अब मोबाइल से बिना सिग्नल हो सकेगी बात

Share Button

बाजार में मोबाइल कंपनियों के बीच आगे निकलने की होड़ लगी हुई है, जिसके चलते हर वर्ग के मोबाइल फोन उपलब्ध है मगर फोन महंगा हो या सस्ता अगर उसमें सिग्नल ही न आएं तो वह किस काम का है।

मोबाइल में सिग्नल न आने की स्थिति में दूरसंचार कंपनियां इमरजेंसी कॉल का विकल्प देतीं है, जिसमें एक खास नम्बर को डायल करना पड़ता है।

इस तकनीक में सेल्युलर सिस्टम उस फोन की लोकेशन को ढूंड़ निकालता है जहां पर आप है। अक्सर देखा गया है दूरदराज के इलाकों में सिग्नल क्वॉलिटी इतनी खराब होती है कि बात करना मुमकिन ही नहीं हो पाता है। मगर जल्द ही इस मुश्किल से आपको छुटकारा मिल जाएगा।

ऑस्ट्रेलिया की फ्लाइंडर्स यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है, जिससे कम सिग्नल मिलने पर भी आप फोन में आराम से बात कर सकेंगे।

शोधकर्ताओं का कहना है अगर सिंग्नल बिल्कुल नहीं आ रहे हैं उस स्थिति में भी आपका मोबाइल पूरी तरह से काम करेगा। इसके लिए शोधकर्ताओ की टीम ऑस्ट्रेलिया के ऐसे दुर्गम इलाके में गई जहां पर मोबाइल सिग्नल नहीं आते थे मगर इस नई तकनीक के प्रयोग से उस इलाके में भी फोन ने काम करना शुरू कर दिया।

नई तकनीक में मोबाइल फोन के अन्दर एक छोटा सा सिग्नल टॉवर लगा होता है जो वाईफाई की मदद से सिग्नल प्रवाहित करता है। यही सिग्नल कुछ दूरी पर दूसरे मोबाइल फोन में पहुंच जाते है।

शोधकर्ताओ के अनुसार यदि इन सिग्नल के पावर को बढ़ा दिया जाए और छोटे छोटे ट्रांसपोंडर लगाए जाएं, तो मोबाइल फोन दूर कहीं स्थित बड़े मोबाइल टावर से सम्पर्क स्थापित कर लेता है जिससे दुर्गम इलाकों में भी संपर्क हो जाता है।

यह भी पढ़े  सिलेंडर में लगी आग, तारापुर विधायक दपंति झुलसे, पत्नी गंभीर

शोधकर्ताओं के अनुसार इस तकनीक की वजह से आपातकालीन स्थितियों में काफी मदद मिल सकती

Share Button

Related News:

कांग्रेसी जनवेदना में थाली बजाओ मोदी भगाओ!
इस बार बदल गया दही-चूरा के साथ राजनीति का भी स्वाद
यहां नीतीश कुमार नहीं, अपराधियों की बहार है
पत्रकार ने विधायक को पीटा, थाना में  मामला दर्ज
हदः रेप पीड़िता विक्षिप्त बच्ची की डॉक्टरनी ने नहीं की मेडिकल जांच, यूं अंगूठा लगवा लौटाया
थाना समेत लाइन हाजिर होने वाला प्रभारी सस्पेंड, 2 दारोगा पर मुकदमा
 AK-47 छोड़िए, अब AK-56 धारी हुए बिहार के अपराधी
आखिर एक्सपर्ट मीडिया वालों से पुलिस-प्रशासन को इतनी एलर्जी क्यों है भई !
कंकड़बाग में सरकारी पार्क पर बन रहा बिल्डिंग, ठेगें पर हाई कोर्ट का रोक
खत्म हो पाएगी अनील सिंह का राजनीतिक वनवास?
8 अप्रैल को तय होगा कि हम एनडीए में रहेंगे या नहीं : मांझी
इस सनकी बाप के अपराध को जान रह जाएंगे दंग!
मलमास मेलाः कौए नहीं आते, लेकिन हर कोई बन जाता है पंडा!
आधार कार्ड बना रोड़ा, पुलिस परिजनों को नहीं सौंप रही युवती की सिरकटी शव
गिरीडिह में आंधी तुफान, वेघर हो गये कई लोग, शासन से मदद की आस
शेखपुरा जिला के दस स्कूलों में खुलेगा क़ानूनी सहायता केंद्र
सम्राट महिषासुर सहादत दिवस पर संगोष्ठी एवं चिंतन शिविर का आयोजन
एसपी-डीएसपी के दुर्व्यवहार से भड़का अधिवक्ता संघ, कलम बंद निकाला प्रतिरोध मार्च
मलमास मेला व्यवस्था की निगरानी में खुद जुटे नालंदा डीएम-एसपी
राजद की राजनीति से महज इसलिए आउट है तेजस्वी !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Loading...