना के पास पुल पार कर गगारी पहाड़ की ओर रुख कर लें।

फिलहाल हाथियों की झूंड से एक बड़ा आबादी दहशत के महौल में फंसी है। जानकारों के अनुसार हाथियों के मूल बसेरा रजरप्पा क्षेत्र में खनन माफियाओं के विस्फोट से यह खतरा उत्पन्न हुआ है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.